प्रदेश निरंतर विकास की ऊंचाइयों को छू रहा है: गोप

प्रदेश निरंतर विकास की ऊंचाइयों को छू रहा है: गोप
ग्रामीण पेयजल आपूर्ति एवं स्वच्छता परियोजना का राज्य स्तरीय शुभारंभ करते ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अरविन्द सिंह "गोप" और अधिकारीगण
ग्रामीण पेयजल आपूर्ति एवं स्वच्छता परियोजना का राज्य स्तरीय शुभारंभ करते ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अरविन्द सिंह “गोप” और अधिकारीगण
 
उत्तर प्रदेश के ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अरविन्द कुमार सिंह ’गोप’ ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश निरन्तर विकास की ऊंचाइयों को छू रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार का संकल्प है कि गांव का हर व्यक्ति मजबूत एवं स्वस्थ रहे और हर व्यक्ति को पीने का शुद्ध जल मिले। हर व्यक्ति अपने पैरों पर खड़े हो और गांव के अन्तिम व्यक्ति को सरकार की योजनाओं का लाभ मिले।
ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने आज जनपद इलाहाबाद में भारत सरकार एवं विश्व बैंक द्वारा सहायतित ग्रामीण पेयजल आपूर्ति एवं स्वच्छता परियोजना का बटन दबाकर शुुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि यह परियोजना गांव के विकास में वरदान साबित होगी। यह परियोजना गाँव की है, इसलिये गांव की योजना को गांव से ही शुरु किया जा रहा है। प्रदेश के 10 जनपदों में इस परियोजना का शुभारम्भ इलाहाबाद के इस ग्राम चनैनी से शुरू हो रहा है। उन्होंने कहा कि गांव के हर व्यक्ति को शुद्ध जल मिले यही सरकार का संकल्प है। उन्होंने गांव वालों का आह्वान किया कि इस परियोजना को मजबूती से चलाना, कामयाब करना एवं उसका उचित रख-रखाव करना गांव के लोगों की नैतिक जिम्मेदारी है। इस परियोजना को गांव के लोग अपना समझें और इसका पूरा फायदा उठाएं।
प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लैपटाॅप नेे शिक्षा के क्षेत्र में एक क्रान्ति पैदा की है। सरकार ने गरीब किसान एवं नौजवानों का हमेशा ख्याल रखा है। उन्होंने गांव वालों को अपने-अपने घरों में शौचालय का निर्माण करने को कहा। साथ ही, कूड़ा प्रबंधन के लिये इच्छा शक्ति पैदा करने को भी प्रेरित किया। प्रदेश सरकार गरीबों के लिये लोहिया आवास बनवा रही है। बेहतर लोहिया आवास में सोलर लाइट एवं पंखे की भी व्यवस्था करायी जा रही है। उन्होंने टोन्स नदी कोड़हार घाट पेयजल योजना को स्वीकृत करने की घोषणा करते हुये कहा कि इस पेयजल योजना से 03 लाख की आबादी को लाभ मिलेगा।
इस अवसर पर ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने बटन दबाकर पेयजल योजना की वेबसाइट को लांच किया। उन्होंने ग्राम चनैनी की दो बालिकाओं रानी बानो एवं निशा विश्वकर्मा को सिलाई मशीन भी प्रदान की। प्रारम्भ में मंत्री जी ने दीप प्रज्ज्वलित करके इस परियोजना का शुभारम्भ किया।
 प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास अरूण कुमार सिंघल ने बताया कि सरकार ने निर्णय लिया है कि आने वाले वर्षों में सभी गाँव में पाइप्ड पेयजल आपूर्ति योजनाएं शुरू की जाएंगी, जिससे गांव के घर-घर में सुरक्षित पानी पाइप के माध्यम से पहुंच सके। भारत सरकार के इस स्टेटजिक प्लान का लक्ष्य है कि वर्ष 2022 तक देश के सभी गांव में कम से कम 90 प्रतिशत घरों को पाइप्ड पेयजल आपूर्ति उपलब्ध हो और कम से कम 80 प्रतिशत घरों में पाइप्ड पेयजल आपूर्ति घरेलू कनेक्शन के माध्यम से की जाए।
इस परियोजना की मदद से प्रदेश के 10 ऐसे जिलों में पाइप्ड पेयजल योजनाएं शुरू होंगी, जहां पर या तो गर्मियों में पानी का संकट उत्पन्न होता है या जल की गुणवत्ता की समस्या है। इस परियोजना में गोण्डा, बस्ती, बहराइच, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बलिया, गाजीपुर, इलाहाबाद और सोनभद्र जिलों को चयन किया गया है। यही नहीं, इन गांवों में स्वच्छता कार्यक्रम के तहत शौचालय निर्माण, कूड़ा प्रबंधन एवं समुचित जल निकासी आदि की व्यवस्था भी की जाएगी। इस परियोजना में कुल 2035 करोड़ रुपए का व्यय होंगे, जिसमें से 1615.60 करोड़ रुपए भारत सरकार और विश्व बैंक से प्राप्त होंगे और शेष 419.4 करोड़ रुपए की राशि प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध करायी जाएगी। उन्होंने कहा कि गांव के लोग पेयजल योजना का ठीक से संचालन करेंगे तथा शौचालय का इस्तेमाल करेंगे।
सचिव ग्राम्य विकास सुधीर कुमार श्रीवास्तव ने भी इस परियोजना के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुये बताया कि 10 जनपदों के 1000 ग्राम पंचायतें आच्छादित होंगी और 28 लाख की आबादी को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध होगा। योजना क्रियान्वयन हेतु विश्व बैंक द्वारा तीन चरण निर्धारित किए गए हैं। प्रथम चरण में 30 प्रतिशत तथा द्वितीय व तृतीय चरण में 35-35 प्रतिशत कार्य पूर्ण किए जाएंगे।
आयुक्त इलाहाबाद मंडल बादल चटर्जी ने कहा कि विकास में हम आंधी की तरह आगे बढ़ रहे हैं। डेवलपिंग के लिये सभी को मिल-जुलकर एक जन आन्दोलन के रूप में कार्य करना पड़ेगा। विधायक अजय भारतीय एवं विधायक गिरीश चन्द्र पाण्डेय उर्फ गामा पाण्डेय ने भी इस परियोजना को गांव के विकास में एक महत्वपूर्ण कड़ी बताया और कहा कि प्रदेश सरकार गांव के समग्र विकास के लिये कृत संकल्प है। विश्व बैंक की कोआॅर्डिनेटर एलिना एवं विश्व बैंक अधिकारी स्मृता मिश्रा ने परियोजना के महत्वपूर्ण बिन्दुओं की जानकारी दी और कहा कि सरकार और संस्थाओं के सहयोग से संचालित इस परियोजना से घर-घर शुद्ध पेयजल मिलेगा।
जिलाधिकारी पी. गुरूप्रसाद ने सब के प्रति आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश के लिए यह महत्वपूर्ण योजना है। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में 68 हजार हैण्डपम्प लगाए गए हैं और 54 पेयजल परियोजनाएं संचालित हैं। उन्होंने कहा कि इस परियोजना में ग्रामवासियों की सहभागिता निर्धारित की गयी है और इस परियोजना के संचालन में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं आएगी। पेयजल की जो योजनाएं संचालित हैं, उसमें यदि कोई कमी पाई जाएगी, तो उसे तत्काल दूर कराया जाएगा। इस अवसर पर शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण, जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Leave a Reply