दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ और क्राइम रिपोर्टर का तांडव

दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ और क्राइम रिपोर्टर का तांडव

– शहर के प्रतिष्ठित होटल रीजेंसी में देर रात किया बवाल

– एसपी सिटी के सरंक्षण के चलते पुलिस नहीं करती कार्रवाई

जंगल में धुत पड़े लोकेश का फाइल फोटो
जंगल में धुत पड़े लोकेश का फाइल फोटो

बदायूं स्थित दैनिक जागरण कार्यालय में तैनात ब्यूरो चीफ लोकेश प्रताप सिंह का तांडव बढ़ता ही जा रहा है। शहर के प्रतिष्ठित होटल रीजेंसी में क्राइम रिपोर्टर ग्रीश पाल के साथ उसने रात जमकर बवाल किया। कोतवाली पुलिस के साथ पहुंचे सीओ सिटी ने किसी तरह स्थिति संभाल ली, जिससे और बवाल होने से बच गया। होटल के प्रबंधक ने दोनों के विरुद्ध नामजद तहरीर सदर कोतवाली में दी है, लेकिन सुबह तक मुकदमा नहीं लिखा गया है।

रीजेंसी होटल के प्रबंधक की तहरीर के अनुसार बीती रात करीब 11: 30 बजे शराब के नशे में धुत लोकेश प्रताप सिंह और ग्रीश पाल आये और होटल में कमरा देने को कहा, जवाब में प्रबंधक ने आईडी मांगी, तो दोनों लोग उसे गलियां देने लगे, प्रबंधक ने गालियों का विरोध किया, तो दोनों ने प्रबंधक को पीटा ही नहीं, बल्कि पुलिस को यह कह कर बुला लिया कि होटल में वेश्यावृति कराने वाली लड़कियां हैं। शिकंजा कसने की बजाये पुलिस ने भी लोकेश के दबाव में होटल को तीन बार खंगाला, पर होटल में ऐसा कुछ नहीं मिला, इस बीच प्रबंधक ने मालिक को सूचना दे दी एवं सीओ सिटी भी मौके पर आ गये और नशे में धुत लोकेश व ग्रीश को उनके घर भेज दिया, साथ ही प्रबंधक को ही समझाने लगे, पर बेवजह हुई बदतमीजी से आक्रोशित प्रबंधक ने दोनों के विरुद्ध सदर कोतवाली में रात में ही तहरीर दे दी, लेकिन पुलिस ने सुबह तक मुकदमा दर्ज नहीं किया है, जिससे मामला बढ़ सकता है।

जंगल में टुन्न अवस्था में बैठे लोकेश का एक और फाइल फोटो
जंगल में टुन्न अवस्था में बैठे लोकेश का एक और फाइल फोटो

उल्लेखनीय है कि शराब पीकर तांडव करना लोकेश के लिए आम बात हो गई है। आये दिन कहीं न कहीं बवाल करता ही रहता है, पर एसपी सिटी मानपाल सिंह चौहान का खुला सरंक्षण होने के कारण पुलिस लोकेश के विरुद्ध कार्रवाई नहीं कर पाती। लोकेश के सताए लोगों में एसपी सिटी मानपाल सिंह चौहान के विरुद्ध भी रोष पनप रहा है, पर वह सब नज़र अंदाज़ कर रहे हैं। लोकेश के कुकृत्यों के बारे में संपादक, महाप्रबंधक और मालिक को भी पीड़ित लोगों ने अवगत करा दिया है, लेकिन जागरण प्रबंधन भी लोकेश पर अंकुश नहीं लगा पा रहा है, जिससे लोकेश का दुस्साहस लगातार बढ़ता ही जा रहा है।

खैर, रात की घटना को लेकर एक सवाल सभी के मन में बार-बार उठ रहा है कि लोकेश और ग्रीश बदायूं में परिवार सहित रहते हैं, तो रात के 11:30 बजे इन लोगों को होटल में कमरा लेने की क्या जरुरत पड़ गई, इस सवाल का जवाब पुलिस ही ले सकती है, पर एसपी सिटी के सरंक्षण के चलते पुलिस इस सवाल का जवाब लोकेश और ग्रीश से शायद ही ले पाये।

2 Responses to "दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ और क्राइम रिपोर्टर का तांडव"

  1. DPMISHRA   August 15, 2013 at 4:39 PM

    very good report

    Reply
  2. gramin ptrkar   August 20, 2013 at 10:07 AM

    बड़े पत्रकार शराब और शवाब के शौक़ीन होते हैं |

    Reply

Leave a Reply