दिल्ली में रेप की घटना पर मीडिया से काटजू का सवाल

दिल्ली में रेप की घटना पर मीडिया से काटजू का सवाल
जस्टिस एम. काटजू

भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने सवाल उठाया है कि सामूहिक बलात्कार की घटना दिल्ली के बाहर हुई होती, तो मीडिया इसी तरह उस घटना को भी स्थान देता या नहीं। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि मुझे पूरा विश्वास है कि ऐसा नहीं होता, निश्चित रूप से दिल्ली पूरा भारत नहीं है। काटजू ने कहा कि विभिन्न राज्यों में पिछले 10-15 साल में ढाई लाख किसानों ने आत्महत्या कर ली, जो कि अपने आप में एक रिकार्ड है, पर शायद ही इसपर कभी ऐसी हायतौबा मची हो। देश में 48 प्रतिशत बच्चे कुपोषित हैं। भारत की हालत सोमालिया व इथियोपिया से भी बुरी है। बेरोजगारी, गरीबी, स्वास्थ्य, शिक्षा और महंगाई की समस्याएं हैं। काटजू ने कहा कि मैं यहां रेप को उचित ठहराने की प्रयास नहीं कर रहा, मैं सिर्फ लोगों से संतुलन में रहने और दिल्ली की गैंगरेप की घटना को ऐसा उछाल न देने की प्रार्थना कर रहा हूं, जैसे कि ये देश की अकेली समस्या हो। उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 376 के तहत पहले से ही रेप के लिए अधिकतम सजा उम्रकैद निर्धारित है और मुझे इसमें फांसी की सजा का प्रावधान जोड़ने का कोई कारण नजर नहीं आता।

Leave a Reply