ज्योति सिंह के गुनहगारों को मिली फांसी की सज़ा

ज्योति सिंह के गुनहगारों को मिली फांसी की सज़ा
  • फैसला सुनते ही विनय की निकल गई चीख
ज्योति सिंह के गुनहगारों को मिली फांसी की सज़ा
ज्योति सिंह के गुनहगारों को मिली फांसी की सज़ा

देश को हिला देने वाली बलात्कार की घटना के चार गुनहगारों को फास्ट ट्रैक कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश योगेश खन्ना ने आज दोपहर ढाई बजे कमरा नंबर 304 में फांसी की सजा सुनाई है। फैसला आते ही देश भर में फैसले का स्वागत किया जा रहा है।

साकेत स्थित न्यायालय ने इस घटना को जघन्य वारदात मानते हुए फांसी की सज़ा सुनाई है। अदालत का फैसला सुनते ही अदालत में मौजूद तीन दरिंदे सुबकने लगे और विनय चीख पड़ा। बचाव पक्ष के वकील एपी सिंह ने स्पष्ट कहा कि राजनीतिक दबाव में लिया गया फैसला है। उन्होंने कहा कि यह फैसला केंद्र सरकार के दबाव में लिया गया है।

उल्लेखनीय है कि 16 दिसंबर 2012 को वसंत विहार में रात 9.30 बजे चलती चार्टर्ड बस में फिजियोथेरेपिस्ट ज्योति सिंह पाण्डेय के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया और उसके साथी मित्र को घायल कर बस से फेंक दिया गया था। गंभीर हालत में ज्योति को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया और 17 दिसंबर को मुकदमा दर्ज हुआ था। हालत बिगड़ने पर ज्योति को विशेष विमान से सिंगापुर उपचार के लिए भेजा गया, लेकिन 29 दिसंबर की रात में उसने दम तोड़ दिया, इससे पहले दिल्ली के साथ देश भर में आंदोलन हुआ और तमाम लोग पुलिस की कार्रवाई में घायल भी हुए। संसद क्षेत्र में धारा 144 तक लगानी पड़ी थी।