चीन भी जूझ रहा बेरोजगारी की समस्या से

चीन भी जूझ रहा बेरोजगारी की समस्या से

 

अमेरिका और ब्रिटेन के बाद अब चीन में भी रोजगार का संकट पैदा हो गया है। चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने चेतावनी देते हुए कहा कि, चीन की सुस्त चल रही  अर्थव्यवस्था के चलते रोजगार संकट बढ़ सकता है। प्रधानमंत्री वेन के रोजगार पर एक राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होने चीन के आर्थिक विकास की मौजूदा स्थिति पर चिंता जताई। सरकार ने प्रधानमंत्री का यह भाषण सरकारी वेबसाइट पर जारी किया। वेन ने कहा कि विश्व में चल रहे वित्तीय संकट का प्रभाव चीन के रोजगार पर भी पड़ेगा और यह कुछ समय बना रह सकता है। उन्होंने चीन के आर्थिक विकास की गति पर ध्यान देने को कहा, जिससे रोजगार की समस्या का समाधान हो। इसके लिए रास्ता सुझाते हुए उन्होंने कहा कि, हमें श्रम साध्य विनिर्माण उद्योग तथा सेवा क्षेत्र के विकास को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री की इस चिंता का कारण चीन की दूसरी तीमाही की विकास दर है जो केवल 7.6 है। यह पिछले तीन सालों में सबसे कम है। वेन ने कहा कि, बेरोजगारी के चलते ग्रामीण क्षेत्रों के लोग शहरों में आ रहे हैं। यह संख्या 25 करोड़ के आसपास है। 2003 में यह संख्या लगभग इसकी आधी थी।

 

Leave a Reply