केन्द्रीय सुरक्षा बल के रूट मार्च में घूमा सपा नेता

केन्द्रीय सुरक्षा बल के रूट मार्च में घूमा सपा नेता
रूट मार्च के दौरान डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी के साथ मोबाइल में कुछ देखते सपा नेता वीरेन्द्र धींगड़ा।
रूट मार्च के दौरान डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी के साथ मोबाइल में कुछ देखते सपा नेता वीरेन्द्र धींगड़ा।

भारत निर्वाचन आयोग की सख्ती और बदायूं में तैनात तेजतर्रार व ईमानदार प्रेक्षकों की मौजूदगी के बावजूद जिला निर्वाचन अधिकारी व प्रमोटिड आईएएस चंद्रकांत त्रिपाठी सत्ताधारी दल समाजवादी पार्टी को लाभ पहुँचाने के लिए लगातार कार्य करते नज़र आ रहे हैं। चुनाव को भयमुक्त, निष्पक्ष तथा स्वतन्त्र रूप से सम्पन्न कराने का संदेश देने के लिए रविवार को बदायूं नगर क्षेत्र में पैरामिलिट्री फोर्स, एसएसबी, बीएसएफ तथा राजस्थान एवं पंजाब पुलिस ने रूट मार्च किया, लेकिन इस रूट मार्च का डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी स्वयं के साथ समाजवादी व्यापार सभा के जिलाध्यक्ष वीरेन्द्र धींगड़ा से नेतृत्व करा रहे थे, जिससे यह बात आम हो चली है कि चुनाव निष्पक्ष कैसे हो सकेंगे, क्योंकि स्थानीय प्रशासन की कार्यप्रणाली को लेकर कुछेक लोगों में खौफ बरकरार नज़र आ रहा है। आयोग की निष्पक्ष चुनाव कराने की मंशा पर डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी ने फिलहाल पानी फेर दिया है।

उल्लेखनीय है कि जिलाधिकारी चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी ने रविवार को रूट मार्च का नेतृत्व किया। फ्लैग मार्च पुलिस लाइन से शुरू हुआ और गाड़ियों का काफिला इन्दिरा चौक होते हुए दातागंज तिराहा, जफा की कोठी, शहबाजपुर, टिकटगंज एवं हलवाई चौक होते हुए घण्टा घर पर जाकर रूका। यहां से सभी अधिकारियों एवं फोर्स ने पैदल चलकर सब्जी मण्डी, गांधी ग्राउण्ड, पनबड़िया बिजली घर, कैलाश टाकीज, लाबेला चौक, नेहरू चौक, मोहल्ला सोथा, कबूलपुरा होते हुए अधिकारियों और फोर्स का काफिला लालपुल की ओर से उझानी चला गया। इसी रूट मार्च का नेतृत्व डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी के साथ समाजवादी व्यापार सभा के जिलाध्यक्ष वीरेन्द्र धींगड़ा करते नज़र आ रहे थे, जबकि इस रूट मार्च में तेजतर्रार व ईमानदार व्यय प्रेक्षक दिनेश कुमार मीना भी मौजूद थे। व्यय प्रेक्षक श्री मीना स्थानीय नेताओं को चेहरे या नाम से नहीं जानते हैं, वह पहचानते तो ऐसा नहीं होने देते, पर सवाल यह है कि डीएम जान कर समाजवादी पार्टी के नेता को अपने साथ क्यूं घुमा रहे थे?

रूट मार्च के दौरान डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी के साथ घुमते सपा नेता वीरेन्द्र धींगड़ा।
रूट मार्च के दौरान डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी के साथ घुमते सपा नेता वीरेन्द्र धींगड़ा।

जाहिर है कि डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी ने आम जनमानस में यह संदेश देने का प्रयास किया कि प्रशासन समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी के साथ है, ऐसे वातावरण में जनता भयमुक्त हो पायेगी, यह उम्मीद कम ही है। आम मतदाताओं को भयमुक्त करने के लिए निर्वाचन आयोग को तत्काल कड़ा कदम उठाना ही होगा। डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी को हटाये बिना जनता में अब सकारात्मक संदेश नहीं जायेगा। इस रूट मार्च में एसपी सिटी मानपाल सिंह चौहान भी प्रमुख रूप से मौजूद थे, इसलिए वे भी डीएम चन्द्रप्रकाश त्रिपाठी के बराबर के ही दोषी हैं, क्योंकि इन लोगों की जम्मेदारी थी कि स्वयं सपा नेता को नहीं हटा सकते थे, तो श्री मीना को बताते, पर ऐसा नहीं किया, जिससे साफ है कि इन्होंने समाजवादी पार्टी को लाभ पहुंचाने की नीयत से जान कर सपा नेता को साथ घुमाया।

Leave a Reply