एसओ और एसआई सहित दस लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज

एसओ और एसआई सहित दस लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज
  • हवालात में बर्बरता पूर्वक पीट कर निर्दोष युवक को मौत के घाट उतार दिया था
पोस्टमार्टम हाउस पर जमा शोकग्रस्त भीड़
थाना परिसर में जमा शोकग्रस्त भीड़

बदायूं जिले के थाना हजरतपुर की हवालात में बर्बरता पूर्ण तरीके से निर्दोष युवक को मौत के घाट उतारने के सनसनीखेज प्रकरण में एसओ और एक एसआई के साथ दस लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी यह साफ हो गया है कि युवक की मौत चोट के कारण फेफड़ा फटने से हुई है।

उल्लेखनीय है कि बीती रात थाना हजरतपुर पुलिस ने बर्बरता पूर्ण तरीके से एक निर्दोष युवक प्रवेश गिरी को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया था। गौरतलब है कि इसी थाना क्षेत्र के गाँव बघौरा निवासी मुन्ना गिरी ने बहेलिया जाति की एक लड़की शेशवती से भाग कर प्रेम विवाह कर लिया है। इस मामले में लड़की के परिजनों ने मुन्ना गिरी के विरुद्ध मुकदमा लिखाया था, लेकिन प्रेमी युगल ने विवाह के प्रमाण पत्र के आधार पर हाईकोर्ट से मुकदमा खत्म कराने का आदेश प्राप्त कर लिया था और पुलिस को भी दे दिया था, इसके बावजूद पुलिस मुन्ना के परिजनों और रिश्तेदारों को लगातार परेशान कर रही थी। मृतक प्रवेश भी मुन्ना का ही भाई है, जो दस दिनों से हवालात में बंद था और इसे एसआई बलवीर सिंह ने गिरफ्तार किया था।

मृतक प्रवेश गिरी का फ़ाइल फोटो
मृतक प्रवेश गिरी का फ़ाइल फोटो

इसके अलावा यह भी खुलासा हुआ है कि कुछ दिन पहले मुन्ना के ताऊ को गाँव के चौराहे पर एसओ हरचरण सिंह यादव ने ही बेरहमी से पीटा था और मूंछें उखाड़ ली थीं, साथ ही लड़की पक्ष के लोगों से मुंह में पेशाब डलवाई थी, पर वरिष्ठ अधिकारी प्रवेश की मौत के बाद हरकत में आये हैं। एसओ हरचरण सिंह यादव, एसआई बलवीर सिंह के साथ लड़की के पक्ष सात लोगों सहित कुल दस लोगों के विरुद्ध मृतक के चचेरे भाई पटे गिरी की तहरीर पर हत्या और हत्या के बाद साक्ष्य मिटाने का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एसओ हरचरण सिंह यादव को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दलवीर सिंह यादव ने निलंबित भी कर दिया है एवं एसपी सिटी मान सिंह चौहान को घटना की जांच सौंपी है।

मूल खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

पुलिस की पिटाई से निर्दोष युवक की थाने में मौत

Leave a Reply