उद्यमियों को हर संभव सुविधा उपलब्ध करायें: मुख्यमंत्री

उद्यमियों को हर संभव सुविधा उपलब्ध करायें: मुख्यमंत्री
  • देश एवं विदेश के उद्यमियों से सम्पर्क कर राज्य में उद्योग स्थापित करने के लिए दी जा रही सुविधाओं की जानकारी दें
 

माइक्रोटेक ग्लोबल फाउण्डेशन द्वारा उत्तर प्रदेश के संबंध में लिखी गई किताब सेक्योर गर्वनेंस फार यू.पी. का लोकार्पण करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
माइक्रोटेक ग्लोबल फाउण्डेशन द्वारा उत्तर प्रदेश के संबंध में लिखी गई किताब सेक्योर गर्वनेंस फार यू.पी. का लोकार्पण करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि राज्य में निवेश को बढ़ावा देने के लिए उद्यमियों को हर सम्भव सुविधाएं उपलब्ध कराई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक निवेश के लिए देश एवं विदेश के उद्यमियों से सम्पर्क किया जाए तथा राज्य में उद्योग स्थापित करने के लिए सरकार द्वारा प्रदान की जा रही सुविधाओं की जानकारी इन्हें दी जाए। उन्होंने राज्य के विभिन्न जनपदों एवं क्षेत्रों में पहले से स्थापित कुटीर/स्थानीय उद्योगों को प्रतिस्पर्धा में बने रहने के लिए उन्हें आधुनिक तकनीक एवं सुविधाएं उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री आज यहां शास्त्री भवन में उ0प्र0 राज्य औद्योगिक विकास निगम (यू.पी.एस.आई.डी.सी.) के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। राज्य में राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय निवेश को आकर्षित एवं प्रेरित करने के लिए यू.पी.एस.आई.डी.सी. के नालेज पार्टनर ई.वाई. फर्म द्वारा प्रस्तुत रूपरेखा पर उन्होंने कहा कि नए निवेश के साथ-साथ राज्य में पहले से स्थापित उद्योगों, स्थानीय/कुटीर उद्योगों के विकास के लिए भी कार्य योजना तैयार की जाए, जिससे स्थानीय लोगों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध हो सके। उन्होंने मुरादाबाद में पीतल के कार्य, फिरोजाबाद में कांच, कन्नौज में इत्र तथा भदोही के कार्पेट जैसे स्थानीय उद्योगों को वर्तमान परिस्थिति के अनुरूप सहयोग प्रदान करने के निर्देश दिए।
श्री यादव ने कहा कि जनपद कन्नौज में मक्का आधारित स्टार्च परियोजना, उन्नाव में ट्रांस गंगा परियोजना, अमूल द्वारा जनपद जौनपुर, सैफई, वाराणसी तथा लखनऊ में डेयरी प्लाण्ट की स्थापना तथा आलू से वोदका बनाने की परियोजनाओं पर शीघ्रता से कार्य किया जाए, जिससे इन परियोजनाओं का लाभ किसानों एवं स्थानीय लोगों को मिल सके। उन्होंने ट्रांस गंगा परियोजना में कम से कम 400 एकड़ में पार्क प्रस्तावित करने का निर्देश देते हुए कहा कि राज्य में सम्भावित लगभग 98,000 करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए उद्यमियों को सहयोग प्रदान किया जाए। उन्होंने जापानी, कोरियन तथा चाईनीज मैनुफैक्चरिंग जोन विकसित करने के लिए आवश्यक प्रयास करने का निर्देश देते हुए कहा कि आगरा में प्रस्तावित थीम पार्क परियोजना का काम तेज किया जाए। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने माइक्रोटेक ग्लोबल फाउण्डेशन द्वारा उत्तर प्रदेश के सम्बन्ध में लिखी गई किताब सेक्योर गर्वनेंस फार यू.पी. का लोकार्पण किया तथा संस्था द्वारा प्रस्तुत प्रेजेंटेशन का अवलोकन किया।
प्रमुख सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास सूर्य प्रताप सिंह ने बताया कि उद्यमियों से सीधे सम्पर्क कर उनकी समस्याओं को सुना जा रहा है। उन्होंने कहा कि नोएडा के उद्यमियों को बेहतर कानून व्यवस्था का माहौल उपलब्ध कराने के लिए नोएडा में 06 अतिरिक्त थाने तथा एक साइबर इकाई की स्थापना की जा रही है। इसके अलावा उद्योग विभाग द्वारा 01 नियंत्रण कक्ष की भी स्थापना की जा रही है। बैठक में मुख्य सचिव जावेद उस्मानी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक रंजन, अध्यक्ष एवं मुख्य कार्याधिकारी, ग्रेटर नोएडा रमा रमण, सचिव मुख्यमंत्री अनीता सिंह, आलोक कुमार एवं शम्भू सिंह यादव तथा एम.डी. यू.पी.एस.आई.डी.सी. मनोज सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply