उत्तर प्रदेश में बेअसर है मोदी फैक्टर: प्रदीप यादव

उत्तर प्रदेश में बेअसर है मोदी फैक्टर: प्रदीप यादव
प्रदीप यादव (गुडडू), दर्जा राज्यमंत्री
प्रदीप यादव (गुडडू), दर्जा राज्यमंत्री

संभल जिले के गुन्नौर विधान सभा क्षेत्र से विधायक रह चुके प्रदीप यादव (गुडडू) वर्तमान में दर्जा राज्यमंत्री हैं। गुन्नौर विधान सभा क्षेत्र से स्वयं सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव विधायक रह चुके हैं, उनके सीट छोड़ने के बाद गैर राजनैतिक व्यक्ति प्रदीप यादव व्यवहार कुशल होने के कारण ही चुने गये थे। वह सपा सुप्रीमो के बेहद खास माने जाते हैं। स्वभाव से बेहद सरल और बेदाग छवि के प्रदीप यादव को आम जनता के साथ पार्टी में विशेष सम्मान दिया जाता है। सरकार में उत्तर प्रदेश न्यूनतम मजदूरी, सलाहकार बोर्ड, श्रम विभाग के अध्यक्ष की जिम्मेदारी के साथ पार्टी ने उन्हें संभल लोकसभा क्षेत्र का प्रभारी का भी दायित्व दे रखा है। वर्तमान राजनैतिक हालात और आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर बरेली के सर्किट हाउस में की गई विशेष बातचीत में उन्होंने सहज भाव से सभी प्रश्रों के उत्तर दिये।
प्रश्र: हाल ही में कानपुर में नरेन्द्र मोदी की विशाल रैली हुई है, ऐसे में सपा की 29 अक्टूबर को आजमगढ़ में और 7 नवंबर को बरेली में होने वाली “देश बचाओ, देश बनाओ” रैलियों में नरेन्द्र मोदी की रैली से अधिक भीड़ आने की संभावना है?
जवाब: एक रैली में सात से दस लाख के बीच भीड़ आयेगी, जिसे देख कर उन लोगों को सच्चाई का अहसास हो जायेगा, जो सपा की सफल सरकार को लेकर जनता के बीच भ्रम फैलाने का प्रयास कर रहे हैं।
प्रश्र: बड़ी रैलियों के आयोजन की क्या आवश्यकता थी?
जवाब: विरोधी रैलियां आयोजित कर भ्रम फैला रहे हैं, इसी तरह मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में चल रही सरकार के द्वारा अब तक किये सराहनीय कार्यों के बारे में जनता को सच बताने के लिए रैलियां आयोजित कर रहे हैं, जिनमें नेताजी (मुलायम सिंह यादव) को प्रधानमंत्री बनाने का आहवान किया जायेगा।
प्रश्र: खराब कानून व्यवस्था को लेकर जनता का सपा सरकार से मोह भंग हो गया है?

जवाब: उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था बेहतर है। खराब कानून व्यवस्था की अफवाह विरोधी फैला हैं, जिसे जनता समझती है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की नजर में सभी अपराधी एक जैसे हैं। सपा का नेता या कार्यकर्ता भी कानून तोड़ता हैं, तो वह उसके विरुद्ध भी कार्रवाई पूरी तत्परता से कराते हैं, साथ ही कानून व्यवस्था बिगड़ने पर अधिकारियों को तत्काल दंड भी देते हैं।
प्रश्र: मोदी फैक्टर के बीच समाजवादी पार्टी के प्रदर्शन को लेकर आपको आगामी लोकसभा चुनाव में कितनी सीटें मिलने की आशा है?
प्रश्र: अधिकांश सीटों पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी ही जीतेंगे, क्योंकि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की लहर चल रही है, यहां मोदी फैक्टर बेअसर है और यह चुनाव बाद साबित भी हो जायेगा।
प्रश्र: नरेन्द्र मोदी के नाम के साथ दंगा जोड़ कर आप लोग अब तक उनकी आलोचना करते रहे हैं, ऐसे में अब दंगा अखिलेश यादव के नाम के साथ भी जुड़ गया है, अब नरेन्द्र मोदी की इस मुददे पर आलोचना कैसे कर पायेंगे?
जवाब: ऐसा नहीं है। नरेन्द्र मोदी ने वर्ग विशेष का जान कर शोषण किया, लेकिन उत्तर प्रदेश में दंगे संयोग से हुये या विरोधियों की साजिश के चलते हुए, जिन पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने त्वरित कार्रवाई कर दंगों को काबू किया, इसलिए अखिलेश यादव व नरेन्द्र मोदी में विशाल अंतर है, साथ ही हमारी सरकार और हमारे प्रत्याशी विकास के बदले वोट मांगेगे।
प्रश्र: विकास तो गुजरात में भी करने का दावा है?
जवाब: सबसे पहले तो वहां अगर विकास हुआ है, तो जनता ने मोदी को पुन: चुन भी दिया, लेकिन वहां विकास कागजों में अधिक हुआ है और जो हुआ है, वह कई वर्षों का नतीजा है, लेकिन प्रदेश की आर्थिक स्थिति खराब होने के बावजूद सपा की सरकार ने एक-डेढ़ वर्ष में चुनाव में किये सभी वायदे पूरे कर दिये, जो देश भर के लिए आश्चर्य का विषय है।

Leave a Reply