‘इण्डिया ए कार्टून क्रानिकल’ का सीएम के हाथों विमोचन

‘इण्डिया ए कार्टून क्रानिकल’ का सीएम के हाथों विमोचन
– इस संकलन से समकालीन इतिहास के विभिन्न घटनाक्रमों की जानकारी मिल सकेगी: मुख्यमंत्री 
पुस्तक विमोचन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में विचार व्यक्त करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
पुस्तक विमोचन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में विचार व्यक्त करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज यहां प्रेस क्लब में राम उग्रह की पुस्तक ‘इण्डिया ए कार्टून क्रानिकल’ का विमोचन किया। इस पुस्तक में राम उग्रह ने सन् 1971 से राजनैतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक सहित विभिन्न विषयों पर समय-समय पर बनाए गए अपने कार्टून को संकलित किया है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने राम उग्रह के प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि इन्होंने डा. राम मनोहर लोहिया, इन्दिरा गांधी, चन्द्रशेखर सिंह आदि समकालीन राजनीति के बड़े नेताओं पर कार्टून के माध्यम से रोचक तथ्यों को उजागर किया है। इनके इस संकलन से समकालीन इतिहास के विभिन्न घटनाक्रमों की जानकारी नई पीढ़ी को मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि कार्टून के माध्यम से उन विषयों पर भी बड़ी सफाई से रौशनी डाली जा सकती है, जिसे कतिपय कारणों से लिखा या दिखाया नहीं जा सकता। उन्होंने अमूल डेयरी द्वारा अपने उत्पादों का कार्टून के माध्यम से प्रचार करने की सराहना करते हुए कहा कि इससे लोगों को आसानी से समझाया जा सकता है। उन्होंने राजनीति में आने वाले नई पीढ़ी के नेताओं को कार्टून को समझने एवं जानने की सलाह दी। बाद में पत्रकारों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का जवाब देते हुए श्री यादव ने कहा कि बिना पर्यावरण की मंजूरी प्राप्त किए अवैध खनन करने वालों के विरूद्ध राज्य सरकार सख्ती से कार्रवाई कर रही है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करने वालों में वरिष्ठ पत्रकार के. विक्रम राव तथा शिक्षाविद् जगदीश गांधी शामिल थे। इससे पूर्व कार्यक्रम में सभी का स्वागत करते हुए राम उग्रह ने कहा कि सन् 1971 में ही प्रेस क्लब में आयोजित उनके कार्टूनों की प्रदर्शनी का उद्घाटन इन्दिरा गांधी ने किया था। इसीलिए आज यहां से कार्टून संग्रह ‘इण्डिया ए कार्टून क्रानिकल’ पुस्तक का विमोचन कार्यक्रम रखा गया था। धन्यवाद ज्ञापन राम उग्रह के पुत्र श्री प्रकाश गुप्ता ने किया। इस मौके पर कारागार मंत्री राजेन्द्र चौधरी सहित मीडिया के लोग एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

Leave a Reply