असफल प्रशासन ने बाघिन को नरभक्षी घोषित किया

असफल प्रशासन ने बाघिन को नरभक्षी घोषित किया
असफल प्रशासन ने बाघिन को नरभक्षी घोषित किया
असफल प्रशासन ने बाघिन को नरभक्षी घोषित किया

उत्तराखंड से भाग कर मुरादाबाद क्षेत्र में आई बाघिन को प्रशासन ने नरभक्षी घोषित कर दिया है। अब उसे अनुमति लेकर कोई भी मार सकता है, लेकिन बाघिन को बचाने के लिए अभी तक कोई वन्य-जीव प्रेमी सामने नहीं आया है।

उल्लेखनीय है कि मुरादाबाद क्षेत्र में बाघिन ने कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया है। बुधवार को भी खेत में गन्ना छील रही गाँव दरियापुर की एक महिला दुलारी को मार दिया। इससे पहले गाँव चंगेरी के राजीव विश्नोई, गांव मल्लीवाला की किशोरी शोभा को मार डाला था। 29 दिसंबर को संभल जिले के गाँव मिठनपुर मौजा निवासी एक युवक को बाघिन ने मार दिया था। कई जानवरों को भी बाघिन मार चुकी है, जिससे उसकी दहशत कायम हो गई है, लेकिन सवाल यह है कि बाघिन के नरभक्षी होने के कारणों पर कोई विचार क्यूं नहीं कर रहा, उल्टे उसे मारने की अनुमति प्रदान कर दी गई है। असफल प्रशासन की मनमानी के विरुद्ध कोई वन्य-जीव प्रेमी भी आवाज उठाता नज़र नहीं आ रहा।

Leave a Reply