अब के सावन में शरारत ये मेरे साथ हुई … और सिर्फ वाह-वाह

अब के सावन में शरारत ये मेरे साथ हुई … और सिर्फ वाह-वाह
प्रख्यात गीतकार डॉ. गोपाल दास नीरज को सम्मानित करते उत्तराखंड के राज्यपाल अजीज कुरैशी और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री आजम खां
डॉ. गोपाल दास नीरज को सम्मानित करते उत्तराखंड के राज्यपाल अजीज कुरैशी और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री आजम खां

राष्ट्रीय एकता के उपलक्ष्य में ‘हेल्प यू एजुकेशनल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट’ के तत्वधान में आयोजित समारोह में प्रख्यात गीतकार पद्मभूषण गोपाल दास नीरज को उनके 90वें जन्मदिवस के अवसर पर उन्हें सम्मानित किया। इस समारोह का आयोजन यशपाल सभागार, उत्तर प्रदेश हिंदी संसथान, हजरतगंज, लखनऊ में किया गया। शुक्रवार को हुए इस समारोह का उद्घाटन मुख्य अतिथि उत्तराखंड के राज्यपाल अज़ीज़ कुरैशी, कार्यक्रम के अध्यक्ष एन. डी. तिवारी, विशिष्ट अतिथि उदय प्रताप सिंह और गोपाल दास नीरज ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

हेल्प यू ट्रस्ट के संस्थापक ट्रस्टी हर्ष वर्धन अग्रवाल ने गोपाल दास नीरज जी को 91000/- रुपये की सम्मान राशि और सरस्वती की प्रतिमा भेंट की। इस अवसर पर अज़ीज़ कुरैशी, गोपालदास नीरज , एन.डी. तिवारी, उदय प्रताप सिंह और आज़म खां ने अपने विचार व्यक्त किये। इसके बाद कला और लेखन के क्षेत्र के 90 सम्मानित लोगों ने नीरज जी को गुलदस्ते, शॉल और प्रतीक चिन्ह भेंट किये।

गायक मिथिलेश ‘लखनवी ‘ ने नीरज जी के प्रसिद्ध गीतों को प्रस्तुत किया। ‘अबके सावन में शरारत ये मेरे साथ हुई, मेरा घर छोड़ के पूरे शहर में बरसात हुई’, ‘सेर भर बझरी में साल भर खाऊँगी, पिया मत जइयो परदेस’, ‘ए भाई ज़रा देख के चलो’, आदि गीतों ने समां बाँध दिया। नीरज जी ने अपनी प्रसिद्ध रचना ‘गीतिका’ गाकर अपनी आवाज़ को श्रोताओं के दिल में अमर कर दिया। उन्होंने ‘हेल्प यू’ द्वारा समाज हित में किये जा रहे प्रयासों को भी सराहा।

कार्यक्रम में डा. श्री गोपाल दास नीरज के जीवन पर बनी एक डॉक्युमेंट्री ‘एक कवि है मस्त फ़कीर’ भी दिखाई गयी। इसके लेखक, निर्माता एवं निर्देशक आफताब अफ़रीदी  भी कार्यक्रम में मौजूद थे। अंत में हर्ष वर्धन अग्रवाल ने नीरज जी को लम्बी आयु के लिए शुभकामना देते हुए और सभी अतिथियों को धन्यवाद दिया। कार्यक्रम का संचालन संस्था के मैनेजिंग ट्रस्टी डॉ रुपल अग्रवाल ने किया। संस्था की अध्यक्ष किरन अग्रवाल और सदस्य ज्ञान वर्धन अग्रवाल भी मौजूद रहे।

Leave a Reply