अन्ना का ऐलान, अगला हफ्ता देश के नाम

अन्ना का ऐलान, अगला हफ्ता देश के नाम

 

 

लग रहा था कि इस बार अन्ना का जादू नहीं चल रहा। पिछले चार दिन से अन्ना टीम में निराशा दिख रही थी। पहले दिन मंच से किरण बेदी लगातार आवाज़ लगाती रहीं। उनका पूरा सम्बोधन यह कहते हुए ही निकल गया कि अपने साथ अपने पड़ोसियों और रिशतेदारों को लेकर आइये। किन्तु रविवार को नज़ारा बिलकुल बदल गया। जब अन्ना के आंदोलन को फ्लॉप शो करार दिया जाने लगा तो अन्ना के समर्थक घरों से निकल पड़े। युवाओं और महिलाओं समेत बड़ी संख्या में लोग जंतर-मंतर पहुंचे। खराब स्वास्थ्य के चलते पहले अन्ना अनशन नहीं कर रहे थे, पर अपना फैसला बदलते हुए आंदोलन के पांचवे दिन उन्होने भी अनशन का ऐलान कर दिया।

अन्ना ने कहा कि ‘जब चार सौ लोग यहां बैठ कर अनशन कर रहे हैं। ऐसे में मैं कैसे अलग रह सकता हूं। मैं अब अपना अनशन शुरू कर रहा हूं।’ अन्ना के इस ऐलान के बाद वहाँ लोगों की भीड़ जुटने लगी। शाम को कुछ लोगों ने कैन्डल मार्च भी किया। अन्ना टीम के सदस्य उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंतित दिखे मगर अन्ना ने यह कहते हुए उन्हें चुप करा दिया कि,  ‘जब तक जन लोकपाल बिल पास नहीं हो जाता। देश के लोग मुझे मरने नहीं देंगे।’ जंतर-मंतर वंदे मातरम के नारों से गूंज उठा। दिल्ली की रफ्तार भरी ज़िंदगी में लोगों ने रविवार होने के कारण अनशन के लिए समय निकाल लिया। सोमवार को आंदोलन की सही सूरत मालूम पड़ेगी। यही चिंता अन्ना टीम की भी रही, इसीलिए पूरा समय नारा लगवाया गया, ‘अगला हफ्ता -देश के नाम’।

Leave a Reply