महिला चिकित्सालय के संविदा कर्मी बर्खास्त, छः महीने का वेतन भी हड़पा

महिला चिकित्सालय में धरने पर बैठे पीड़ित संविदा कर्मी।

बदायूं स्थित जिला महिला अस्पताल में कार्यरत 41 कर्मचारियों को एक झटके में कार्यमुक्त कर दिया गया है। अचानक बर्खास्त किये गये कर्मचारी स्तब्ध हैं और सड़क पर आने से बेहद दुखी हैं। पीड़ित कर्मचारियों ने आज धरना प्रदर्शन किया और चेतावनी दी कि उनके साथ न्याय नहीं हुआ, तो वे आमरण अनशन पर बैठ जायेंगे।

बताते हैं कि जिला महिला अस्पताल में विभिन्न पदों पर कार्यरत 41 कर्मचारियों को संविदा पर रखा गया था। अब खुलासा हुआ है कि कर्मचारियों को विभाग ने नहीं, बल्कि एक सेवा प्रदाता कंपनी द्वारा लगाया गया था। कानपुर की एजेंसी ने छः महीने से कार्यरत कर्मियों को वेतन भी नहीं दिया है। कर्मचारियों को बताया जा रहा था कि कागजी कार्रवाई चल रही है, जिसके पूरा होते ही वेतन एकाउंट में पहुंच जायेगा, लेकिन आज सभी कर्मियों को सीएमएस द्वारा बर्खास्तगी पत्र थमा दिया गया।

छः महीने से वेतन की आस में जुटे कर्मचारी बर्खास्तगी का पत्र मिलते ही स्तब्ध रह गये हैं और अचानक बर्खास्त होने से सड़क पर आ गये हैं, सभी के सामने आजीविका का संकट गहराया हुआ था, जो और अधिक भयावह हो गया है। पीड़ित कर्मचारी आज अस्पताल परिसर में ही धरने पर बैठ गये। पीड़ित कर्मियों का कहना है कि उन्हें पिछला वेतन शीघ्र नहीं दिया गया, तो वे आमरण अनशन पर बैठ जायेंगे।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

Leave a Reply