बरेली में पुलिस-प्रशासन ने मिटाया विलय धाम का अस्तित्व

विलय धाम बचाने को पुलिस अफसर से अनुनय-विनय करती महिलायें
विलय धाम बचाने को पुलिस अफसर से अनुनय-विनय करती महिलायें

बरेली-पीलीभीत रोड पर फोर लेन के बीच में विलय धाम आ रहा था, जिसे आज सुबह पुलिस की मदद से प्रशासन ने हटा दिया। प्रशासन ने विलय धाम का अस्तित्व ही मिटा दिया, इससे पहले शेषनाग की प्रतिमा तोड़ते समय जेसीबी पर आकर गिर गई, जिससे किसी तरह कूद कर ड्राइवर ने तो जान बचा ली, लेकिन जेसीबी पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। विलय धाम का अस्तित्व मिटने से भाजपा और कुछ हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं में रोष व्याप्त है, लेकिन मौके पर तैनात भारी पुलिस फोर्स किसी को फटकने नहीं दे रहा है। सुबह कुछ लोग जमा हो गये थे, जिन्हें गाड़ियों में भर कर पुलिस ने दूर छुड़वा दिया।

विलय धाम बचाने को जमीन पर बैठ कर अंतिम प्रयास करते लोग
विलय धाम बचाने को जमीन पर बैठ कर अंतिम प्रयास करते लोग

उल्लेखनीय है कि हाइवे के बीच में आ रहे विलय धाम को बचाने के लिए लोग पिछले काफी दिनों से प्रदर्शन कर रहे थे। विलय ज्ञान धर्मार्थ संस्था के सदस्य विलय धाम को बचाने के लिए संघर्षरत थे, इन्हीं के नेतृत्व में प्रदर्शन किया जा रहा था। चूँकि अधिकाँश लोग बाईपास बनने से खुश हैं, जिससे विलय धाम बचाने के आन्दोलन में आम जनता सहभागी नहीं बन पा रही थी, इसीलिए प्रशासन का साहस बढ़ गया और आज सुबह विलय धाम का अस्तित्व ही मिटा दिया।

मौके पर तैनात पुलिस बल
मौके पर तैनात पुलिस बल

बताते हैं कि विलय धाम की दीवारों को तोड़ कर मलवा सीधे डंपर में भरा जा रहा था और उस मलवे को कहीं दूर फेंका जा रहा था। सुबह साढ़े छः बजे तक प्रशासन ने विलय धाम की जगह मैदान बना दिया। इस दौरान आसपास के सात-आठ जनपदों से बुलाया गया भारी पुलिस फोर्स तैनात रहा। सुबह कुछ लोग मौके पर जमा भी हुए, जो विरोध कर रहे थे, उन्हें गाड़ियों में भर कर पुलिस ने दूर छुड़वा दिया। इससे पहले शेषनाग की मूर्ति जेसीबी पर गिरने से ड्राइवर बाल-बाल बच गया। फिलहाल भाजपा विधायक अरुण कुमार के आवास पर तमाम लोग जमा हैं, जो प्रशासन पर मनमानी का आरोप लगाते हुए आक्रोशित नज़र आ रहे हैं।

विलय धाम का फाइल फोटो
विलय धाम का फाइल फोटो

Leave a Reply