सीएम ने की विकास की बात, भाजपा-बसपा पर भी किया वार

बदायूं में विकास रैली को संबोधित करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
बदायूं में विकास रैली को संबोधित करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज समाजवादी पार्टी द्वारा बदायूं में आयोजित की गई विकास रैली में विकास को मुददा बनाया, इस बीच भाजपा का नाम लिए कटाक्ष भी किया और बसपा के हाथियों की खिल्ली भी उड़ाई, इसके बाद बरेली में भी उन्होंने प्रमुखता विकास को ही दी। बदायूं और बरेली को मुख्यमंत्री कई बड़ी सौगातें भी दे।
प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बदायूं स्थित विकास रैली में सांसद धर्मेन्द्र यादव के साथ 244.346 करोड़ लागत से तैयार बदायूं-बरेली फोरलेन मार्ग का बटन दबाकर लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने बदायूं में पैरामेडीकल कॉलेज बनाए जाने की घोषणा के साथ ही बदायूं से गुन्नौर जाने वाले मार्ग को भी फोरलेन कराने तथा जनपद में दो नए विद्युत उपकेन्द्रों व राजकीय इंटर कॉलेज की स्थापना कराए जाने की घोषणा की।
सोमवार को जनपद के दातागंज तिराहे के निकट विशाल रैली से पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 450.174 करोड़ की लागत से तैयार विभिन्न विभागों की 71 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 130.789 करोड़ की लागत से बनने वाली चार परियोजनाओं का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बदायूं जिले को देंखे, क्या अब पहले जैसा है, फोरलेन मार्ग के निर्माण से लगता है कि बदायूं-बरेली की दूरी कम हो गई है, घण्टों का सफर मिनटों में पूरा होगा। मेडीकल कॉलेज बनाए जाने से तमाम असहाय, गरीबों को इलाज की बेहतर सुविधाएं मिलेंगी, न जाने कितने लोग बरेली जाते समय इलाज के आभाव में अपने प्राण त्याग चुके हैं। उन्होंने कहा कि 102 तथा 108 नम्बर एंबुलेंस सेवा से प्रतिदिन अनगिनत लोग लाभ उठा रहें हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अब ऐसी कोई भी गरीब महिला नहीं बचेगी, जिसे समाजवादी पेंशन योजना का लाभ न मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि बदायूं जनपद सूफी-संतो की नगरी होने के कारण यहां परस्पर भाईचारा कायम है। उन्होंने कहा कि बाढ़ तथा सूखा की स्थिति में किसानों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराए जाने के साथ ही गरीबों को मुक्त में ई-रिक्शा प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध कराए जा रहें हैं। प्रदेश को आगे बढ़ाने हेतु चुनौतियां तो बहुत है, लेकिन उनका निरन्तर प्रयास है कि सभी किसानों को बीज, खाद तथा अन्य सुविधाएं समय से उपलब्ध हों। बेरोजगारों को रोजगार मिले। विकास कार्याें के प्रति बदायूं के सांसद धर्मेन्द्र यादव की लगन को मद्देनजर रखते हुए मुख्यमंत्री ने सांसद की दिल खोलकर प्रसंशा की। उन्होंने कहा कि जब प्रत्येक दिशा में विकास कार्य कराए जा रहें हैं, तो खेल के मैदानों को कैसे नजर अंदाज किया जा सकता है, इनके सुदृढ़ीकरण एवं विस्तारीकरण की कार्य योजना तैयार कराई जाएगी। शिक्षा के क्षेत्र में और उन्नति हेतु जनपद में सम्राट अशोक बुद्ध पर्यटन स्थल बनाए जाने का कार्य कराया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने 310 मेधावी छात्र-छात्राओं को लैपटाॅप, श्रम विभाग के 500 पंजीकृत श्रमिकों को साइिकलें तथा 500 नए लाभार्थियों को समाजवादी पेंशन, कौशल विकास मिशन अंतर्गत प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवक, युवतियों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए, जिसमें कई लाभार्थियों को मुख्यमंत्री ने स्वयं अपने कर-कमलों द्वारा वितरण किया। आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित विभिन्न ब्लॉकों के 105 समूहों को 15 लाख 75 हजार तथा 11 ग्राम संगठनों के 50 समूहों को सीआईएफ के रूप में 55 लाख कुल 70 लाख 75 हजार रूपए के चैक भी मुख्यमंत्री द्वारा वितरित किए गए।
बरेली में ई-रिक्शा बांटते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, साथ में खड़े हैं सांसद धर्मेन्द्र यादव, यहाँ 417 ई-रिक्शे बांटे गये।
बरेली में ई-रिक्शा बांटते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, साथ में खड़े हैं सांसद धर्मेन्द्र यादव, यहाँ 417 ई-रिक्शे बांटे गये।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा का नाम लिए बिना कहा कि सपा सरकार को बदनाम करने के लिए चुनाव से पहले विरोधी ताकतें साजिश कर सकती हैं। जनता को ऐसी ताकतों से सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जनता के दिलों में सपा सरकार के प्रति विश्वास है। इससे विरोधी ताकतें घबरा रही हैं और सरकार को बदनाम करने के लिए साजिश कर रही हैं। अच्छे दिनों का वादा कर केन्द्र में एक सरकार आ गई है। दो साल हो गए मगर, देश में किसी के अच्छे दिन नहीं आए हैं। बदायूं की एक घटना को लेकर विरोधियों ने कैसा कुप्रचार किया था और सच्चाई बाद में कुछ और निकली थी। उन्होंने कहा कि समाजवादी लोग सांप्रदायिक सौहार्द, गांव-गरीब, किसान, नौजवान, मजदूर, महिलाएं सबके हित की बात कर करती है। जनता ने यूपी में ऐसी सरकार भी देखी है, जो सिर्फ नीले पत्थर लगाती थी। जो हाथी खड़े थे, वे खड़े ही हैं और जो बैठे थे, वे आज तक बैठे ही हैं।
बदायूं में मंच पर बात करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सांसद धर्मेन्द्र यादव।
बदायूं में मंच पर बात करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सांसद धर्मेन्द्र यादव।
सांसद धर्मेन्द्र यादव ने अपने विचार व्यक्त करते हुए सरकार द्वारा कराए जा रहे विकास कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इन्हीं विकास कार्यों के कारण प्रदेश तरक्की और खुशहाली की ओर अग्रसर है। उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा अपने कार्यकाल में जनपद में विभिन्न शासकीय भवनों, सड़कों, ओवरब्रिज, मेडीकल कॉलेज का निर्माण कराया, जिसे यहां की जनता भुला नहीं सकती है। उन्होंने समाजवादी पेंशन सहित अन्य पेंशनों, कृषकों के हितार्थ चलाई जा रही योजनाओं पर भी विस्तार से चर्चा की। प्रदेश के ग्राम विकास विभाग के राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किए गए सभी वादों को पूरा किया है और इसी के कारण कहा जाता है कि प्रदेश में चहुमुंखी विकास हो रहा है। मुख्यमंत्री बदायूं से सड़क मार्ग द्वारा बरेली भी गये, उनके साथ सांसद धर्मेन्द्र यादव भी गये।
बदायूं लैपटॉप बांटते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
बदायूं में लैपटॉप बांटते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
मुख्यमंत्री ने बरेली में गरीबों के लिए कैंटीन खोलने की घोषणा की, जिसमें गरीबों को 10 रूपये में खाना मिला करेगा। उन्होंने बरेली के डीएम गौरव दयाल से कहा की कैंटीन का इंतजाम करें, उसका खर्च सरकार उठागी। अखिलेश यादव ने नरेंद्र मोदी की मन की बात में कहे गये शब्दों पर कहा कि मैंने ने तो सुना था कि पानी अमृत होता है, अभी पता चला कि प्रसाद है। उन्होंने केंद्र द्वारा भेजी पानी की ट्रेन की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि वसीम बरेलवी ने एमएलसी पद स्वीकार कर हमें उपकृत किया है। अखिलेश यादव ने बरेली के रामगंगा तिराहे पर 413 लाभार्थियों को ई-रिक्शा वितरित किये, जिस पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि ई-रिक्शा तो नरेंद्र मोदी ने भी दिए हैं, लेकिन उसमें लोन चुकाना पड़ता है, पर हमने जो ई-रिक्शा दिए हैं, उसका पूरा खर्च हमारी सरकार उठा रही है।
इस दौरान विश्व प्रसिद्ध शायर और समाजवादी पार्टी के एमएलसी वसीम बरेलवी ने अखिलेश यादव की तारीफ करते हुए कहा कि मुझे एमएलसी बनाकर उन्होंने मुझ पर ही नहीं, बल्कि पूरी बरेली पर अहसान किया है। उन्होंने अखिलेश यादव के लिए एक शेर भी सुनाया कि …
जले तो हाथ मगर हां हवा के हमलों से किसी चिराग की लौ को बचा लिया मैंने।
मैं कतरा होकर भी तूफान से जंग लेता हूँ मुझे बचाना समुद्र की जिम्मेदारी है।
बरेली से मुख्यमंत्री सांसद धर्मेन्द्र यादव के साथ दिल्ली चले गये।
सांसद धर्मेन्द्र यादव के साथ बदायूं-बरेली मार्ग का लोकार्पण करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
सांसद धर्मेन्द्र यादव के साथ बदायूं-बरेली मार्ग का लोकार्पण करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
बदायूं में किया 553.863 करोड़ की परियोजनाओं का किया लोकार्पण व शिलान्यास
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जनपद बदायूं में विभिन्न विभागों द्वारा 450.174 करोड़ की लागत से कराए गए 71 कार्याें का लोकार्पण, 103.689 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले 4 कार्यों का शिलान्यास किया। सोमवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लोकार्पण कार्यक्रम में पीलीभीत-भरतपुर राज्य मार्ग पर स्थित 48.80 किलो मीटर लम्बे बदायूं-बरेली फोरलेन रोड का जिसे लोक निर्माण विभाग द्वारा 244.346 करोड़ रूपए की लागत से चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण के बाद फोरलेन किया गया था। इस प्रोजेक्ट का विशेष महत्व इसलिए भी है, क्योंकि प्रदेश में सभी जिला मुख्यालयों को फोरलेन से जोड़ने का यह मुख्यमंत्री का महत्वाकांक्षी ड्रीम प्रोजेक्ट है।
मुख्यमंत्री ने इसके अलावा बदायूं से आंवला, बिल्सी, वजीरगंज मार्गों, बिल्सी-सिरासौल, संजरपुर-हरगनपुर उझानी कछला-हुसैनपुर-सहसवान, बदायूं-मेरठ सैदपुर-करेंगी व भरतपुर मार्गों का चौड़ीकरण तथा सुदृढ़ीकरण के बाद लोकार्पण किया। गन्ना विकास, पैकफेड, उत्तर प्रदेश प्रोजेक्ट कारपोरेशन लिमिटेड, जल निगम, सी. एण्ड डी.एस. ग्रामीण अभियन्त्रण विभाग, राजकीय निर्माण निगम द्वारा भी बनवाए गए मार्गों का लोकार्पण किया।
मुख्यमंत्री ने समाज कल्याण निर्माण निगम द्वारा ब्लाक वजीरगंज के अंतर्गत ग्राम सैदपुर में 5.624 करोड़ की लागत से बनाए जाने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, लोक निर्माण विभाग द्वारा मेरठ-बदायूं मार्ग पर 93.98 करोड़ की लागत से 45.40 किलो मीटर लम्बे मार्ग को दो लेन में बनाने, 3.75 करोड़ की लागत से 6.05 किलो मीटर दातागंज मार्ग से ललबुझिया सम्पर्क मार्ग तथा पैकफेड द्वारा सहसवान में 335 लाख की लागत से बनाए जाने वाले पशु चिकित्सालय का शिलान्यास किया।
अखिलेश यादव ने सोमवार को जनपद बदायूं में आयोजित जनसभा को सम्बोधन से पूर्व बदायूं-बरेली फोरलेन मार्ग के लोकार्पण के साथ ही लोक निर्माण विभाग के निर्माण खण्ड द्वारा 242.639 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित 29 सड़कें जिनमें जनपद बदायूं के अंतर्गत आंवला-बदायूं, बिल्सी, वजीरगंज, बिल्सी-सिरासौल, संजरपुर-हरगनपुर उझानी मार्गों का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण के कार्य, जनपद में बदायूं-मेरठ, सैदपुर-करेंगी तथा भरतपुर मार्गों का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य, कछला-हुसैनपुर-सहसवान मार्ग का सुदृढ़ीकरण तथा लोक निर्माण विभाग के प्रान्तीय खण्ड द्वारा 125.69 करोड़ की लागत से निर्मित दस सड़क मार्ग का लोकार्पण के साथ ही गन्ना विकास विभाग द्वारा 2.368 करोड़ रूपए की लागत से 6 मार्गों का सुदृढ़ीकरण, उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम द्वारा 28.80 करोड़ की लागत से निर्मित राजकीय पाॅलीटेक्निक अलापुर, हाॅस्टल (60 सीट) तथा जिला महिला चिकित्सालय में 100 बिस्तर एमसीएच विंग के निर्माण कार्य, पैकफेड द्वारा 13.708 करोड़ रूपए की लागत से (6) निर्मित माॅडल स्कूल चौड़ेरा, आईटीआई बिल्सी, राजकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सहसवान, जिला पुरूष एवं महिला अस्पताल का उच्चीकरण, लाॅन टेनिस सिंथेटिक कोट निर्माण, उत्तर प्रदेश प्रोजेक्ट कारपोरेशन लिमिटेड निर्माण इकाई द्वारा 3.278 करोड़ की लागत से (2) जिला कारागार बदायूं में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हाॅल एवं नागपुर नूरपुर में माॅडल स्कूल भवन, सी0 एण्ड डी0एस0 द्वारा 8.67 करोड़ की लागत से निर्मित 6 विद्यालय तथा भवनों का निर्माण बाढ़ खण्ड द्वारा 5.975 करोड़ की लागत से तैयार की गई गंगा नदी के बायें तट पर ग्रामों की सुरक्षा हेतु बाढ़ सुरक्षा परियोजना, जल निगम द्वारा 16.395 करोड़ की लागत से निर्मित 7 पेयजल परियोजनाओं के लोकार्पण के साथ ही ग्रामीण अभियंत्रण विभाग द्वारा 2.651 करोड़ की लागत से निर्मित नाधा भूड़ में राजकीय इण्टर कॉलेज का लोकार्पण किया।
संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply