चेतावनी का असर, शिव मंदिर से साईं की मूर्ति को हटाया

धोलेश्वर मंदिर से हटाई गई साईं की मूर्ति।
धोलेश्वर मंदिर से हटाई गई साईं की मूर्ति।

           किरन कांत

शंकराचार्य स्वरूपानंद के बयानों के बाद आई संतों की चेतावनी का असर दिखना शुरू हो गया है। उत्तराखंड में देहरादून के एक प्रचीन मंदिर से साधु-संतो ने भगवान शिव के मंदिर में स्थापित साईं मूर्ति को हटा दिया। साईं की मूर्ति हटाते समय गाँव का कोई व्यक्ति नहीं था। लोगों को बाद में पता चला, तो कई लोग कानूनी कार्रवाई कराने की बात कहते नज़र आये।

उत्तराखंड में देहरादून से करीब बीस किलोमीटर दूर कंदराओ में बने एक शिव मंदिर में दो साल पहले धोलेश्वर गाँव के लोगों ने साईं की मूर्ति स्थापित कराई थी। इस मंदिर से शुक्रवार को कुछ साधु-संतों ने साईं की मूर्ति को हटा दिया। मंदिर से जुड़े लोगों का कहना है कि उन्होंने तो सनातन धर्म के ध्वजवाहक स्वामी स्वरूपानंद के आदेश का पालन किया है और ऐसे ही हर मंदिर से साईं की मूर्तियाँ हटाई जायेंगी।

उधर धोलेश्वर गाँव के कुछ लोगों का कहना है कि वह कानूनी कार्रवाई करायेंगे। साईं की मूर्ति हटने की सूचना पर ग्रामीणों की भीड़ मंदिर में जुट गई। लोगों ने बताया कि गाँव की कुछ महिलाएं गुरुवार का व्रत कर साईं की पूजा करती थीं।

संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

बद्री नाथ और केदारनाथ को चीन अपना मानता है: शंकराचार्य

शंकराचार्य और हिंदू संगठनों के विरुद्ध खड़ी हुईं उमा भारती

आक्रोशित संतों ने साईं की मूर्तियाँ तोड़ने की चेतावनी दी

Leave a Reply