मेडिकल कॉलेज का शुभारंभ न होने से मुख्य सचिव नाराज

लखनऊ में शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में प्रोजेक्ट माॅनीटरिंग ग्रुप की बैठक में परियोजनाओं के कार्यों की प्रगति की समीक्षा करते मुख्य सचिव आलोक रंजन।
लखनऊ में शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में प्रोजेक्ट माॅनीटरिंग ग्रुप की बैठक में परियोजनाओं के कार्यों की प्रगति की समीक्षा करते मुख्य सचिव आलोक रंजन।
उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने वरिष्ठ अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि प्रदेश सरकार की महत्वपूर्ण परियोजनाओं के कार्यों को निर्धारित समय में निर्धारित मानक एवं गुणवत्ता केे साथ प्रत्येक दशा में पूर्ण कराना होगा। उन्होंने निर्धारित लक्ष्य के अनुसार बदायूं मेडिकल काॅलेज का ओ.पी.डी. सितम्बर माह में प्रारम्भ न होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुये निर्देश दिये कि आगामी एक माह के अन्दर ओ.पी.डी. प्रत्येक दशा में संचालित कराने हेतु आवश्यकतानुसार उपकरणों के क्रय की कार्यवाही एवं पदों के सृजन की कार्यवाही सुनिश्चित कराकर अधिकतम अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में ओ.पी.डी. का संचालन प्रारम्भ हो जाये। उन्होंने कहा कि कैंसर संस्थान हेतु आवश्यकतानुसार प्रारम्भिक पदों के सृजन हेतु वित्त विभाग द्वारा सहमति प्रदान किये जाने के फलस्वरूप आगामी 15 सितम्बर तक सृजन आदेश प्रत्येक दशा में निर्गत कर दिया जाये। उन्होंने कहा कि आगामी 20 सितम्बर तक निविदा प्रक्रिया सम्पन्न कराते हुये अनुबन्ध निष्पादित कराये जाने की कार्यवाही भी सुनिश्चित करायी जाये।
मुख्य सचिव आज लखनऊ में शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में प्रोजेक्ट माॅनीटरिंग ग्रुप की बैठक कर परियोजनाओं के कार्यों की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नवीन सचिवालय भवन को क्रियाशील कराने हेतु निर्धारित लक्ष्य के अनुसार माह सितम्बर में ए-ब्लाॅक के गार्ड रूम की चुनाई एवं प्लास्टर के कार्य को तथा बी-ब्लाॅक के गुम्बद के रिंग बीम के ऊपर शटरिंग इरेक्शन का कार्य पूर्ण कराते हुये ए-ब्लाॅक का निर्माण कार्य माह नवम्बर, 2015 तथा बी-ब्लाॅक का निर्माण कार्य माह दिसम्बर, 2015 एवं सी-ब्लाॅक का निर्माण कार्य माह जून, 2016 तक निर्धारित लक्ष्य के अनुसार प्रत्येक दशा में पूर्ण कराना होगा। उन्होंने कहा कि मैत्रेय परियोजना कुशीनगर हेतु भूमि हस्तान्तरण की  आवश्यक कार्यवाही इसी माह अवश्य पूर्ण करा ली जाये।
श्री रंजन ने लाॅयन सफारी के कार्यों की समीक्षा करते हुये निर्देश दिये कि समस्त स्वीकृत कार्यों को माह 2016 तक अवश्य पूर्ण करा लिया जाये। उन्होंने कहा कि पदों के सृजन हेतु वन विभाग आवश्यकतानुसार परीक्षण कर आवश्यक कार्यवाही प्राथमिकता से सुनिश्चित कराये। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित कराना होगा कि पूर्व में स्वीकृत पदों पर नियमानुसार पारदर्शिता के साथ तैनाती की कार्यवाही तत्काल पूर्ण हो जाये। उन्होंने डायल 100 सेवा तथा पर्यटन विभाग की परियोजनाओं की समीक्षा करते हुये निर्धारित लक्ष्य के अनुसार कार्यों को पूर्ण कराने के निर्देश दिये।
बैठक में प्रमुख सचिव वित्त राहुल भटनागर, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ. अनूप चन्द्र पाण्डेय, सचिव पर्यटन अमृत अभिजात, सचिव संस्कृति अनीता सी. मेश्राम सचिव मुख्यमंत्री पार्थ सारथी सेन शर्मा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।
संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply