पत्रकार को लूटने, पीटने वाले बदमाशों को बचा रहे हैं एसओ

पत्रकार प्रमेन्द्र प्रताप सिंह
पीड़ित पत्रकार परविंदर प्रताप सिंह

बदायूं जिले में पुलिस पर बदमाश पूरी तरह हावी नजर आ रहे हैं हालात इतने भयावह हो चले हैं कि पत्रकार को बेरहमी से पीट कर लूटने वाले बदमाश का खुलासा होने के बावजूद पुलिस कार्रवाई करने को तैयार नजर नहीं आ रही है पीड़ित पत्रकार शीर्ष अफसरों से लगातार मिल रहा है और बदमाशों के विरुद्ध कार्रवाई कराने की मांग कर रहा है, लेकिन पुलिस अब घटना को सड़क हादसा बताने लगी है, जबकि पीड़ित पत्रकार की मेडिकल रिपोर्ट स्पष्ट कह रही है कि उसे बेरहमी से पीटा गया है, इसके बावजूद पुलिस अफसर मौन धारण किये हुए हैं

उल्लेखनीय है कि पत्रकार परविंदर प्रताप सिंह मुख्यालय से 2 मई की शाम को उसावां थाना क्षेत्र में स्थित अपने गाँव म्यारी बाइक से जा रहे थे, तभी उन्हें सशस्त्र बदमाशों ने घेर लिया। बदमाशों ने परविंदर को न सिर्फ लूटा, बल्कि बेरहमी से पिटाई भी लगाई। बदमाश 17 हजार नकद व सोने की चेन लूट कर आसानी से फरार भी हो गये। घटना के बाद परविंदर की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया, साथ ही परविंदर का जिला अस्पताल में कई दिनों तक उपचार चला। मेडिकल रिपोर्ट में स्पष्ट है कि उन्हें चोटें पहुचाई गई हैं।

उधर मुकदमे की विवेचना कर रहे सब-इंस्पेक्टर वीरेश शुक्ला ने घटना का खुलासा करते हुए बदमाश भी चिन्हित कर लिए। आरोप है कि राजनैतिक दबाव में थानाध्यक्ष अवनीश यादव बदमाशों के विरुद्ध कार्रवाई करने को तैयार नहीं हैं। परविंदर का आरोप है कि एसओ अवनीश यादव बदमाशों का खुला पक्ष ले रहे हैं।

पीड़ित पत्रकार एसएसपी सुनील कुमार सक्सेना से मिला और बदमाशों के विरुद्ध कार्रवाई कराने की मांग की, तो एसओ अवनीश यादव सड़क हादसा बताने लगे, इस पर परविंदर ने शीर्ष अफसरों से फोरेंसिक जाँच करवाने की मांग की, लेकिन अभी तक जाँच भी नहीं कराई गई है। पीड़ित पत्रकार का कहना है कि घटना का खुलासा होने से बदमाश अब उससे व्यक्तिगत रंजिश मानने लगे हैं, जो उसकी हत्या भी कर सकते हैं, लेकिन पुलिस स्थिति को गंभीरता से नहीं ले रही है। पीड़ित पत्रकार ने पुनः एसएसपी से बदमाशों के विरुद्ध कार्रवाई कराने की मांग की है।

 

Leave a Reply