कई बड़े नेताओं के परिजन नहीं बन पाये प्रधान, बेईमानी भी हुई

ग्राम पंचायत परौली से विजयी प्रत्याशी सुगरा बेगम प्रमाण पत्र लेते हुए।
ग्राम पंचायत परौली से विजयी प्रत्याशी सुगरा बेगम प्रमाण पत्र लेते हुए।
बदायूं जिले में त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन के अन्तर्गत ग्राम पंचायत के प्रधान पद की कुल 1038 सीटों की मतगणना का कार्य जारी है, जिनके अधिकांश परिणाम घोषित किये जा चुके हैं। प्रेक्षक अजय कुमार सिंह, जिलाधिकारी शम्भू नाथ एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सौमित्र यादव मतगणना स्थलों का भ्रमण कर गणना कार्य का जायजा लेते रहे, इसके बावजूद कई जगह बेईमानी के आरोप लगाये जा रहे हैं।
खुश नजर आते एक विजयी प्रत्याशी।
खुश नजर आते एक विजयी प्रत्याशी।
रविवार को प्रातः सात बजे से जिले भर में मतगणना प्रारम्भ हो गई। प्रेक्षक, जिलाधिकारी तथा एसएसपी ने मतगणना स्थलों पर पहुंचकर गणना कार्य के अलावा सुरक्षा व्यवस्था, स्ट्रांग रूम से मतगणना स्थल तक मतपेटिकाओं के पहुंचाने की सुरक्षा और गणना के बाद मतपत्रों की बंडलिंग के कार्य का भी निरीक्षण किया, इसके बावजूद कई जगह गणना कर्मियों पर बेईमानी कराने के आरोप लगाये जा रहे हैं। इस्लामनगर ब्लॉक के आरओ और कई एआरओ शुरू से ही विवादों में रहे हैं। आज भी नूरपुर पिनौनी ग्राम पंचायत के वार्ड- नौ से विजयी प्रत्याशी राकेश की जगह उमेश को जिताने का आरोप लगा, लेकिन किसी ने जाँच तक नहीं की।
उधर जिले भर में खुशी और गम का माहौल है। विजयी प्रत्याशियों के समर्थक जश्न मनाते नजर आ रहे हैं, वहीं हारे हुए प्रत्याशियों के समर्थक मायूस दिख रहे हैं। प्रतिबंध के बावजूद जुलुस भी निकलते नजर आ रहे हैं। कई जगह मामूली झड़प होने की भी सूचनायें हैं, इसके अलावा सपा, भाजपा और बसपा नेताओं के कई परिजन बुरी तरह चुनाव हारे हैं। ब्लॉक बिसौली की ग्राम पंचायत परौली से सुगरा बेगम भारी अंतर से चुनाव जीत गई हैं, वे ईओ स्वर्गीय शहंशाहवली की पत्नी हैं, यह परिवार कैबिनेट मंत्री आजम खां का करीबी माना जाता है, जिससे परौली ग्राम पंचायत पर जिले भर के लोगों की नजरें जमी हुई थीं। 1038 ग्राम पंचायतों के सापेक्ष अब तक 1015 ग्राम पंचायतों के परिणाम घोषित किये जा चुके हैं।

Leave a Reply