पुलिस और यादवों का अलग-अलग स्थानों पर आतंक

टंडन प्लाजा में घटना के बाद इंद्रा चौक पर लगी भीड़ और सिपाही।
टंडन प्लाजा में घटना के बाद इंद्रा चौक पर लगी भीड़ और सिपाही।

बदायूं में पुलिसिया और यादवी आतंक बरकरार है। सिविल लाइन थाना क्षेत्र में शनिवार को सिपाहियों ने तांडव किया, तो बिसौली कोतवाली क्षेत्र में यादवों ने जमकर आतंक मचाया। दोनों घटनाओं को लेकर लोग सहमे हुए हैं।

सिविल लाइन थाना क्षेत्र में स्थित टंडन प्लाजा मार्केट में शनिवार को मोबाइल विक्रेता अमित गुप्ता को सदर कोतवाली के दो सिपाहियों ने आकर बेवजह हड़काना शुरू कर दिया और विरोध करने पर पिटाई लगा दी, तो व्यापारी एकजुट हो गये। बाद में व्यापारियों ने सिपाहियों को हड़काया ही नहीं, बल्कि पीट भी दिया, जिससे काफी देर तक अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। यहाँ यह भी बता दें कि दो दिन पहले कोतवाली क्षेत्र में एक सिपाही ने मकान मालिक को पीट दिया था। सिपाही जेल जा चुका है।

उधर बिसौली कोतवाली क्षेत्र के गाँव फतेहपुर निवासी पिता-पुत्र को दबंगों ने अगवा कर लिया और तीन घंटे तक बंधक बनाये रखा। दोनों पिता-पुत्र के साथ महिलाओं को भी बेरहमी से पीटा गया है। हालत गंभीर होने के कारण पिता को रेफर कर दिया गया है।

शनिवार को सुबह लगभग दस बजे गाँव फतेहपुर निवासी राम गोपाल पुत्र डाल चन्द्र और राजेन्द्र पुत्र राम गोपाल खेत में काम कर रहे थे, साथ ही राम गोपाल की पत्नी निर्मला, सुशीला पुत्री राम गोपाल व वीरवती पत्नी राजेन्द्र भी खेत में ही काम कर रही थीं, तभी पड़ोसी गाँव सिद्धपुर के दर्जनों यादवों ने उन पर हमला बोल दिया। राम गोपाल पाली और उसके बेटे राजेन्द्र को मौके पर ही बेरहमी से पीटा और फिर ट्रैक्टर-ट्राली में डाल ले गये। महिलाओं ने ट्रैक्टर के आगे खड़े होकर रोकने का प्रयास किया, तो दंबगों ने निर्मला, सुशीला और वीरवती की भी जमकर पिटाई लगाई दी। उनके कपड़े फाड़ दिए।

घटना की सूचना पर कोतवाल जीत सिंह ने दबंगों के घरों पर छापा मारा, तो राम गोपाल को दबंग तारापुर के जंगल में छोड़ गये। पुलिस के दबाव में आधा घंटे बाद दबंगों ने राजेन्द्र को भी मुक्त कर दिया। दोनों को पुलिस ने अस्पताल भेज दिया, लेकिन प्राथमिक उपचार के बाद पिता को डॉक्टर ने रेफर कर दिया गया। पुलिस के हाथ अभी तक एक भी दबंग नहीं लगा है।

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि 6-7 जुलाई की रात को थान सिंह के बेटे की शादी में चार्जिंग के दौरान मोबाइल गायब होने पर गोली चल गयी थी, जिसमें सिद्धपुर के ओमेन्द्र को गोली लगी थी, इस घटना में चार लोग नामजद हुए थे, लेकिन दंबग यादवों ने पालियों को खेतों पर न जाने की चेतावनी दे दी थी। शनिवार को बेखौफ दबंगों ने खुलेआम हमला भी कर दिया, इस घटना में सिद्धपुर निवासी पृथ्वीराज, किशन, सेवक, कुंवर पाल, ऋषि पाल, मही पाल, धर्मेन्द्र और राजेन्द सहित कई लोगों के विरुद्ध बलवा, जानलेवा हमला और अगवा करने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

Leave a Reply