ड्राईवर शोयब ने लुटवाया था दवा व्यापारी और आसिफ को भाई ने ही मरवाया

स्वाट टीम के चंगुल में लुटेरे।

बदायूं जिले में शातिर अपराधी जघन्य वारदातों को निरंतर अंजाम दे रहे हैं, वहीं पुलिस अपराधियों से एक कदम आगे की सोच कर पकड़ भी रही है। हाईवे पर दवा व्यापारी को लूटने वाले शातिर लुटेरों को पुलिस ने दबोच लिया। पुलिस ने गुमशुदा की हत्या करने वालों को भी दबोच लिया है। एसएसपी ने खुलासा करने वाली टीम की प्रशंसा की है।

उल्लेखनीय है कि दवा व्यवसाई रोहित गोयल को 9 मई को वजीरगंज से लौटते समय लूटा गया था। पुलिस ने नगदी , मोबाईल फोन एवं सैंट्रो कार सहित लुटेरों को दबोच लिया है। स्वाट टीम के प्रभारी आर. जी. शर्मा, सब-इंस्पेक्टर संदीप तोमर, एसओ सिविल लाइन राजीव कुमार शर्मा, सिपाही लोकेन्द्र सिंह, सिपाही आरिफ, सिपाही दिनेश और सिपाही यशवीर ने नौशेरा फैक्ट्री के पास खंडहर के बराबर से दोपहर के समय लूट की योजना बनाते हुए आरिफ पुत्र मुजाहिद निवासी गभियाई थाना अलापुर, जुबैर पुत्र महताब निवासी खिरिया रहलू थाना अलापुर, कासिफ पुत्र अरसद खाँ निवासी मोहल्ला फरसोरी टोला थाना कोतवाली, फिरोज पुत्र रहीश निवासी मोहल्ला कबूलपुरा थाना कोतवाली, शोयब पुत्र साकिर निवासी वेदोटोला मीराजी चौकी के पास थाना कोतवाली को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ करने पर अभियुक्तों ने बताया कि शोयब पुत्र साकिर दवा व्यवसाई रोहित गोयल की गाडी पर 5 वर्ष से ड्राईवरी कर रहा था, इसी के द्वारा अभियुक्त गण को लूट के बारे मे जानकारी देकर घटनायें करायी जा रही थीं। अभियुक्तों से घटना में प्रयुक्त सैन्ट्रो कार संख्या-  DL-02- C- AD 3669 सिलवर ग्रे, एक तमंचा 315 बोर व 2 कारतूस, लूटे गये 2 मोबाईल फोन, 2 फर्जी नंबर प्लेट UP 76- A 5676, 65500 रूपये बैग सहित और मास्क भी बरामद किये गये हैं। एसएसपी ने बताया कि अभियुक्त शातिर किस्म के अपराधी हैं, जो जनपद बदायूं के साथ आसपास के जनपदों में भी वारदातों को अंजाम देते रहे हैं। एसएसपी ने खुलासा करने वाली टीम को 5000 रूपये नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है।

इसके अलावा 14 मई को ग्राम खेड़ा बुजुर्ग के निवासी आसिफ पुत्र नफीस की गुमशुदगी दर्ज कराई गई गयी थी सागर ताल जंगल से गुमशुदा आसिफ के कपड़े बरामद हुए थे, जिसके बाद गुमशुदा के पिता नफीस पुत्र मशीद खाँ की तहरीर पर गुमशुदगी को मुकदमा संख्या- 402/17 धारा 364 आईपीसी में तरमीम कर दिया गया पुलिस ने सत्यपाल पुत्र रामपाल निवासी मलगाँव थाना बिनावर को 13 मई को गिरफ्तार किया था, उसने स्वीकार किया गया कि उसके द्वारा अपने फुफेरे भाई पप्पू पुत्र रामसिह निवासी दैसर नगला थाना उझानी के साथ आसिफ पुत्र नफीस की दिनाँक 10 मई को सागर ताल जंगल मे हत्या कर दी थी और शव को वहीं पर एक खंडहर में छिपा दिया था। अभियुक्त ने यह भी खुलासा किया कि उसने यह हत्या मृतक के भाई रहीश मिया पुत्र नफीस के इसारे पर पैसे लेकर की थी, क्योंकि दोनों भाईयों में संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था। एसएसपी ने खुलासा करने वाली टीम को 5000 रूपये नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

दवा व्यापारी से हाईवे पर सवा लाख की लूट, सेंट्रो सवार सशस्त्र लुटेरे फरार

Leave a Reply