बरेली में मेगा फूड पार्क के लिए चालीस एकड़ भूमि आवंटित

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जनपद बरेली में एक इंटीग्रटेड एग्रा मिल्क प्रोजेक्ट एवं पशु उत्थान वर्ण संकर ( हाइब्रिड ) केंद्र की स्थापना संबंधी घोषणा के अनुपालन में 40 एकड़ भूमि आवंटित कर दी गयी है। यह जानकारी उत्तर प्रदेश पशुधन विकास परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डाॅ. बी. बी. एस. यादव ने दी।
श्री यादव ने प्रायोजन के उद्देश्यों का विवरण देते हुए बताया कि पशु उत्थान ( वर्ण संकार) की स्थापना करना हाइटेक डेयरी फार्म की आधार भूत संरचना के साथ- साथ एक उच्च गुणवत्तायुक्त भ्रूण प्रत्यारोपण केन्द्र तथा ई. टी. टी. प्रशिक्षण केन्द्र की स्थापना करना। एच. एफ. एवं जर्सीनस्त एवं स्वदेशी प्रजाति की गायों से उच्च गुणवत्तायुक्त भू्रण प्राप्त कर उन्नत स्वदेशी संतति का विकास करना भ्रूण प्रत्यारोपण तकनीक ( इस तकनीक द्वारा ए. आई. की तुलना में 3-4 गुना त्वरित विकास ) द्वारा अति हिमीकृत वीर्य उत्पादन केन्द्रोें हेतु उन्नत नर वत्सों का उत्पादन करना उक्त तकनीक  से  केन्द्र पर उच्च गुणवत्तायुक्त नर व मादा वत्सों का उत्पादन एवं अपूर्ति करना।
यादव ने बताया कि पशुचिकित्सालयों पर कार्यरत पशु चिकित्साधिकारियों को भ्रूण प्रत्यारोपण तकनीक का प्रशिक्षण  प्रदान करना प्रदेश के पशुपालकों को भ्रूण प्रत्यारोपण की सूविधा उपलब्ध कराकर उस गुणवत्तायुक्त पशुओं का उत्पादन करना है। इस तकनीक के माध्यम से दुग्ध उत्पादन में आशातीत वृद्धि करना है, विलुप्रयाय पशु प्रजातियों का संरक्षण एवं संवर्द्धन करना है।
यादव ने प्रायोजना से मिलने वाली लाभों की जानकारी देते हुए बताया कि इससे केंद्र पर दुग्ध उत्पादन के माध्यम से प्रति वर्ष 14 लाख रुपये प्राप्त होंगे। विभिन्न प्रजाति के दाता मादाओं से प्रति वर्ष 720 भ्रूण का उत्पादन किया जायेगा, जिसमें से 50 प्रतिशत भ्रूण को अतिहिमीकृत करके विक्रय करने पर 36 लाख रुपये प्राप्त होंगे। फार्म एवं आस-पास के क्षेत्रों मे प्रतिवर्ष 350 भ्रूण का प्रत्यारोपण किया जायेगा, जिससे प्राप्त संतति के विक्रय से 65 लाख रुपये वार्षिक प्राप्त होंगें। विदेशों से आयातित भ्रूण को प्रत्यारोपित करने के उपरान्त प्राप्त नर वत्सों के विक्रय से प्रतिवर्ष 15 लाख रुपये प्राप्त होगें। प्रशिक्षण केन्द्र के माध्यम से 10 लाख रुपये प्राप्त होंगे। वर्मीकल्चर के माध्यम लगभग 15 लाख रुपये की प्राप्ति होगी।
यादव ने बताया कि प्रतिवर्ष लगभग 85 नर वत्सों को वीर्य उत्पादन केन्द्र हेतु उपलब्ध कराया जायेगा एवं इनसे 25.50 लाख अतिहिमीकृत वीर्य स्ट्राज उत्पादित की जायगी, जिससे वीर्य उत्पादन केन्द्र को 75 लाख रुपये की अतिरिक्त आय प्राप्त होंगी। इससे द्वारा किये जाने वाले कृत्रिम गर्भाधान से यदि 9 लाख पशु गर्भित हेागें, जिससे उच्च उत्पादन क्षमात के लगभग 4 लाख मादा पशु पैदा होेगें। प्रति पशु यदि दुग्ध उत्पादन मे 1000 लीटर की वृद्धि होती है, तो प्रतिवर्ष दुग्ध उत्पादन में 4 लाख टन तथा 1200 करोड़ रुपये की आय वृद्धि होगी, उच्च उत्पादन क्षमता के उत्पन्न पशुओं से पशुपालकों की आय कई गुना बढ जायेगी तथा इसे किसानों एवं पशुपालकों की आय को सुनिश्चित रुप से बढ़ाने हेतु एक माध्यम के रुप में प्रयोग किया जा सकता हैं। उक्त् केन्द्र की स्थापना के फलस्रुप कृत्रिम गर्भाधान तकनीक के प्रसार से पशु मित्रों (प्राइवेट कृत्रिम गर्भाधान कार्यकताओं) हेतु प्रत्यक्ष एवं आस-पास के क्षेत्रों के पशुपालको हेतु परोक्ष रुप से रोजगार नवीन अवसरों का सृजन होगा।
मुख्यमंत्री 56 महानुभावों को कल करेंगें यश भारती से सम्मानित 
यश भारती सम्मान समारोह वर्ष 2013-14 एवं 2014-15 का  आयोजन संस्कृति विभाग , उ0 प्र0 द्वारा कल 09 फरवरी को पूर्वान्ह 10: 30 बजे यहां डा. राम मनोहर लोहिया पार्क, गोमती नगर में किया जा रहा है। यश भारती सम्मान प्रदेश में संगीत, साहित्य, क्रीड़ा ललित कलायें तथा अन्य क्षेत्रों में विशिष्ट योगदान करने वाले ख्यातिलब्ध महानुभावों को प्रदान किया जाता है। वर्ष 2013-14 में 22 महानुभावों तथा वर्ष 2014-15 में 34 महानुभावों को सम्मानित किया जायेगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इन विभूतियों को सम्मानित करेंगे।
यह जानकारी महिला कल्याण एवं संस्कृति राज्य मंत्री अरुण कुमारी कोरी ने दी। उन्होंने बताया कि सीमा तिवारी को वीरता के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए महारानी अहिल्याबाई होल्कर पुरस्कार से अलंकृत किया जा रहा है। इस प्रकार वीरतापूर्ण कृत्य हेतु रेशम फातमा को रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है।
‘यश भारती सम्मान’ उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रतिवर्ष कला तथा अन्य क्षेत्रों के विशेष प्रतिभावन विशिष्ट महानुभावों को, जिन्होंने शास्त्रीय संगीत (गायन, वादन, नृत्य), लोक संगीत (गायन, वादन, नृत्य), आधुनिक एवं परम्परागत नाट्य विधायें (नाट्य, लेखन, अभिनय, निर्देशन आदि), आधुनिक एवं परम्परागत ललित कलायें (चित्रकला, मूर्तिकला आदि), फिल्म एवं दूरदर्शन तथा आकाशवाणी धारावाहिक (आलेखन, अभिनय, निर्देशन, कास्ट्यूम, सिनेमेटोग्राफी आदि) तथा साहित्य, विज्ञान, क्रीड़ा, शिक्षा इत्यादि क्षेत्रों में अपने व्यक्तिगत प्रयासों से उत्कृष्टता के आयाम स्थापित किये हैं तथा राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गौरव हासिल कर प्रदेश का मान बढ़ाया है, उन महानुभावों को सम्मानित किया जाता है।
‘यश भारतीय सम्मान’ मुलायम सिंह यादव, तत्कालीन मुख्यमंत्री द्वारा वर्ष 1994-95 में प्रारम्भ किया गया था। तब से आज तक 85 महानुभावों को यह सम्मान प्रदान किया जा चुका है। वर्ष 2013-14 में एवं वर्ष 2014-15 में 56 महानुभावों को ‘यश भारती सम्मान’ से सम्मानित किया जा रहा है। वर्ष 2013-14 के लिये यश भारती से सम्मानित किये जा रहे 22 महानुभावों में लोदी मोहम्मद सफी खाँ ‘बेकल उत्साही’ (साहित्य), हीरालाल यादव (लोकगायन), डाॅ. जगदीश गाँधी (शिक्षा), देवी प्रसाद पाण्डेय ‘अडिग’ (साहित्य), प्रो. माता प्रसाद त्रिपाठी (साहित्य), अशोक कुमार सिंह (हाकी), वंश गोपाल यादव (आल्हा गायन), अनूप जलोटा (गायन), राजन साजन मिश्र (शास्त्रीय गायन), रमेश भइया (समाज-सेवा), पं. विकास महाराज (सरोद), शीतला पाण्डेय ‘समीर’ (फिल्म-गीतकार), लाल बचन यादव (कुश्ती), मुनव्वर अंजार (जूडो), रेखा भारद्वाज (सुगम संगीत), धर्मेन्द्र यादव (मुक्केबाजी), भगत सिंह (कुश्ती), योगेन्द्र सिंह यादव (सैन्य-सेवा), विजय पाल यादव (कुश्ती), राजेश कुमार यादव (नौकायन), अभिषेक यादव (मार्शल-आर्ट), तथा श्वेता प्रियदर्शनी  (शतरंज) शामिल हैं।
वर्ष 2014-15 में जिन 34 विभूतियों को यश-भारती से सम्मानित किया जा रहा है। उनमें हामिद उल्लाह ‘हामिद हिन्दी’ (साहित्य), प्रो. रीता गांगुली (उपशास्त्रीय गायन), दर्शन सिंह यादव (समाज-सेवा), प्रो. भागीरथ प्रसाद त्रिपाठी ‘वागीश शास्त्री’ (शिक्षा), प्रो. हकीम सैय्यद जिल्लुर्रहमान (यूनानी चिकित्सा), प्रो. जयकृष्ण अग्रवाल (ललित कला), विनोद मेहता (पत्रकारिता), डाॅ. उर्मिल कुमार थपलियाल (लोक-रंगमंच, साहित्य), रवीन्द्र जैन (संगीतकार), योगेश गौड़ (गीतकार), टी.पी. त्रिवेदी (ज्योतिष विज्ञान), गिरधर लाल मिश्र ‘जगद्गुरू रामानन्दाचार्य स्वामी भद्राचार्य (समाज-सेवा), राजकुमार वर्मा (चित्रकार, माइक्रो-पेंटिंग), डाॅ. ज्ञान चतुर्वेदी (साहित्य), बुद्धि प्रकाश (योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा), विष्णु यादव (बिरहा गायन), डाॅ. कुमकुम धर (कथक-नृत्य), डाॅ. विष्णु सक्सेना (साहित्य), शुभा मुद्गल (शास्त्रीय-गायन), कृष्ण कन्हाई एवं गोविन्द कन्हाई (स्वर्ण-चित्रकार), डाॅ. सी.एस. यादव (चिकित्सा), राजकुमार (कुश्ती), डाॅ. आर.पी. सिंह (खेल), डाॅ. राकेश यादव (चिकित्सा), इफ्तखर नदीम खाँ (काष्ठ-कला), जसजीत सिंह गिल उर्फ जिम्मी शेरगिल (अभिनेता), कैलाश खेर (गायन), राहत अली खाँ साबरी (गजल, गीत एवं सूफी गायन), नवाजुद्दीन सिद्दीकी (फिल्म), अवनीश कुमार यादव (खेल), अल्का तोमर (महिला कुश्ती), पूनम यादव (भारोत्तोलन), गीतांजलि शर्मा (नृत्य) तथा खुशबीर सिंह ‘शाद’ (शायर) शामिल हैं।
इस अवसर पर महारानी अहिल्याबाई होल्कर पुरस्कार से सीमा तिवारी को वीरता के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिये सम्मानित किया जायेगा। महिलाओं के लिये रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से रेशम फातमा को सम्मानित किया जायेगा। अहिल्याबाई होल्कर पुरस्कार के लिये पांच लाख रुपये की धनराशि एवं प्रशस्ति पत्र तथा रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार के लिये एक लाख रुपये की धनराशि पुरस्कार स्वरूप दी जायेगी। इस समारोह में लखनऊ विकास प्राधिकरण की समाजवादी जनेश्वर इन्क्लेव योजना तथा समाजवादी लोहिया इंक्लेव योजना का भी मुख्यमंत्री द्वारा शिलान्यास किया जायेगा।

Leave a Reply