राजनाथ ने अटल को समर्पित की मेट्रो, आदित्यनाथ ने नरेंद्र मोदी को दिया श्रेय

मेट्रो का उद्घाटन करते गृहमंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल राम नाइक एवं मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी।

लखनऊ में मेट्रो के उद्घाटन के अवसर पर केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने एलएमआरसी की इस परियोजना को देश की आधुनिकतम मेट्रो रेल परियोजना बताते हुए कहा कि इससे लखनऊ नगर के विकास की सम्भावनाओं का द्वार खुल जाएगा। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय पब्लिक इन्वेस्टमेण्ट बोर्ड (पीआईबी) द्वारा एलएमआरसी परियोजना की स्वीकृति की जानकारी प्राप्त होने पर लखनऊ का सांसद होने के नाते उन्हें सर्वाधिक खुशी हुई थी। उन्होंने एलएमआरसी परियोजना को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित करते हुए कहा कि लखनऊ को विश्वस्तरीय शहर बनने से रोका नहीं जा सकता है। लखनऊ के लिए संचालित अन्य विकास परियोजनाओं की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन रिंग रोड का कार्य 03 वर्ष में पूर्ण हो जाएगा।

इसी प्रकार ट्रैफिक कंजेशन को कम करने के लिए 07 फ्लाईओवर के निर्माण भी कराए जायेंगे। चारबाग रेलवे स्टेशन पर कैण्ट की तरफ से दूसरा प्रवेश द्वार बनाने के लिए 81 करोड़ रुपए स्वीकृत हो चुके हैं। साथ ही इस रेलवे स्टेशन पर 04 अतिरिक्त टैंक व 02 नये प्लेटफाॅर्म तथा आलमनगर स्टेशन को सैटेलाइट स्टेशन के रूप में विकसित किया जाएगा। गोमतीनगर रेलवे स्टेशन के विकास के लिए 513 करोड़ रुपए स्वीकृत हो चुके हैं। टर्मिनल स्टेशन के रूप में विकसित हो रहे गोमतीनगर स्टेशन में 02 प्लेटफाॅर्म बन चुके हैं, जबकि 06 नये प्लेटफाॅर्म और बनाए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने लखनऊ मेट्रो रेल के प्रथम चरण में ट्रांसपोर्टनगर से चारबाग तक संचालन के लिए आज ट्रांसपोर्ट नगर स्टेशन पर आयोजित उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि मेट्रो के चलने से नगर की आर्थिक एवं सामाजिक तस्वीर में तेजी से बदलाव आएगा। लखनऊ नगर के नागरिक जीवन इतिहास में आज के दिन को स्वर्णिम दिन बताते हुए उन्होंने कहा कि लखनऊ मेट्रो रेल काॅर्पोरेशन (एलएमआरसी) परियोजना इस बात की गवाह है कि राजकीय प्रोजेक्ट भी निर्धारित समय से पहले तय धनराशि में पूरी की जा सकती है। उन्होंने परियोजना के लिए भारत सरकार एवं राज्य सरकार को श्रेय देते हुए कहा कि इसको सफल बनाने में डाॅ. ई. श्रीधरन के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। उन्होंने एलएमआरसी के प्रबन्ध निदेशक कुमार केशव व निदेशक दलजीत सिंह की सराहना करते हुए कहा कि इन दोनों इंजीनियरों ने आईआईटी कानपुर से अध्ययन किया है। इससे यह भी स्पष्ट होता है कि अवसर मिलने पर उत्तर प्रदेश के लोग विशाल परियोजनाओं को मूर्त रूप प्रदान कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने निर्धारित समय से कम अवधि में निर्मित किए गए लखनऊ मेट्रो रेल के प्रथम चरण के लिए एलएमआरसी के प्रधान सलाहकार डाॅ. ई. श्रीधरन एवं अन्य पदाधिकारियों की सराहना करते हुए भरोसा जताया कि शेष परियोजना भी निश्चित समय में पूरी होगी। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं के समय से पूरा न होने पर राष्ट्र को काफी क्षति उठानी पड़ती है। अधिक समय लगने से जहां जनता के ऊपर अतिरिक्त वित्तीय भार पड़ता है, वहीं परियोजना से मिलने वाले लाभ से लोग वंचित रहते हैं। इसलिए परियोजनाओं को समय से पूरा करके राष्ट्र की बहुत बड़ी सेवा की जा सकती है। निर्धारित समय से पहले परियोजना को पूरी करने के लिए डाॅ. ई. श्रीधरन के नेतृत्व में एलएमआरसी की पूरी टीम बधाई की पात्र हैं। उन्होंने कहा कि 06 सितम्बर, 2017 से मेट्रो की यात्रा आम जनता के लिए सुलभ हो जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लखनऊ मेट्रो रेल परियोजना के लिए दिए गए सहयोग का उल्लेख करते हुए योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री के प्रयासों के फलस्वरूप यूरोपियन इन्वेस्टमेण्ट बैंक द्वारा आसान किश्तों में ऋण स्वीकृत हो पाया। इस परियोजना के लिए जब यूरोपियन इन्वेस्टमेण्ट बैंक के साथ सहमति पत्र पर हस्ताक्षर की कार्रवाई सम्पन्न हो रही थी, तो उस मौके पर हरदीप सिंह पुरी भी उपस्थित थे। यह संयोग ही है कि आज श्री पुरी यहां भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) की हैसियत से स्वयं मौजूद हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने भारत के करीब 50 शहरों में सार्वजनिक यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए मेट्रो रेल परियोजना के संचालन की बात कही है। प्रधानमंत्री द्वारा निर्धारित इस लक्ष्य के तहत उत्तर प्रदेश के बड़े शहरों में मेट्रो रेल परियोजना संचालन के लिए राज्य सरकार द्वारा यूपी मेट्रो रेल काॅर्पोरेशन का गठन किया जाएगा। डाॅ. ई. श्रीधरन जी से इस काॅर्पोरेशन के प्रधान सलाहकार के रूप में कार्य करने का आग्रह करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इनके सहयोग से राज्य के बड़े शहरों में आधुनिक, सस्ती एवं पर्यावरण के अनुकूल सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था विकसित करने के लिए तत्पर है।

आदित्यनाथ योगी ने कहा कि गाजियाबाद व नोएडा के अलावा अब लखनऊ में भी मेट्रो रेल परियोजना के संचालन से प्रदेश के विकास कार्यक्रमों को और अधिक गति प्रदान करने में मदद मिलेगी। उन्होंने एलएमआरसी को लाभकारी परियोजना बताते हुए कहा कि इससे जहां प्रदेश की राजधानी में ट्रैफिक जाम की समस्या से छुटकारा मिलेगा, वहीं पर्यावरण की हिफाजत के साथ-साथ नगरवासियों को सस्ती, सार्वजनिक यातायात व्यवस्था भी उपलब्ध होगी। उन्होंने भरोसा जताया कि कुमार केशव की यह टीम वर्ष 2019 के निर्धारित समय तक चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से मुंशी पुलिया तक निर्माणाधीन उत्तर-दक्षिण काॅरिडोर का कार्य पूर्ण कर लेगी। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश के 07 नगरों को भारत सरकार के सहयोग से स्मार्ट सिटी मिशन के तहत विकसित करने के लिए पूरी गम्भीरता से काम किया जाएगा।

मेट्रो में यात्रा करते राज्यपाल, गृहमंत्री एवं मुख्यमंत्री।

भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि भारत के विभिन्न शहरों में इस समय 370 किमी मेट्रो ट्रैक संचालित हैं। जबकि 500 किमी से अधिक निर्माणाधीन हैं। उन्होंने कहा कि मेट्रो रेल परियोजनाओं का कार्य तेज किया जाएगा। एलएमआरसी के प्रधान सलाहकार डाॅ. ई. श्रीधरन ने परियोजना के लिए जिम्मेदार टीम की सराहना करते हुए कहा कि पहली बार मेट्रो के प्रथम चरण का कार्य निर्धारित 03 वर्ष से कम समय में पूरा हुआ। इस अवसर पर प्रमुख सचिव आवास एवं शहरी नियोजन मुकुल सिंघल एवं प्रबन्ध निदेशक कुमार केशव ने भी अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में एलएमआरसी द्वारा तैयार की गई काॅफी टेबल बुक का विमोचन भी किया गया। इस मौके पर उपस्थित विशिष्टजनों का स्वागत स्मृति चिन्ह देकर किया गया। मुख्यमंत्री एवं अन्य उपस्थित विशिष्टजनों ने मेट्रो रेल की यात्रा भी की। उद्घाटन समारोह में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व डाॅ. दिनेश शर्मा सहित मंत्रिमण्डल के अनेक सदस्य, जनप्रतिनिधि एवं अन्य गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थे।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

Leave a Reply