चारा काटने गये कृषक का अपहरण, पुलिस के दबाव में अपहृत कृषक मुक्त

बदायूं में अपहरण की वारदात से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया, लेकिन पुलिस की तत्परता से अपहृता घिर गये, जिससे वे अपहृत को छोड़ कर भाग गये। अपहृत सकुशल है, जिससे पुलिस पूछताछ कर रही है।

सनसनीखेज वारदात सहसवान कोतवाली क्षेत्र की है। गाँव चमरपुरा निवासी कृषक रईस सुबह लगभग 7 बजे टेड़ाघाट पुल की ओर स्थित खेत में जानवरों के लिए चारा काटने गया था। कृषक काफी देर तक घर नहीं लौटा, तब उसका अधिवक्ता भाई मजाहिर खोजने गया। खेत में कटे हुए चारे से लदा डनलप खड़ा था एवं फसल जगह-जगह कुचली हुई थी, इससे मजाहिर ने अनुमान लगाया कि उसके भाई को बदमाश पकड़ ले गये, जिनसे उसके भाई की गुत्थम-गुत्था हुई है। पुलिस को सूचना दी गई, तो पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच गई। अपहरण की सूचना मुख्यालय पर पहुंची, तो हड़कंप मच गया।

बदमाशों को पकड़ने और अपहृत को छुड़ाने के अफसरों के निर्देश पर इंस्पेक्टर रामप्रसाद शर्मा अपनी टीम के साथ जंगल में उतर गये, वे पद चिन्हों के अनुसार कांबिंग करते गये, जिसकी किसी तरह बदमाशों को भनक लग गई, तो बदमाश कुछ घंटों बाद ही अपहृत को छोड़ कर भाग गये। अपहृत सकुशल है, जिससे पुलिस पूछताछ कर रही है। घटना क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

जंगल में खोजबीन करती पुलिस।

Leave a Reply