लापरवाहों पर बिजली की तरह गिरी मुख्य सचिव की गाज

चित्रकूट और झांसी मंडल के दौरे में एक मरीज से बात करते मुख्य सचिव आलोक रंजन।
चित्रकूट और झांसी मंडल के दौरे में एक मरीज से बात करते मुख्य सचिव आलोक रंजन।

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने झांसी एवं चित्रकूट मण्डल की कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यो की समीक्षा के दौरान कार्यो में लापरवाही एवं षिथिलता बरतने पर लगभग दो दर्जन से अधिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों के निर्देश दिये हैं। मुख्य सचिव आज झांसी जिला अस्पताल, नगर निगम, थाना नवाबाद तथा मेडिकल कालेज का औचक निरीक्षण करने के उपरान्त बुन्देलखण्ड विश्व विद्यालय के सभागार में दोनो मण्डलो की कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने  न्यायालय कम्प्यूटरीकरण शिथिलता बरतने पर तहसीलदार सदर बाँदा एवं तहसीलदार अतर्रा को कड़ी चेतावनी, एस.डी.एम. बांदा, सदर प्रतिकूल प्रवृष्टि , तहसीलदार कोंच जालौन के विरूद् विभागीय कार्यवाही के निर्देष दिये हैं। न्यायालय कम्प्यूटरीकरण एवं अन्य कार्यो में मानक के अनुसार मानक के अनुसार कार्य न करने पर अपर आयुक्त, प्रथम चित्रकूट, अपर आयुक्त द्वतीय चित्रकूट, अपर आयुक्त न्यायिक प्रथम झांसी को व्यक्तिगत पत्रावली पर सचेत/चेतावनी देने के निर्देष दिये हैं। खतौनी नकल में ओवर चार्जिग एवं अमलदरामद में विलम्ब के लिए तहसीलदार सदर झांसी को प्रतिकूल प्रविष्टि, रजिस्टार कानूनगो के विरूद्व निलम्बन एवं  विभागीय कार्यवाही के निर्देष दिये हैं। कार्याें में शिथिलता एवं लापरवाही पर चित्रकूट के जिला टी. बी. आफीसर रत्नाकर सिंह के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही एवं स्थानान्तरण, कार्यो में शिथिलता बरतने पर संयुक्त निदेशक कृषि, झांसी के स्थानान्तरण एवं प्रतिकूल प्रविष्टि, समाजवादी पेंशन योजना में शिथिलता एवं कार्यों में लापरवाही बरतने पर जिला समाज कल्याण अधिकारी, झांसी दिनेश कुमार को चेतावनी, कार्यो शिथिलता पर अधीक्षण अभियंता जल निगम, चित्रकूट मण्डल अनिरूद्ध गोपाल को में प्रतिकूल प्रविष्टि एवं स्थानान्तरण करने, चित्रकूट मण्डल में बिना अनुमति के अनुपस्थित चल रहे कई डाक्टरों के विरुद्ध जांच कर विभागीय कार्यवाही करने, झांसी- मिर्जापुर मार्ग की गुणवत्ता खराब पाये जाने पर अधिशासी अभियंता, झांसी विकास प्राधिकरण के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही करने,  मुख्य अभियंता नगर निगम, झांसी आर. के. वर्मा के स्थानान्तरण एवं प्रतिकूल प्रविष्टि, अधिशाषी अभियंता एस. के. गर्ग के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही, अवर अभियंता अरविन्द सोनी को निलम्बित करने, कार्यो में शिथिलता बरतने पर जालौन के जिला आबकारी अधिकारी  को प्रतिकूल प्रविष्टि एवं स्थानान्तरण, नगर पालिका जालौन के अधिशासी अभियंता पी. के. चौधरी के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही एवं निलम्बन, थाना नवाबाद के प्रभारी निरीक्षक एवं थाना कालपी जालौन के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही करने, सी. ओ. क्राइम, जालौन राजेन्द्र द्विवेदी एवं अपर पुलिस अधीक्षक, बांदा स्वामी नाथ प्रसाद तथा सी. ओ. चित्रकूट सत्यवीर सिंह को हटाने के निर्देश दिये।
कानून व्यवस्था की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने संबंधित मण्डलों के पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिया कि कानून व्यवस्था के मामले में कोई समझौता न किया जाय। कानून तोड़ने वाला चाहे जितना बड़ा आदमी हो, उसके विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाय। उन्होंने कहा कि छोटी-छोटी घटनाओं का समय से निराकरण न होने के कारण कानून व्यवस्था की समस्या पैदा हो जाती है और असामाजिक तत्व इसका फायदा उठाकर बड़ी घटना को अंजाम दे देते हैं, जिससे सरकार व प्रदेश की छवि धूमिल होती है, अतः पुलिस प्रशासन को प्रत्येक दशा में निष्पक्ष रह कर समय रहते अपराध एवं अपराधियों की पहचान कर सख्त कार्यवाही करनी होगी। उन्हों कहा कि पुलिस का सीधा संबंध जनता की दुःख एवं तकलीफों से है। जनता अपनी समस्याओं का निराकरण के लिए पुलिस की ओर देखती है, जिस पर पुलिस को हर हाल में खरा उतरना होगा। उन्होंने कहा कि सुदृढ कानून व्यवस्था से विकास का बेहतर वातावरण सृजित होता है। इसलिए पुलिस को और अधिक सजग एवं संवेदनशील रहना होगा।
मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश सरकार पुलिस की चुनौतियों केा समझती है और पुलिस के आधुनिकीकरण, उनके अवासीय सुविधाओं, वाहनों की व्यवस्था एवं अन्य आवश्यक सुविधायें बढ़ाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही लगभग 41 हजार सिपाहियों एवं पांच हजार उप निरीक्षकों की भर्ती की कार्यवाही की जा रही है।
उन्होंने कहा कि महिला उत्पीड़न के लंबित प्रकरणों के निस्तारण हेतु शीघ्र ही फास्ट ट्रेक कोर्ट की स्थापना की जायेगी।  1090 सेवा का पूरे प्रदेश में विस्तार किया गया है। महिलाओं को आत्म सुरक्षा के लिए मार्शल आर्ट के प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने 102 एम्बुलेन्स सेवा और बेहतर उपलब्ध कराने हेतु आगामी तीन माह में एक हजार एम्बुलेन्स की व्यवस्था की जा रही है। प्रदेश में रमजान, ईद आदि पर्वों को दृष्टिगत रखते हुए अल्प संख्यक बहुल क्षेत्रों में सुबह प्रातः 3 बजे से 5 बजे तक तथा सायं 6 बजे से 10 बजे तक विद्युत आपुर्ति प्रत्येक दशा में उपलब्ध कराने के लिए निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि खराब ट्रांसफार्मरों को 72 घंटे में बदलने के निर्देश दिये गये है।
श्री रंजन ने कहा कि बुन्देलखण्ड को क्रेशर जोनघोषित करने तथा क्षेत्र के विकास करने के लिए सोलर इनर्जी प्लान्ट लगाने पर विचार किया जायेगा। उन्होने व्यापारियों के प्रतिनिधियों के अनुरोध पर उद्योगो के लिए रा मेटेरियल तथा आई टी सेन्टर के स्कोप को बढ़ावा दिया जायेगा। उन्होनें कृषक दुघर्टना बीमा योजना के अंन्तर्गत लम्बित दावों का भुगतान यथा शीघ्र कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि संभावित सूखा को दृश्टिगत रखते हुए जिलाधिकारी जिला स्तर पर एक्षन प्लान बनाकर आवष्यक कार्यवाही समय से सुनिष्चित करें। उन्होंने कहा कि आगामी जुलाई माह तक हैण्डपम्पो के रि-बोर का कार्य पूर्ण करा लिया जाय। उन्होंने कहा कि यह सुनिष्चित किया जाय कि विभिन्न योजनाओं के अतर्गत निर्गत धनराशि का व्यय पारदर्शिता के साथ समय से कराया जाय। मुख्य सचिव ने मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि कम से कम सप्ताह में एक दिन फील्ड में जा कर विकास कार्यो की समीक्षा करे। उन्होंने कहा कि वे स्वयं लखनउ से आकर लगभग 4 घंटा फील्ड विजिट कर अपना पसीना बहाया है, इसी तरह अन्य जनपदीय अधिकारी भी अपने क्षेत्रों का भ्रमण अवष्य करें। उन्होंने मेडिकल कालेज झांसी के निरीक्षण के दौरान लोगो द्वारा यह शिकायत की गयी कि मेडिकल कालेज में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या कम हैं, जबकि आस पास के नर्सिग होम्स में भरे पडे है, जिस पर विशेष टीम का गठन कर जांच करने के निर्देष दिये।
मुख्य सचिव के साथ-साथ लघु  उद्योग, गृह, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, समाज कल्याण, उर्जा, नगर विकास, ग्राम्य विकास आदि विभागों के प्रमुख सचिवो एवं  सचिवों के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों ने लोहिया ग्रामों एवं अन्य विकास कार्यो का औचक निरीक्षण किया।

Leave a Reply