निरीक्षण में डीएम के निशाने पर आया लापरवाह एडीओ, वेतन रोका, प्रतिकूल प्रवृष्टि

निरीक्षण के समय अभिलेख देखते डीएम पवन कुमार।

बदायूं जिले के ब्लॉक उझानी क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना, गंगा एक्शन प्लान एवं ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत वित्तीय वर्ष की समाप्ति तक लक्ष्यों के सापेक्ष प्रगति न होने तथा अभिलेखों का रख-रखाव अत्यन्त दयनीय होने के कारण जिलाधिकारी पवन कुमार ने प्रभारी एडीओ पंचायत छत्रपाल सिंह की कड़ी फटकार लगाई एवं अग्रिम आदेशों तक वेतन आहरण पर रोक लगाते हुए प्रतिकूल प्रवृष्टि भी दिए जाने के निर्देश दिए हैं।

डीएम ने लक्ष्यों की पूर्ति न होने तथा शासकीय अभिलेखों का रख-रखाव विधिवत न होने पर उझानी के खण्ड विकास अधिकारी सच्चिदानन्द को दोषी मानते हुए घोर अप्रसन्नता व्यक्त की और चेतावनी दी कि शासकीय अभिलेखों को विधिवत सम्बंधित पत्रावलियों में रखा जाए। उन्होंने गुरुवार को औचक रूप से ब्लॉक उझानी पहुंचकर शासकीय कार्य प्रणाली को परखा और विकास कार्यां की समीक्षा भी की। ब्लॉक परिसर में सफाई व्यवस्था चाक-चौबंद न होने पर भी डीएम ने नाराजगी व्यक्त की।

ब्लॉक में एडीओ पंचायत तैनात न होने के कारण सचिव छत्रपाल सिंह प्रभारी एडीओ पंचायत का कार्य देख रहे थे, लेकिन अब तीन दिन पूर्व एडीओ पंचायत सुधीर कुमार की तैनाती हो चुकी है। प्रभारी एडीओ पंचायत से डीएम ने गंगा एक्शन प्लान के तहत बनाए जाने वाले स्वच्छ शौचालयों की जानकारी ली, तो उन्होंने बताया कि ब्लॉक क्षेत्र के आठ गांवों में 3773 लक्ष्य निर्धारित है। डीएम ने लक्ष्य के सापेक्ष पूर्ति के सम्बंध में पूछताछ की, तो प्रभारी एडीओ के पास ऐसा कोई अभिलेख मौजूद नहीं था, जिससे यह स्पष्ट हो सके कि अब तक कितने शौचालयों का निर्माण हो चुका है।

पिपरौली पुख्ता में कार्य दस प्रतिशत से भी कम
गंगा एक्शन प्लान के तहत गंगा किनारे बसे ग्राम पिपरौली पुख्ता में 647 स्वच्छ शौचालय बनाने का लक्ष्य प्राप्त हुआ था, जिसमें मात्र 60 शौचालय, अर्थात दस प्रतिशत से भी कम शौचालय ही पूरे वित्तीय वर्ष में बनवाए गए हैं। डीएम ने बीडीओ, एडीओ दोनों की घोर लापरवाही मानते हुए एडीओ को तो सजा दे दी है। चेतावनी के बाद भी सुधार नहीं हुआ, तो अब बारी बीडीओ की होगी।
बैंकर्स नहीं कर रहे सहयोग
विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों की उदासीनता के साथ ही स्वच्छ शौचालय निर्माण कार्य में लेटलतीफी एक कारण बैंकर्स द्वारा सहयोग न करना भी है। प्रभारी एडीओ पंचायत द्वारा यह जानकारी देने पर डीएम ने बीडीओ की क्लास लेते हुए एक प्रश्न और किया क्या ब्लॉक स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक आयोजित हुई अथवा नहीं, जिस पर बीडीओ ने बताया कि उन्हें तैनात हुए लगभग 4-5 माह हो चुके हैं, लेकिन अब तक कोई भी बैठक नहीं हुई है। इस पर डीएम ने कड़ी नाराज़गी जताई तथा निर्देश दिए कि एलडीएम से सम्पर्क कर नियमित रूप से ब्लॉक स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठकें आयोजित कराई जायें।
नवागत एडीओ पंचायत को दें समस्त चार्ज
नवागत एडीओ पंचायत सुधीर कुमार को बीडीओ ने मात्र दो गांवों की ही जिम्मेदारी दे रखी है। अब प्रभारी एडीओ से काम लिया जा रहा है। डीएम ने निर्देश दिए हैं कि समस्त चार्ज एडीओ पंचायत को तत्काल प्रभाव से उपलब्ध कराया जाए। डीएम ने नवागत एडीओ पंचायत को निर्देश दिए कि जिन गांवों में शौचालय निर्माण का कार्य ज्यादा पिछड़ा हुआ है। वहां एडीओ पंचायत कैंप कर शौचालय निर्माण की प्रगति में सुधार लायें बीडीओ इसकी निगरानी करें।
आजीविका मिशन के कार्य पर जताई प्रसन्नता
राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत समूह गठन तथा वित्त पोषित समूहों की प्रगति एवं रिवॉल्विंग फंड उपलब्ध कराने का कार्य संतोषजनक पाए जाने पर डीएम ने सम्बंधित कर्मचारी खुशीराम वर्मा की प्रशंसा करते हुए कहा कि दूसरे कर्मचारियों को भी इनसे सबक लेकर अच्छा कार्य करना चाहिए। डीएम ने कर्मचारियों की सर्विस एवं जीपीएफ पासबुक का भी निरीक्षण किया। उन्होंने जिला स्तर से प्राप्त होने वाले शिकायती पत्रों के निस्तारण की भी समीक्षा की। ब्लॉक में सभी कर्मचारी उपस्थित पाए गए। इस अवसर डीआरडीए के परियोजना निदेशक आर.पी. सिंह भी मौजूद रहे।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

Leave a Reply