आई विल वोट का नारा लगाते हुए बच्चों ने निकाली जागरूकता रैली

बच्चों की मनमोहक प्रस्तुति।
बदायूं में मतदान का प्रतिशत बढ़ाने के उद्देश्य से स्कूल के बच्चों का सहयोग लिया जायेगा। बच्चे अपने अभिभावकों सहित सम्बंधियों और पड़ोसियों को भी 15 फरवरी को मतदान करने के लिए प्रेरित करेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी पवन कुमार ने निजी स्कूल में आयोजित मतदान हमारा अधिकार में बच्चों से सहयोग करने की अपील की है।
सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में डीईओ एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महेन्द्र यादव ने संयुक्त रूप से प्रतिभाग किया। डीईओ ने स्कूली बच्चों के ज्ञान को परखते हुए चुटकी ली कि यह कैसे जान सकेंगे कि उनके अभिभावकों ने मतदान किया है या नहीं। बच्चों ने बताया कि बायें हाथ की तर्जनी पर अमिट स्याही का निशान देखकर पता लगाया जा सकता है कि किसने मतदान किया है। स्वीप कार्यक्रम के अन्तर्गत आयोजित कार्यक्रम में स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए। डीईओ एवं एसएसपी ने मां सरस्वती के चित्र पर पुष्पाजलि अर्पित कर कार्यक्रम का शुभांरभ किया।
स्वीप कार्यक्रम के अन्तर्गत मोहल्ला शहबाज़पुर स्थित अल बदायूँ पब्लिक स्कूल के बच्चों एवं आसपास के मतदाताओं ने जागरुकता रैली निकालकर अवश्य मतदान करने की अपील की। सोमवार को जिला राजस्व अधिकारी रणविजय सिंह की अध्यक्षता में जागरुकता कार्यक्रम आयोजित हुआ। स्कूली बच्चों द्वारा विभिन्न प्रकार की तख्तियाँ, पोस्टर, बैनर के साथ रैली निकाली गई।
जिला राजस्व अधिकारी ने कहा कि मत देने का अधिकार सभी मतदाताओं को प्राप्त है, इसलिए सभी मतदाता धर्म, जाति एवं वर्ग तथा प्रलोभन के बिना स्वतंत्र एवं निर्भीक होकर मतदान करें। वोट का अधिकार मनोबल बढाता है। डीआरओ ने कहा कि मतदान का प्रतिशत बढ़ाने हेतु स्कूली बच्चों का भी सहयोग लिया जाएगा। इस अवसर पर अल बदायूँ पब्लिक स्कूल के प्रबंधक आमिर सुल्तानी, विकास माहेश्वरी, गुड्डू अली, रेहान खां, असरार हुसैन, नन्हें मियां, आसिफ सुल्तानी, नाजिया जमील, महरुल निशा, शाइस्ता खां, सोनी, फैजा परवीन, नुहत जमील सहित तमाम लोग मौजूद रहे।
जागरूकता रैली निकलते बच्चे।

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

दलितों, पिछड़ों और अशिक्षितों को छोड़ जागरुकों को किया जा रहा और जागरूक

अफसरों को कैंपेन तक लिखना नहीं आता, आई विल वोट कैंपेन बना मजाक

आई विल वोट अभियान फेल, नाबालिग चला रहे हैं अभियान, प्रशासन मस्त

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.