आमरण अनशन पर बैठे तुलाराम यादव की मौत पर उठा सवाल

गाँव के धार्मिक स्थल पर मौजूद लोगों का फ़ाइल फोटो।
गाँव के धार्मिक स्थल पर मौजूद लोगों का फ़ाइल फोटो।

आमरण अनशन करने वाली प्रसिद्ध मानवाधिकार कार्यकर्ता इरोम शर्मिला को इंफाल पुलिस लगातार गिरफ्तार कर रही है, वहीं यूपी पुलिस व प्रशासन की लापरवाही से बुधवार को एक युवक की असमय मृत्यु हो गई। गाँव सहित पूरे इलाके में शोक की लहर है, वहीं दुखी परिजनों व ग्रामीणों ने युवक की अंत्येष्टि कर दी है।

हृदय विदारक घटना बदायूं जिले में स्थित उसांवा थाना क्षेत्र के गाँव बुद्धुआ नगला की है। वर्षा न होने से फसलें सूख रही हैं, वहीं जीव-जन्तुओं का बुरा हाल है, यह सब 35 वर्षीय तुलाराम यादव पुत्र सरनाम यादव से नहीं देखा गया। धार्मिक प्रवृत्ति के तुलाराम यादव गाँव के ही धार्मिक स्थल पर एक सप्ताह पूर्व इस संकल्प के साथ आमरण अनशन रुपी तप करने बैठ गये कि वर्षा न होने तक वह तपस्या जारी रखेंगे।

तुलाराम के हठ को लेकर मीडिया में खबरें भी आईं, लेकिन पुलिस व प्रशासन की ओर से किसी ने मौके पर जाकर तुलाराम यादव को समझाने तक का प्रयास नहीं किया, जिससे उनकी ऊर्जा का लगातार क्षय होता रहा और बुधवार को तुलाराम यादव की साँसें थम गईं।

बताते हैं कि बुधवार की सुबह लोग धार्मिक स्थल पर पहुंचे, तो तुलाराम यादव बेहोश थे। परिजन व ग्रामीण कुछ कर पाते, तब तक उनके प्राण निकल गये। तुलाराम यादव की मृत्यु पर गाँव सहित पूरे इलाके में शोक की लहर है। गाँव में बुधवार को ही अंत्येष्टि भी कर दी गई। उनकी अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया और आत्मा की शांति की प्रार्थना की।

Leave a Reply