ग्रीन यूपी-क्लीन यूपी के तहत मुलायम-ओमकार ने लगाये पौधे

अभियान का शुभारंभ करते सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव।
अभियान का शुभारंभ करते सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव।
उत्तर प्रदेश सरकार की सबसे महात्वाकांक्षी योजना ग्रीन यू.पी.-क्लीन यू.पी. के तहत आज पूरे प्रदेश में पांच करोड़ पौधों के रोपण के विशेष अभियान का सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने शुभारम्भ किया गया। सरकार द्वारा आगामी 24 घण्टे के अन्दर पांच करोड़ पौधों का रोपण करके विश्व रिकार्ड स्थापित किये जाने का लक्ष्य है।
सरकार की महत्वाकांक्षी योजना का शुभारम्भ लखनऊ में 2200 हेक्टेयर के वन क्षेत्र कुकरैल (सूगामऊ-जरहरा) में मुलायम सिंह यादव ने आठ प्रकार के पौधों का रोपण कर के किया। उन्होंने कहा कि संकल्प, साहस और इच्छा शक्ति जब तक एक साथ नहीं होते हैं, तब तक किसी भी बड़े काम को अंजाम नहीं दिया जा सकता है। मुलायम सिंह यादव ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज प्रदेश के 6166 स्थलों पर वृक्षारोपण का कार्य किया जा रहा है। वृक्षारोपण से प्रदेश के पर्यावरण को जहां बेहतर माहौल मिलेगा, वहीं स्वच्छ पर्यावरण से मानव जीवन में नये वातावरण का भी सृजन होगा। उन्होंने कहा कि पौधों द्वारा वातावरण में विद्यमान कार्बन डाई आक्साईड को कार्बन के अन्य स्वरूपों में दीर्घ काल के लिए संचयित किया जाता है, जो ग्लोबल वार्मिंग तथा जलवायु परिवर्तन के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने में सहायक होता है। उन्होंने कहा कि दुनिया के किसी भी हिस्से में इतनी बड़ी संख्या में पौधों का रोपण एक दिन में आज तक नहीं किया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार सभी के सहयोग से इस कार्य को अपने सीमित साधनों एवं संसाधनों से कर के अनूठा कीर्तिमान स्थापित कर रही है।
श्री यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बड़ी मात्रा में वन एवं खनिज सम्पदा मौजूद है, फिर भी चिन्ता का विषय है कि हम इसका समुचित रूप से दोहन नहीं कर पाये हैं। हमें ऐसे प्रयास करने की आवश्यकता है कि उपलब्ध इस सम्पदा का बेहतर ढंग से उपयोग करके विकास को नये आयाम दे सकें। उन्होंने कहा कि यदि प्राकृतिक सम्पदा का अच्छे तरीके से उपयोग करने के लिए सकारात्मक प्रयास किए गए तो वह दिन दूर नहीं है, जब उत्तर प्रदेश देश में नम्बर एक होगा। उन्होंने लोगों से अपील की कि भावी पीढ़ी को बेहतर वातावरण प्रदान करने के लिए अधिक से अधिक पौधों को लगाएं। उन्होंने कहा कि सरकार ने पौधारोपण अभियान को सफल बनाने के लिए जन आन्दोलन का रूप दिया है। इससे निश्चित ही लोगों में जागरूकता आयेगी और वे इस कार्य में अपना सक्रिय योगदान देने में पीछे नहीं रहेंगे। उन्होंने कहा कि पौधारोपण के अभाव में प्रदूषण की मात्रा निरंतर बढ़ने से विभिन्न प्रकार की बीमारियां नया रूप ले रहीं हैं। इससे बचने का एक मात्र उपाय अपने पर्यावरण को बेहतर बनाना है। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि हर व्यक्ति को कम से कम पांच पेड़ अवश्य लगाने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने कहा कि पेड़ लगाना ही एक मात्र लक्ष्य नहीं होना चाहिए, बल्कि इसकी समुचित सुरक्षा भी की जानी चाहिए। वृहद पौधारोपण से बुन्देलखण्ड भी हरा-भरा हो रहा है और यहां सूखे की समस्या से भी लोगों को निजात मिल रही है।
उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने समाज के सभी वर्गों के विकास के साथ ही उत्तर प्रदेश के विकास को नई दिशा दी है। उन्होंने सरकार द्वारा किये जा रहे जनहित कार्याें की सराहना और प्रसंशा करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार ने किसानों के लगान को माफ किया है। बालिकाओं की शिक्षा को स्नातक तक निःशुल्क कर दिया है। अस्पतालों में अब सभी प्रकार की दवाइयां मुफ्त दी जा रहीं तथा सभी जांचे निःशुल्क कर दी गई हैं। उन्होंने कहा कि बेघरों को लोहिया ग्रामीण आवास योजना के तहत लाभांवित किया जा रहा है। प्रदेश में बिजली की समस्या एक गम्भीर समस्या रही है, किन्तु वर्तमान सरकार ने इस पर सबसे अच्छा काम किया है। अक्टूबर, 2016 से गांवों को 16 से 20 घण्टे तथा नगरों एवं शहरों को 24 घण्टे बिजली की उपलब्धता होने लगेगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कल्याणकारी कार्यक्रमों की फेहरिस्त इतनी लम्बी है कि उसका उल्लेख करना इस कार्यक्रम में संभव नहीं है।
परिवार कल्याण, मातृ एवं शिशु कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविदास मेहरोत्रा ने अपने सम्बोधन में कहा कि पर्यावरण को बेहतर बनाना वर्तमान परिवेश में नितांत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि हरित आवरण का यह सबसे अच्छा जन आन्दोलन है, जिसमें आम लोग स्वेच्छा से अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बेहतर पर्यावरण तथा पेड़-पौधों एवं जीव-जन्तुओं की रक्षा में भी पौधारोपण सहायक है।
कृषि उत्पादन आयुक्त प्रवीर कुमार ने पौधारोपण के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि भावी पीढ़ी के लिए आज की हरियाली एक बेहतर भविष्य का निर्माण करेगी। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश इतिहास रच रहा है, जिसकी कल्पना किसी भी देश ने नहीं की थी। यह पौधारोपण कार्यक्रम छः लाख मैट्रिक टन कार्बन अवशोषित करेगा। उन्होंने लोगों से पौधारोपण की सुरक्षा पर सतर्क नजर रखने की भी अपील की।
इस मौके पर मुलायम सिंह यादव ने पौधारोपण अभियान को सफल बनाने तथा कुकरैल वन क्षेत्र की चाहरदीवारी के निर्माण में सराहनीय योगदान करने वाले वन विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों को प्रशस्ति-पत्र दे कर सम्मानित किया। कार्यक्रम में बेसिक शिक्षा मंत्री अहमद हसन योजना आयोग के उपाध्यक्ष नवीन चन्द्र वाजपेई, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अनीता सिंह के अतिरिक्त शासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी, जनप्रतिनिधि, वन विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों, गणमान्य नागरिकों तथा छात्र-छात्राओं ने भी विभिन्न प्रजातियों के पौधों का रोपण किया।
पौधारोपण अभियान के अंतर्गत जनपद बदायूं में ग्राम्य विकास विभाग के राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव के नेतृत्व में पौधे रोपे गये। सहसवान तहसील क्षेत्र में वन विभाग की भूमि मालपुर ततेरा के जंगल, उस्मानपुर स्थित गेस्ट हाउस, कछला एवं उझानी में संयुक्त रूप से पौधे रोपित कर अभियान का शुभारम्भ किया गया।
बदायूं में पौधारोपण अभियान का शुभारंभ करते राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव।
बदायूं में पौधारोपण अभियान का शुभारंभ करते राज्यमंत्री ओमकार सिंह यादव।
राज्यमंत्री ओमकार सिंह ने पौधारोपण के पश्चात अपने सम्बोधन में कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मंशा के अनुरूप ग्रीन यू.पी.-क्लीन यू.पी. के तहत पूरे प्रदेश में 11 जुलाई सोमवार को एक ही दिन में पांच करोड़ पौधे रोपित कर विश्व रिकार्ड कायम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पर्यावरण की सुरक्षा हेतु पौधारोपण किया जाना बेहद ज़रूरी है और इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु प्रत्येक जिले में एक ही दिन में पौधेरोपण का कार्यक्रम तय किया गया है, जो जारी है।
जनपद बदायूं में कुल 64 स्थानों पर 6 लाख 37 हजार पौधे रोपित किए जायेंगे। इसको बेहतर ढ़ंग से अंजाम देने हेतु वन विभाग के अधिकारियों के साथ प्रत्येक स्थल पर दो-दो शिक्षकों और एक जिला स्तरीय अधिकारी को पर्यवेक्षण हेतु लगाया गया है। निर्धारित लक्ष्य के अनुसार चौबीस घण्टे में रात्रि की अवधि को छोड़कर पौधे रोपित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारियों को प्रत्येक पौधा रोपण की फोटोग्राफी करने हेतु निर्देशित किया है और सभी अधिकारियों को यह फोटोग्राफ डीएफओ कार्यालय में स्थापित कंट्रौल सेन्टर में फीड कराना होंगे। पौधेरोपण कार्य की कड़ी माॅनीटरिंग के लिए वीडियोग्राफी भी कराई गई और उसी के आधार पर एक सीडी तैयार कर अभिलेख के तौर पर सुरक्षित रखी जाएगी। बदायूं के सीडीओ प्रताप सिंह भदौरिया ने अभियान को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत की।
संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply