शहर को जगमगाने के लिए लाइट लगाने को सांसद ने दिए थे पचास लाख

निवर्तमान पालिकाध्यक्ष फात्मा रजा

बदायूं लोकसभा क्षेत्र के सांसद धर्मेन्द्र यादव और पूर्व विधायक व दर्जा राज्यमंत्री आबिद रजा के बीच हुए विवाद के बाद मिले 4 करोड़ 49 लाख 12 हजार 110 रूपये क्षति ग्रस्त सड़कों को सही करने की जगह लाइट लगाने की गलत अफवाह फैलाई जा रही है। निवर्तमान पालिकाध्यक्ष फात्मा रजा ने बताया कि सड़कों की मरम्मत को आये रूपये से सिर्फ सड़कें ही सही कराई गई हैं।

फात्मा रजा ने बताया कि बिजली की भूमिगत लाइन पूरे शहर में डाली गई है, पालिका ने भी मरम्मत कार्य हर क्षेत्र में कराया है। भेद-भाव के बिना जर्जर सड़कों को सही कराया गया है, जिसका उत्कृष्ट उदाहरण शिशु मंदिर के सामने वाली सड़क कही जा सकती है। उन्होंने कहा कि पालिका ने शहर को अँधेरे से मुक्त करने के प्रयास किये थे, पर कई जरूरी विकास कार्यों के कारण पालिका सिर्फ लाइट पर बहुत बड़ी धनराशि खर्च नहीं कर सकती थी। उनकी प्राथमिकता सड़कें, पेयजल और सफाई ज्यादा थी, इसलिए उन्होंने पहले इस सब पर ही ज्यादा ध्यान दिया। फात्मा रजा ने बताया कि शहर को अँधेरे से मुक्त करने और सौंदर्य करण के उद्देश्य से सांसद धर्मेन्द्र यादव ने अपनी निधि से 75 लाख रूपये पालिका को दिए थे, जिसमें 50 लाख रूपये ही अवमुक्त हो सके। शहर में लगी लाइटें सांसद निधि से लगवाई गई हैं।

फात्मा रजा ने कहा कि उन्होंने अच्छे मन से शहर में विकास कार्य कराये हैं, वे जनता के बीच लोकप्रिय हैं, इसलिए विपक्षी जनता के बीच जाने से डरते हैं, जिससे उनके बारे में मनगढ़ंत अफवाह फैलाते रहते हैं। उन्होंने कहा कि द्वार का उद्घाटन कार्यकाल के अंतिम दिन किया गया, साथ ही वे व्यक्तिगत रूप से पालिकाध्यक्ष वाली कोई सुविधा नहीं ले रही हैं और न ही अब हस्तक्षेप करती हैं।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

पढ़ें: धर्मेन्द्र यादव और आबिद रजा की जंग के बाद मिले रूपये से लगवा दी लाइट

पढ़ें: प्रशासक बनने के बाद हालात और खराब, आबिद रजा के ही चलते हैं निर्देश

पढ़ें: पालिका परिसर की शोभा बढ़ाने वाले द्वार का पालिकाध्यक्ष ने किया उद्घाटन

Leave a Reply