प्रधानमंत्री ने पाक अधिकृत कश्मीर की मदद की इच्छा जताई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला व अधिकारी नुकसान के बारे में बताते हुए।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला व अधिकारी नुकसान के बारे में बताते हुए।

जम्मू-कश्मीर में आई आपदा को केंद्र सरकार गंभीरता से ले रही है। शनिवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दौरा किया, तो रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुँच गये। उन्होंने इसे राष्ट्रीय स्तर की आपदा बताते हुए पुनर्वास के लिए एक हजार करोड़ की विशेष सहायता देने की घोषणा की। प्रधानमंत्री ने यही कहा कि पकिस्तान सरकार चाहे, तो पाक अधिकृत कश्मीर को भी मदद दी जायेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला सहित अधिकारियों ने व्यापक स्तर हुए नुकसान की जानकारी दी, तो प्रधानमंत्री ने कहा कि तात्कालिक मदद कम है। उन्होंने और मदद का आश्वासन दिया। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री राहत कोष से प्रत्येक मृतक के आश्रित को 1-1 लाख की मदद और घायलों को 50-50 हजार की धनराशि प्रदान की जायेगी। जिनके घर तबाह हो चुके हैं, उन्हें तात्कालिक मदद के लिए सेना और केन्द्रीय अर्द्धसैनिक बलों की ओर से 5 हजार टेंट दिए जायेंगे। पीड़ितों को एक लाख कंबल देने के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष से 5 करोड़ रुपए दिए जायेंगे। बच्चों के लिए रविवार को ही 50 टन दूध पाउडर हवाई जहाज से भेज दिया गया। रविवार शाम को ही आवश्यक दवाइयों और अन्य जरूरी सामान भी हवाई जहाज से पहुंचा दिया गया है। इसके अलावा दूरसंचार नेटवर्क को दूरसंचार विभाग बहाल करेगा। सेना के इंजीनियर क्षतिग्रस्त पुलों को ठीक करेंगे, साथ ही राहत, बचाव व पुनर्वास में मदद के लिए गुजरात और महाराष्ट्र से नावें भेजी जा चुकी हैं। बिजली आपूर्ति शीघ्र सुचारू की जायेगी व 2 हजार सोलर लैंप भी लगाये जायेंगे।

यह भी बता दें कि रविवार तड़के झेलम नदी की बाढ़ का पानी श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक समेत कई इलाकों में घुस गया। सैनिक छावनी, हाईकोर्ट, सचिवालय, व्यावसायिक क्षेत्र लाल चौक और आसपास के इलाके छह से आठ फुट तक पानी में डूब गये। बड़ी संख्या में जनहानि हुई है। राज्य के दस जिलों के 2500 से ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में हैं। सेना अब तक 12000 से अधिक लोगों को बचा चुकी है।

Leave a Reply