ड्राइविंग के समय मोबाइल पर बात की तो लाइसेंस निरस्त होगा

परिवहन आयुक्त के. रविन्द्र नायक
परिवहन आयुक्त के. रविन्द्र नायक

शिक्षार्थी व स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी को आवेदन पत्र के साथ ही अब निर्धारित प्रारूप में फोटो युक्त अण्डरटेकिंग देना अनिवार्य कर दिया गया है। अब वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करते हुए पकड़े जाने पर चालक का ड्राइविंग लाइसेंस हो सकता है निरस्त।
प्रदेश के परिवहन आयुक्त के. रविन्द्र नायक ने इस संबंध में सभी सम्भागीय परिवहन अधिकारियों (आर.टी.ओ.) को आदेश जारी कर दिये हैं। लखनऊ में परिवहन आयुक्त ने बताया कि ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने वालों के पास वाहन अधिनियम के अन्तर्गत मान्य प्रपत्र न होने की स्थिति में भी आवेदकों द्वारा ड्राइविंग लाइसेंस के लिए प्रयास किया जाता है, जिससे फर्जी लाइसेंस जारी होने की सम्भावना बनी रहती है। इन्हीं कमियों को दूर करने के लिए आवेदक से अन्डरटेकिंग प्राप्त करने के पश्चात ही लाइसेंस जारी किये जाने की व्यवस्था की गयी है।
आवेदक को अण्डरटेकिंग के तहत आठ बिन्दुओं में यह बताना होगा कि उसे किसी सक्षम लाइसेंस प्राधिकारी अथवा सक्षम न्यायालय द्वारा अयोग्य घोषित नहीं किया गया है, पूर्व मेें किसी भी प्रदेश से स्थायी लाइसेंस न ही निर्गत किया गया है और न ही लाइसेंस प्राधिकारी अथवा सक्षम न्यायालय द्वारा निरस्त/निलम्बित किया गया है और न ही किसी सक्षम प्राधिकारी द्वारा लाइसेंस जब्त किया गया है।
इसके अलावा अण्डरटेेकिंग के प्रारूप में यह भी बताना होगा कि वह आदतन अपराधी अथवा शराबी नहीं है, नारकोटिक ड्रग अथवा नशीले पदार्थ के सेवन का व्यसनी नहीं है, अभी तक  कोई ऐसा  अपराध  नहीं  किया है, जिससे जनता को खतरा उत्पन्न हुआ हो, कोई  संज्ञेय  अपराध करने में मोटर वाहन का उपयोग नहीं किया है तथा शिक्षार्थी लाइसेंस प्राप्त करने की तिथि से स्थायी लाइसेंस हेतु आवेदन किये जाने की तिथि तक उसके द्वारा सड़क दुर्घटना से संबंधित कोई अपराध नहीं किया गया है। परिवहन आयुक्त ने बताया कि आवेदक द्वारा दिये गये अण्डरटेकिंग में भविष्य में यदि कोेई तथ्य गलत पाया जाता है, तो परिवहन विभाग कोई भी विधिक कार्यवाही करने के लिए स्वतंत्र होगा।
परिवहन आयुक्त ने बताया कि सभी आर0टी0ओ0 को निर्देश जारी कर दिये गये हैं कि यदि कोई चालक वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग करता हुआ पाया जाये, तो उसके विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही करने अथवा दण्डात्मक कार्यवाही के बदले दण्डात्मक शमन शुल्क के साथ-साथ उसके लाइसेंस को भी निरस्त किया जा सकता है। वाहन चलाते समय मोबाइल के प्रयोग को जनता के लिए खतरा पैदा करने वाली श्रेणी में रखा गया है।

Leave a Reply