दलित की परिवार सहित धर्म परिवर्तन करने की चेतावनी

पीड़ित बहोरी लाल जाटव
पीड़ित बहोरी लाल जाटव

बदायूं के जिलाधिकारी शंभूनाथ यादव एक ओर जनता की सुविधा के लिए टेलीफोन पर शिकायत दर्ज कर समाधान कराने का दावा कर रहे हैं, वहीं गरीब तबके के आम आदमी की कोई सुनने को आज भी तैयार नहीं है। दबंग द्वारा राशन कार्ड कब्जाने और दबंग के विरुद्ध कार्रवाई न होने से दुखी एक दलित ने परिवार सहित धर्म परिवर्तन करने की चेतावनी दी है।

बदायूं जिले में स्थित इस्लामनगर थाना क्षेत्र के गाँव नूरपुर पिनौनी के निवासी बहोरी लाल जाटव पुत्र मंगली जाटव का कहना है कि उसके नाम वर्ष 2005 में बीपीएल कार्ड जारी किया गया था, जिसका रजिस्टर क्रमांक- 812 व कार्ड संख्या- 063845 है। उसने बताया कि राशन कार्ड पर मिलने वाले खाद्यान्न से उसे बड़ा सहारा मिलता था, लेकिन आर्थिक हालात और अधिक खराब हो गये, तो वह मजदूरी करने के लिए परिवार सहित उत्तर प्रदेश से बाहर चला गया। उसने बताया कि वह अपना राशन कार्ड ग्राम पंचायत सदस्य उमेश गुप्ता पुत्र भगवान दास को दे गया। लगभग छः महीने बाद वह लौट कर आया और उसने राशन कार्ड वापस मांगा, तो दबंग उमेश गुप्ता ने राशन कार्ड देने से स्पष्ट मना कर दिया।

पीड़ित का कहना है कि उसने शिकायत की, तो उमेश ने उसके नाम को स्याही से मिटा दिया और उस पर कुंवरपाल पुत्र श्रीराम का नाम लिख लिया, जबकि कार्ड संख्या उसके कार्ड वाली ही है, साथ ही आरोप है कि शिकायत से उमेश चिढ़ गया और उसको जातिसूचक गालियाँ देते हुए धमकी दी कि चुप नहीं बैठा, तो जेल भिजवा देगा। पीड़ित ने बताया कि उमेश का लड़का पुलिस विभाग में है, जिससे पुलिस उसका साथ देती है। स्थानीय पुलिस उसकी शिकायत पर उमेश के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं कर रही, जबकि उमेश पुलिस को पीटने की घटना में भी नामजद मुख्य आरोपी है।

पीड़ित ने बताया कि उसके राशन कार्ड पर दबंग उमेश पिछले सात वर्षों से राशन खा रहा है, साथ ही उसको भी बेइज्जत कर चुका है, इसलिए उसका कानून और धर्म दोनों से विश्वास उठ गया है। पीड़ित ने एसएसपी और अनुसूचित आयोग को पत्र भेज कर चेतावनी दी है कि एक सप्ताह के अंदर उसको राशन कार्ड वापस नहीं मिला और मुकदमा लिख कर दबंग उमेश को जेल नहीं भेजा, तो वह परिवार सहित धर्म परिवर्तन कर लेगा।

Leave a Reply