महापंचायत तांत्रिक के साथ, पूरे परिवार ने किया पलायन

गाड़ी में भरा जाता दिनेश का सामान।
गाड़ी में भरा जाता दिनेश का सामान।

बदायूं जिले में संविधान का राज नहीं चलता, यहाँ संविधान से ऊपर तांत्रिक की बात मानी जाती है। तांत्रिक ने एक युवक को चोर घोषित कर दिया, तो एक-दो व्यक्ति ने नहीं, बल्कि समूचे गाँव ने तांत्रिक की बात आँख बंद कर स्वीकार कर ली और महापंचायत बुला कर युवक के पूरे परिवार को सार्वजनिक रूप से अपमानित किया गया। गरीब व्यक्ति से चोरी के सामान की कीमत और तांत्रिक की फीस देने को कहा गया। रूपये देने में असमर्थ पूरे परिवार को धमकी दी गई, जिससे भयभीत होकर पूरा परिवार गाँव से पलायन कर गया। इतना सब होने के बावजूद पुलिस को भनक तक नहीं लगी।

डिजिटल इंडिया के शोर के बीच यह सनसनीखेज वारदात बदायूं जिले में स्थित थाना कादरचौक क्षेत्र के गाँव लभारी में घटित हुई है। गाँव लभारी में दिनेश चन्द्र कश्यप नाम का व्यक्ति रहता है, जो खोमचा लगा कर और कबाड़ का सामान खरीद कर परिवार का भरण-पोषण करता है। बताते हैं कि गाँव लभारी के ही निवासी हरिनारायन ने दिनेश पर घर से सोने के गहने चुराने का आरोप लगाया। आरोप अलीगढ़ जिले के जट्टारी में रहने वाले तांत्रिक टेकचंद जोशी के कहने पर लगाया गया।

पलायन के समय आश्चर्य चकित नजर आते बच्चे।
पलायन के समय आश्चर्य चकित नजर आते बच्चे।

बताते हैं कि चोर का खुलासा तांत्रिक टेकचंद ने ही किया, जिसे हरिनारायन सहित समूचे गाँव ने स्वीकार कर लिया और पूरा गाँव उसे चोर कहने लगा। दिनेश ने कहा कि उसने चोरी नहीं की है, तो उसे धमका कर इस दलील के साथ चुप करा दिया गया कि तांत्रिक टेकचंद ने सैकड़ों चोरियों का खुलासा किया है, उनके खुलासे पर शंका नहीं की जा सकती।

महापंचायत करते ग्रामीण।
महापंचायत करते ग्रामीण।

उक्त प्रकरण को लेकर आज गाँव में महापंचायत बुलाई गई, जिसमें दिनेश का हुक्का-पानी बंद करने का आदेश पारित किया गया, साथ ही दिनेश से कहा गया कि वह गहने की कीमत और तांत्रिक की फीस हरिनारायन को दे। गरीब दिनेश ने रूपये देने में असमर्थता जताई, तो उसे महापंचायत में भी अपमानित किया और धमकी दी गई। महापंचायत के बाद पूरा गाँव एक राय हो गया, जिससे दिनेश स्वयं की जान और परिवार को लेकर असुरक्षा महसूस करने लगा। भयभीत दिनेश पत्नी, तीन बच्चों और सामान को लेकर गाँव छोड़ गया।

गाँव लभारी में खुलेआम संविधान की हत्या की गई, लेकिन कादरचौक थाना पुलिस को भनक तक नहीं लगी। गाँव लभारी से पलायन कर भयभीत परिवार अलापुर थाना क्षेत्र के कस्बा ककराला आ चुका है। दिनेश के पिता सुरेश चंद कश्यप ने थाना अलापुर में तहरीर दे दी है, लेकिन अलापुर थाना पुलिस भी घटना को दबाये बैठी है।

 

Leave a Reply