मंडलायुक्त व डीआईजी ने की गहन समीक्षा, निर्देश भी दिए

समाज कल्याण विभाग के कार्यालय में निरीक्षण करते मंडलायुक्त प्रमांशु।
समाज कल्याण विभाग के कार्यालय में निरीक्षण करते मंडलायुक्त प्रमांशु।

बदायूं स्थित राजकीय मेडीकल कॉलेज की ओपीडी तथा चिकित्सालय आगामी माह नवम्बर, 2015 तक शुरू कराने के निर्देश देते हुए बरेली मण्डल के आयुक्त प्रमांशु ने नव निर्मित आठ पाइप लाइन पेय जल इकाईयों का पाक्षिक रूप से निरीक्षण की जिम्मेदारी सम्बंधित खण्ड विकास अधिकारियों को सौंपी है। स्वरोजगार से सम्बंधित विभिन्न योजनाओं में ऋण स्वीकृति हेतु अनावश्यक विलम्ब करने वाले शाखा प्रबन्धकों की नकेल कसने की हिदायत देते हुए कहा है कि ऐसे प्रबन्धकों के साथ कोई रियायत न बरती जाए।
बुधवार को विकास भवन स्थित सभा कक्ष में मण्डलायुक्त प्रमांशु ने जिलाधिकारी शम्भूनाथ, मुख्य विकास अधिकारी प्रताप सिंह भदौरिया तथा संयुक्त विकास आयुक्त सीपी सिंह के साथ विकास कार्यों की गहन समीक्षा की। आयुक्त ने यूनीफार्म वितरण का कार्य अगस्त, 2015 के अन्त तक पूरा करने की हिदायत देते हुए पैकफेड संस्था द्वारा घटिया स्तर के बनाए गए आंगनबाड़ी केन्द्रों पर नाराजगी जताते हुए सुधार लाने के निर्देश दिए है। उन्होंने निर्देशित किया है कि जनपद में नए मीनू के अनुसार नियमित मध्यान्ह भोजन वितरण सुनिश्चित किया जाए और खाद वितरण में किसी प्रकार की कोई भी समस्या उत्पन्न न होने के निर्देश दिए हैं। आयुक्त ने जिला चिकित्सालय में डाक्टरों की कमी पूरी कराने हेतु भी पत्र भेजने के निर्देश दिए हैं। आयुक्त ने कृषि क्षेत्र में उन्नतशील किसानों द्वारा की जा रही खेती, बागवानी आदि दूसरे किसानों को भी दिखाकर लाभान्वित कराने को कहा है। उन्होंने कहा कि सोलर पम्प योजना से अधिक से अधिक इच्छुक किसानों को लाभ दिया जाए, क्योंकि सोलर पम्प लगाने से बिजली तथा डीजल दोनों की बचत होती है और इससे किसानों को अधिक लाभ मिलेगा।
आयुक्त ने राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना में शिथिलता पाए जाने पर कार्यदायी संस्था पेस पावर के अधिकारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त की और निर्देश दिए कि दस अगस्त तक अधिक से अधिक कार्य पूर्ण कराकर एसएमएस द्वारा उन्हें कार्य की प्रगति के सम्बन्ध में अवगत कराया जाए। उन्होंने मुड़िया तथा सैदपुर में भी आसरा आवास योजना के तहत निर्माण कार्य शीघ्र पूरा कराने के निर्देश दिए। उन्होंने जननी सुरक्षा योजना के सम्बन्ध में कहा कि अब भुगतान आॅन लाइन ही किया जाए। उन्होंने लोहिया ग्रामों के विकास कार्य, विभिन्न योजनाओं से आधार कार्ड लिंक कराने, पोषण मिशन, समाजवादी पेंशन, किसान दुर्घटना बीमा योजना, आम आदमी बीमा योजना, कौशल विकास मिशन, माॅडल स्कूलों के निर्माण आदि की गहन समीक्षा की। मण्डलायुक्त ने 75 प्रतिशत से अधिक निर्माण कार्य पूर्ण हो चुकी योजनाओं के सम्बन्ध में निर्देश दिए हैं कि शीघ्र ही शेष कार्य को पूर्ण कराकर उन्हें जनोपयोगी बनाया जाए और गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। मुख्यमंत्री जल बचाव अभियान की समीक्षा करते हुए उन्होंने हिदायत दी कि इस कार्य के क्रियान्वयन में किसी प्रकार की लापरवाही को क्षम्य नहीं किया जाएगा। अन्त में जिलाधिकारी ने आयुक्त का आभार व्यक्त करते हुए आश्वस्त किया कि निर्देशों का अक्षरशः पालन सुनिश्चित कराया जाएगा।

समाज कल्याण कार्यालय मिला ओके

समीक्षा बैठक के बाद आयुक्त ने जिला समाज कल्याण कार्यालय का निरीक्षण किया। उन्होंने अलग-अलग पटलों पर जाकर समाजवादी पेंशन, वृद्धावस्था पेंशन के फीडिंग कार्य को कम्प्यूटर आपरेटर्स से अपने सम्मुख कराकर देखा और निर्देश दिए कि जिन समाजवादी पेंशन के लाभार्थियों के खाते में बैंक एकाउन्ट में गड़बड़ी होने के कारण पेंशन नहीं पहुंची है, उन्हें दुरूस्त कराकर पेंशन भेजना सुनिश्चित किया जाए। आयुक्त ने विभिन्न पेंशन के सभी लाभार्थियों का आधार नम्बर लिंक कराए जाने हेतु विशेष बल दिया।

कछला स्थित गंगा तट पर निरीक्षण करते मंडलायुक्त प्रमांशु।
कछला स्थित गंगा तट पर निरीक्षण करते मंडलायुक्त प्रमांशु।

स्वच्छ शौचालय निर्माण कार्यों की होगी जांच

स्वच्छ शौचालय निर्माण की गुणवत्ता संतोषजनक न होने की शिकायत पर मण्डलायुक्त प्रमांशु ने निर्माण कार्यों की जांच कराने के निर्देश देते हुए तलाब के जीर्णोद्धार के अपूर्ण कार्य को शीघ्र पूरा कराने को कहा है।
बुधवार को आयुक्त ने जिलाधिकारी शम्भूनाथ, सीडीओ प्रताप सिंह भदौरिया, संयुक्त विकास आयुक्त सीपी सिंह तथा अन्य विभागीय अधिकारियों के साथ जगत ब्लाक के लोहिया ग्राम बीबीपुर में विकास कार्यों का स्थलीय सत्यापन किया। स्वच्छ शौचालयों के निर्माण कार्य के सत्यापन तथा उनको प्रयोग में लाने सम्बंधी जानकारी जब ग्रामीणों से हासिल की गई तो कुछ ग्रामीणों ने शौचालय निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर असंतोष व्यक्त किया। ग्राम प्रधान इतना सुनते ही अपनी मर्यादा तथा पद की गरिमा को भूल गए और शिकायतकर्ता से बहस पर उतारू हो गए। आयुक्त ने इस स्थिति पर अत्यन्त अप्रसन्नता जताते हुए निर्माण कार्यों की जांच कराने के निर्देश देते हुए ग्राम प्रधान को चेतावनी दी कि मर्यादा एवं अपने पद की गरिमा को ध्यान में रखते हुए कार्य करें, अन्यथा उन्हें कार्रवाई के लिए विवश होना पड़ेगा। उन्होंने प्राथमिक विद्यालय में जाकर स्कूली बच्चों से वार्ता की और मध्यान्ह भोजन, शिक्षकों की उपस्थिति, पुस्तकों के वितरण  के सम्बन्ध में जानकारी ली। उन्होंने गांव में विद्युतीकरण, लोहिया आवास निर्माण टीकाकरण का सत्यापन कराते हुए कुपोषित बच्चों की देख-भाल के सम्बन्ध में जानकारी हासिल की। विभिन्न पेंशन वितरण, मनरेगा कार्य, हैण्ड पम्प, पशु टीकाकरण, खाद्यान आपूर्ति, किसान क्रेडिट कार्ड आदि के सम्बन्ध में गहन समीक्षा की और सत्यापन किया। उन्होंने अजीविका मिशन अन्तर्गत गांव में स्थित दो मां लक्ष्मी तथा मां सीता स्वंय सहायता समूहों के पदाधिकारियों को अभिलेखीय रिकार्ड रखने हेतु स्टेशनरी, एक बक्सा, दरी वितरण की।
सत्यापन के पश्चात आयुक्त एवं जिलाधिकारी ने संयुक्त रूप से विद्यालय परिसर में पौधारोपण भी किया और गांव के तालाब पर जाकर कराए गए निर्माण कार्य का जायजा लिया। आयुक्त ने तालाब के अपूर्ण कार्य को शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए और गाँववासियों की समस्याओं को भी सुना।

कछला घाट का किया निरीक्षण

आयुक्त ने लोहिया गांव का स्थलीय सत्यापन करने के बाद डीआईजी आरकेएस राठौर सहित पूरे प्रशासनिक अमले के साथ कछला स्थित गंगा घाट का मौका मुआयना किया। उन्होंने कांवड़ियों की सुविधार्थ सुरक्षित स्नान घाट बनाने के निर्देश देते हुए पेयजल, प्रकाश व्यवस्था तथा पार्किंग आदि व्यवस्था सुदृढ़ कराने के निर्देश देते हुए नावों तथा नाविकों, गोताखोरों, वाच टावरों की समुचित व्यवस्था कराने हेतु सम्बंधित अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने महिला शौचालयों के निर्माण, सफाई तथा सुरक्षा व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए चिकित्सकों एवं एंबुलेंस की उपस्थिति सुनिश्चित कराने को कहा है। उन्होंने निर्देश दिए कि जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन के जो अधिकारी कर्मचारी घाट पर लगाए जाएं, उनके पास रात्रि में टार्च अवश्य रहना चाहिए।

समीक्षा करते मंडलायुक्त प्रमांशु व डीआईजी आरकेएस राठोर।
समीक्षा करते मंडलायुक्त प्रमांशु व डीआईजी आरकेएस राठोर।

सीसी टीवी कैमरों से लैस होगा कछला घाट

श्रवण मास में कांवड़ियों को अधिक सुविधाएं उपलब्ध कराने तथा शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने हेतु कछला स्थित गंगा घाट पर सीसी टीवी कैमरे लगाए जाएंगे। सभी थानों में एक-एक 108 नम्बर की एम्बुलेंस उपलब्ध रहेगी जो थानाध्यक्षों के निर्देशन में आवश्यकतानुसार प्रयोग में लाई जाएगी।
बुधवार को पुलिस लाइन स्थित सभा कक्ष में बरेली मण्डल के आयुक्त प्रमांशु तथा बरेली परिक्षेत्र के डीआईजी आरकेएस राठौर ने जिलाधिकारी शम्भूनाथ तथा अन्य सभी प्रशासिनक तथा पुलिस अधिकारियों के साथ कांवड़ यात्रा को दृष्टिगत रखते हुए शांति एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा की और उप जिलाधिकारियों, पुलिस क्षेत्राधिकारियों एवं थानाध्यक्षों को निर्देश दिए कि कछला स्थित गंगा के दोनों घाटों पर पर्याप्त व्यवस्थाएं कराई जाएं। आवश्यकतानुसार एंबुलेंस, क्रेन तथा अग्नि शमन की गाड़ियां लगाई जाएं। आयुक्त ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कछला घाट पर जो भी स्थायी अथवा अस्थायी प्रकाश व्यवस्था कराई जाए, उसके किसी भी पोल आदि में करन्ट नहीं आना चाहिए। उन्होंने कहा कि बारिश के मौसम को दृष्टिगत रखते हुए इसका विशेष ध्यान रखा जाए। आयुक्त ने क्षेत्रीय लेखपालों से उनके कार्य के अतिरिक्त कार्य भी लिए जाने की सलाह दी। उन्होंने श्रवण मास में यातायात डायवर्ड करने के भी निर्देश दिए हैं। डीआईजी ने कई मुख्य मुख्य बिन्दुओं पर पुलिस अधिकारियों का ध्यान आकर्षित करते हुए निर्देश दिए कि यदि इन सभी बिन्दुओं पर विशेष ध्यान दिया, तो कांवड़ यात्रा का त्यौहार शांति पूर्वक सम्पन्न हो जाएगा। उन्होंने संवेदनशील स्थानों पर विशेष पुलिस बल लगाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आवश्यकता पड़ने पर छतों पर भी पुलिस कर्मियों की डयूटी लगाई जाए। डीआईजी ने गत डेढ़ माह में चोरी, डकैती एवं वाहन चोरी की अधिक घटनाएं घटित होने पर असंतोष जताते हुए विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी शम्भूनाथ ने कछला घाट पर स्नान तथा कावड़ यात्रा के सम्बन्ध में की गई तैयारियों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराते हुए उच्चाधिकारियों को आश्वस्थ किया कि श्रवण मास में कांवड़ यात्रा सकुशल सम्पन्न कराई जाएगी।

Leave a Reply