न पार्किंग, न ठेका, निजी गुंडों से अवैध वसूली करा रहे हैं कलेक्ट्रेट के बाबू

सूचना भवन के सामने खड़ी मोटर साईकिलें।

बदायूं स्थित कलेक्ट्रेट परिसर में अफरा-तफरी का माहौल है। कार्यालयों में भ्रष्ट बाबू हावी हैं, तो प्रांगण में गुंडे, लेकिन कोई देखने और सुनने वाला नहीं हैं। गुंडों से त्रस्त लोग शिकायत भी करते हैं, पर शिकायत पर भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती।

कलेक्ट्रेट परिसर में पार्किंग के लिए स्थान आरक्षित नहीं है और न ही पार्किंग शुल्क वसूलने का ठेका किया जाता है, लेकिन कलेक्ट्रेट के भ्रष्ट बाबुओं ने अफसरों की मौखिक सहमति से अपने निजी गुंडे लगा रखे हैं, जो दिन भर अवैध वसूली करते हैं। कितना भी सम्मानित व्यक्ति हो, उसे गुंडे हड़काते हैं। हाथों में डंडे लिए घूमते हैं, इनमें कई सारे गुंडे शराब भी पीये हुए रहते हैं, जिससे लोग डर में तत्काल रूपये निकाल कर दे देते हैं। बाबुओं के निजी गुंडे प्रति बाइक दस रूपये वसूलते हैं और बदले में कोई रसीद भी नहीं देते। बाइक को रखाने की भी कोई गारंटी नहीं है। अगर, कोई बाइक चोरी हो जाये, तो उससे यह लोग पल्ला झाड़ लेते हैं।

बाबुओं के सशस्त्र गुंडों ने सूचना विभाग के कार्यालय को घेर लिया है। सूचना विभाग के परिसर में पत्रकारों को अपनी बाइक खड़ी करने को भी जगह नहीं छोड़ी जाती। दबंग गुंडे सूचना कार्यालय के परिसर में ही बाइक खड़ी कराते हैं। सवाल यह है कि प्रत्येक प्रशासनिक अफसर दिन भर इन गुंडों की गतिविधियों को देखता है, तो वह कार्रवाई क्यों नहीं करते? पार्किंग का ठेका नहीं है, फिर भी खुलेआम अवैध वसूली क्यों कराई जा रही है? किराया देने के बाद भी बाइक सुरक्षित नहीं है, तो वसूली क्यों की जा रही है?, इस तरह के और भी कई सारे सवाल लोग करते देखे जा सकते हैं, पर जवाब देने को कोई तैयार नहीं है।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं, साथ ही वीडियो देखने के लिए गौतम संदेश चैनल को सबस्क्राइब कर सकते हैं)

Leave a Reply