थाना परिसर में हुए यौन शोषण की मजिस्टेरियल जांच होगी

थाने में सिपाहियों की दरिंदगी का शिकार हुई किशोरी।
थाने में सिपाहियों की दरिंदगी का शिकार हुई किशोरी।
बदायूं जिले में स्थित थाना मूसाझाग के पुलिस कर्मियों द्वारा थाना परिसर में गाँव प्रहलादपुर निवासी किशोरी का यौन शोषण करने की घटना की मजिस्टेरियल जांच के आदेश दिए गये हैं। जिला मजिस्ट्रेट शंभूनाथ ने परगना मजिस्ट्रेट दातागंज को जाँच सौंपी है।
परगना मजिस्ट्रेट दातागंज ने उक्त जानकारी देेते हुए जन सामान्य से अपील की है कि पुलिस कर्मियों द्वारा थाना परिसर में यौन शोषण करने की घटना के संबंध में यदि कोई व्यक्ति जानकारी रखता हो, अथवा साक्ष्य देना चाहे, तो वह 9 जनवरी से 15 जनवरी, 2015 तक किसी भी कार्य दिवस में प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे के बीच उपस्थित होकर उनके न्यायालय में बयान दे सकता है।
उल्लेखनीय है कि बदायूं जिले में स्थित मूसाझाग थाना क्षेत्र के गाँव प्रहलादपुर निवासी एक महिला ने 1 जनवरी को एसएसपी को प्रार्थना देकर कहा था कि 31 दिसंबर को उसके पति आँखों का इलाज कराने बरेली गये हुए थे और वह बेटी के साथ घर पर थी। मूसाझाग थाने में तैनात सिपाही अवनीश यादव व वीरपाल यादव सिरसा गाँव की ओर से कार से आये और शौच को गई उसकी 14 वर्षीय बेटी को उठा ले गये, लेकिन बाद में उसका यौन शोषण कर छोड़ गये। महिला का आरोप है कि सिपाहियों ने उसकी बेटी के साथ थाने में दुष्कर्म किया। इस प्रकरण में मुकदमा दर्ज हो चुका है एवं दोनों सिपाहियों को बर्खास्त कर दिया गया है, साथ ही अवनीश जेल भी जा चुका है।
संबंधित खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

Leave a Reply