जातिवार में उत्तर प्रदेश पुलिस भी खुल कर सामने आई

सब-इन्स्पेक्टर रामवीर सिंह यादव
सब-इन्स्पेक्टर रामवीर सिंह यादव

जाति, दल, धर्म और विभिन्न वर्गों में उत्तर प्रदेश पूरी तरह बंटता जा रहा है। आम जनमानस के बीच दूरियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में स्थित उसहैत थाना क्षेत्र के गाँव कटरा सआदतगंज की चर्चित घटना दूरियां बढ़ाने में आग में घी डालने जैसा काम कर रही है। इस सब पर अंकुश लगाने और सामान्य वातावरण बनाने की दिशा में प्रयास करने की जगह पुलिस स्वयं भी जातिवार में कूद पड़ी है। संत कबीर नगर की खलीलाबाद कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर बब्बन यादव ने बदायूं की घटना पर बेतुका बयान दिया है, इसी तरह बरेली जिले में तैनात सब-इन्स्पेक्टर रामवीर सिंह यादव कटरा सआदतगंज की चर्चित घटना के बारे में फेसबुक पर अपने विचार खुल कर व्यक्त कर रहे हैं।

रामवीर सिंह यादव ने पांच मई को अपनी वॉल पर लिखा है कि “ये 100% ऑनर किलिंग का ही मामला है। बड़ी वाली लड़की के पप्पू यादव से सम्बन्ध थे। दोनों को घर वालों ने कई बार पकड़ा था। सुनने में आया है कि घटना वाली रात भी बड़ी लडकी पप्पू के साथ लड़की के परिजनों ने पकड़ी थी। जब पप्पू चला गया तो लड़की वालों ने अपने झूठी शान के लिए बड़ी लड़की को फांसी पर लटका दिया। चूँकि छोटी वाली ने बड़ी लडकी को मारते देख लिया था तो उसको भी फांसी पर लटका दिया गया। पप्पू यादव और उसके भाइयों को आरोपी बनाया।
पुलिस के दोनों सिपाहियों का पप्पू के घर आना जाना था। लोकल के सिपाही होने के कारण वे सच्चाई पता कर सकते थे, इसलिए उनको भी फंसाया गया। क्या आप सोच सकते हैं कि सगे 3 भाई एक साथ किसी लड़की से रेप करेंगे। रेप करने के बाद लटकायेंगे क्यों ?
लड़की के घर वालों ने एक तीर से कई निशाने साधे हैं, पहला लड़कियों की हत्या कर के स्वयं बच गये। दूसरा अपने दुश्मनों से हिसाब बराबर कर लिया और तीसरा सरकार व अन्य पार्टियों से पैसा पा लिया।

यदि मै गलत हूँ तो बताइए …”

संबंधित खबरें देखने के लिए क्लिक करें लिंक

अगवा कर दुष्कर्म के बाद यादवों पर बहनों की हत्या का आरोप

पीएमओ के हस्तक्षेप के बाद सक्रिय हुई उत्तर प्रदेश सरकार

पीड़ितों से मिले पासवान, केंद्र सरकार पर भी उठे सवाल

माया, मीरा और धर्मेन्द्र पीड़ितों से मिले, कल आयेंगे पासवान

बदायूं कांड: आज डीजीपी, डीपी और भाजपा की टीम आई

Leave a Reply