संस्कृत शिक्षा परिषद के नियमों के अनुरुप ही करायें मूल्यांकन: डीआईओएस

बैठक में उपस्थित प्रधानाचार्य, केंद्र प्रभारी और डीआईओएस।

बदायूं स्थित संस्कृत बोर्ड परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन संबंधी बैठक जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार ने नेकपुर स्थित वेदामऊ विद्यापीठ संस्कृत महाविद्यालय में ली। बैठक में समस्त माध्यमिक तथा महाविद्यालयों के शिक्षकों ने प्रतिभाग किया। डीआईओएस ने शिक्षकों से परिषद द्वारा स्वीकृत नियमों के अनुसार मूल्यांकन कार्य करने के निर्देश दिये।

डीआईओएस ने शिक्षकों और तथा मूल्यांकन केन्द्र प्रभारी को संस्कृत शिक्षा परिषद के स्वीकृत नियमों के अनुरुप ही मूल्यांकन कार्य कराए जाने को कहा। उन्होंने कहा कि किसी भी परीक्षार्थी के साथ अन्याय न हो सके, उनकी योग्यता का समुचित मूल्यांकन किया जाये। परीक्षकों को अपेक्षित सभी सुविधाएं नियमानुसार प्रदान की जाएं। मूल्यांकन कार्य नियत अवधि में पूरा कराया जाये। उन्होंने समस्त प्रधानाचार्यों को अपने-अपने विद्यालयों के सभी परीक्षकों को मूल्यांकन केन्द्र पर समय से उपस्थित होने हेतु कार्य मुक्त करने को आदेशित किया। जिला विद्यालय निरीक्षक ने मूल्यांकन केन्द्र की व्यवस्थाओं को निरीक्षित कर संतोष व्यक्त किया। इस दौरान शिक्षकों ने डीआईओएस के मार्ग दर्शन की सराहना की और मूल्यांकन कार्य में पूर्ण सहयोग हेतु आश्वस्त किया।

विदित रहे कि विगत वर्षों में यह संस्कृत महाविद्यालय मूल्यांकन केन्द्र संचालित कर चुका है और इसकी व्यवस्थाएं सराहनीय रही हैं। इस केन्द्र पर वर्ष 2017 के मूल्यांकन कार्य हेतु लगभग 12 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं। इस अवसर पर प्रमोद संस्कृत महाविद्यालय सहसवान से हरिशंकर मिश्र, सनातन धर्म संस्कृत महाविद्यालय से हरिशरण उपाध्याय, संस्कृत महाविद्यालय वेदामऊ वैदिक विद्यापीठ के प्राचार्य/मूल्यांकन केन्द्र के उपनियंत्रक वेदमित्र आर्य, हिन्दी संस्कृत धार्मिक पाठशाला गरुईया से नत्थू लाल गंगवार, संस्कृत विद्या मंदिर उझानी से भगवान सिंह पाली, हतसा से तारकेन्दु विकलांग आदि उपस्थित रहे।

(गौतम संदेश की खबरों से अपडेट रहने के लिए एंड्राइड एप अपने मोबाईल में इन्स्टॉल कर सकते हैं एवं गौतम संदेश को फेसबुक और ट्वीटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

Leave a Reply