दलितों का विकास करने की जगह बनाये स्मारक: अखिलेश

जनसभा को संबोधित करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।
जनसभा को संबोधित करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज मुजफ्फरनगर जनपद में विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुजफ्फरनगर में 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति दी जायेगी। उन्होंने कहा कि शामली में भी शीघ्र 24 घण्टे बिजली मुहैय्या करायी जायेगी। उन्होंने जनपद में स्थित राजकीय पाॅलीटेक्निक का नाम पूर्व उप मुख्यमंत्री स्वर्गीय बाबू नारायण सिंह के नाम पर करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों के मूल्य का पूर्ण भुगतान शीघ्र सुनिश्चित करवाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने पूर्व उप मुख्यमंत्री स्वर्गीय बाबू नारायण सिंह की 29वीं पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान पूर्व सांसद स्वर्गीय संजय चौहान की प्रतिमा का भी अनावरण किया। उन्होंने नुमाइश स्थल का सौन्दर्यीकरण कराये जाने की घोषणा की। श्री यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार ने सत्ता में आने के बाद से ही विकास के लिए लगातार प्रयास किये हैं, जिसके चलते प्रदेश में बड़े पैमाने पर विकास कार्य हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष- 2012 में जब समाजवादी सरकार सत्ता में आयी, तो परिस्थितियां बहुत कठिन थीं। विकास कार्य रुक चुके थे, लोगों को स्वास्थ्य जैसी आवश्यक सेवाएं नहीं मिल रही थीं। पिछली सरकार ने सिर्फ पत्थरों के स्मारक बनवाने का कार्य किया, जिसका कोई लाभ गरीबों, मजदूरों और दलितों को नहीं मिला। स्मारकों में लगाया गया पैसा यदि दलितों और गरीबों के उत्थान में, उन्हें शिक्षित और सक्षम बनाने में उपयोग किया जाता, तो आज प्रदेश की तस्वीर ही दूसरी होती। समाजवादी सरकार ने धरातल पर काम किया है और अपनी योजनाओं को किसानों, गरीबों व मजदूरों तक पहुंचाया है। श्री यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार ने सत्ता में आते ही प्रदेश के चहुंमुखी विकास पर अपना ध्यान केन्द्रित करने के साथ-साथ स्वास्थ्य सेवाओं पर भी फोकस किया। पिछले 4 सालों के दौरान सरकार ने समाज के सभी वर्गाें को विकास का लाभ देने का प्रयास किया है। गरीबों, महिलाओं, छात्र-छात्राओं, शिक्षकों, व्यापारियों, अल्पसंख्यकों के अलावा दलितों के कल्याण के लिए राज्य सरकार द्वारा विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं लागू की गयीं, जिनका भरपूर लाभ सभी को मिला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में लोगों को निःशुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है, जिसका लाभ बड़े पैमाने पर लोगों को मिला है। सभी सरकारी अस्पतालों में निःशुल्क दवाएं तथा जांचें मरीजों के लिए उपलब्ध हैं। इसके अतिरिक्त, ‘108’ समाजवादी स्वास्थ्य सेवा तथा ‘102’ नेशनल एम्बुलेंस सर्विस के अन्तर्गत मरीजों को अस्पताल ले जाने और वापस पहुंचाने की सुविधा निःशुल्क उपलब्ध करायी जा रही है। सरकार की इस योजना का लाभ बड़े पैमाने पर दूर-दराज क्षेत्रों में भी लोगों को मिल रहा है। इन सेवाओं की चारों ओर प्रशंसा हो रही है। श्री यादव ने कहा कि कई लोग ‘डिजिटल इण्डिया’ की बातें बड़े जोर-शोर से करते हैं। प्रदेश की समाजवादी सरकार ने इसके महत्व को बहुत पहले पहचान लिया था और छात्र-छात्राओं को निःशुल्क लैपटाॅप उपलब्ध कराने की योजना पूर्व में ही लागू कर दी थी। इसके अन्तर्गत अब तक 17 लाख निःशुल्क लैपटाॅप वितरित किये जा चुके हैं। इसके अलावा, बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राज्य में कन्या विद्या धन योजना लागू की गयी है। यही नहीं प्रदेश में नये मेडिकल काॅलेज, इंजीनियरिंग काॅलेज तथा अन्य उच्च शिक्षण संस्थान स्थापित किये गये हैं, जिससे प्रदेश के विद्यार्थियों को प्रदेश में ही उच्च शिक्षा मिल रही है।मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की अवस्थापना सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। सड़कों का चौड़ीकरण करवाया जा रहा है, जिला मुख्यालयों को 4-लेन मार्गाें से जोड़ा जा रहा है। प्रदेश के कई जनपदों में नयी सड़कों का निर्माण चल रहा है, जबकि पुरानी सड़कों का सुदृढ़ीकरण तथा चौड़ीकरण करवाया जा रहा है। बड़ी संख्या में पुलों, आर. ओ. बी. तथा फ्लाई ओवर का निर्माण करवाया गया है। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे, जो देश का सबसे लम्बा एक्सप्रेस-वे होगा, का तेजी से निर्माण करवाया जा रहा है। इसके अतिरिक्त, लखनऊ में मेट्रो रेल परियोजना का निर्माण कार्य चल रहा है, जबकि कानपुर, मेरठ, वाराणसी इत्यादि कई अन्य शहरों में भी मेट्रो चलाने का प्रयास किया जा रहा है। श्री यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार द्वारा गरीबों की मदद करने के उद्देश्य से अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं अपने संसाधनों से संचालित की जा रही हैं। समाजवादी पेंशन योजना देश की सबसे बड़ी कल्याणकारी योजना है, जिसके अन्तर्गत गरीब परिवारों की महिला मुखिया को 500 रुपये की धनराशि हर महीने उसके खाते में सीधे पहुंचायी जा रही है। इस वर्ष 55 लाख परिवारों को इस योजना से लाभान्वित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने किसानों की मदद के लिए भी कई योजनाएं लागू की हैं। किसानों को राज्य सरकार द्वारा निःशुल्क सिंचाई की सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। नहरों की सफाई करवाकर टेल तक पानी की उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है। इसके अलावा, कृषक दुर्घटना बीमा योजना के अन्तर्गत आश्रित परिवारों को 5 लाख रुपये की सहायता उपलब्ध करायी जा रही है। किसानों को बीज, खाद तथा कीटनाशकों की आसानी से उपलब्धता भी सुनिश्चित की जा रही है। कामधेनु योजना जैसी योजनाओं से जहां एक ओर दुग्ध उत्पादन बढ़ रहा है, वहीं दूसरी ओर इससे किसानों की आय में भी वृद्धि हो रही है। राज्य सरकार किसानों की खुशहाली और समृद्धि के सारे प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार नौजवानों को बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध करा रही है। कौशल विकास मिशन के अन्तर्गत लोगों को प्रशिक्षित कर रोजगार मुहैय्या कराया जा रहा है। इसके अतिरिक्त, नौजवानों को बड़े पैमाने पर सरकारी नौकरियां भी मुहैय्या करायी जा रही हीं। राज्य सरकार मजदूरों की सुविधा के लिए उन्हें निःशुल्क साइकिलें उपलब्ध करा रही है। इससे मजदूरों को अपने कार्यस्थल तक जाने और वहां से वापस लौटने में काफी सुविधा होगी और उनके समय की बचत भी होगी। साथ ही, उनका स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश की विद्युत व्यवस्था ठीक करने पर लगातार ध्यान दिया है, जिसके चलते प्रदेश की विद्युत आपूर्ति पहले से बहुत बेहतर हो गयी है। प्रदेश में बड़ी संख्या में नये विद्युत सब-स्टेशनों की स्थापना करवायी गयी है। कई नये बिजली घर स्थापित किये गये हैं, जबकि कई की स्थापना पर कार्य चल रहा है। इसके चलते प्रदेश का विद्युत उत्पादन पहले से बढ़ा है। बिजली की कमी को दूर करने के लिए राज्य सरकार विभिन्न उत्पादक इकाइयों से बिजली खरीद रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार आने वाले समय में प्रदेश से विद्युत संकट समाप्त करने की दिशा में कार्य कर रही है।

इस अवसर पर श्री यादव ने जनपद मुजफ्फरनगर के विकास से सम्बन्धित लगभग एक हजार करोड़ रुपये की योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने जिन प्रमुख योजनाओं का लोकार्पण किया उनमें हिण्डन नदी/ग्राम बुड्ढा खेड़ा एवं कसौली के बीच निर्मित सेतु, ढिढावली व सावटू के बीच हिण्डन नदी पर निर्मित पुल, ग्राम मोलाहेड़ी के निकट काली नदी पर निर्मित सेतु, मुजफ्फरनगर थाना भवन मार्ग पर हिण्डन नदी पर नवनिर्मित सेतु, बहादुरपुर, कल्याणपुर तथा कवाल में निर्मित राजकीय इण्टर काॅलेज, चर्थावल में निर्मित माॅडल स्कूल इत्यादि शामिल हैं। जिन परियोजना का शिलान्यास किया गया, उनमें मुजफ्फरनगर-सहारनपुर वाया देवबन्द मार्ग (एस. एच.- 59) की 4-लेनिंग विद पेव्ड सोल्डर, सरकुलर रोड के सुधार हेतु बी. एम. एवं एस. डी. बी. सी. का कार्य, बघरा में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निर्माण, खतौली में ट्राॅमा सेण्टर का निर्माण, दूधली में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का निर्माण, जिला महिला चिकित्सालय में 100 शैय्या मैटरनिटी विंग के भवन का निर्माण, ग्राम खाईखेड़ा में पेयजल योजना की स्थापना इत्यादि शामिल हैं। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने समाजवादी पेंशन योजना के अन्तर्गत 7000 लाभार्थियों, राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना में 270 लाभार्थियों, लोहिया ग्रामीण आवास योजना में 430 लाभार्थियों, निःशुल्क लैपटाॅप वितरण योजना में 462 लाभार्थियों, साइकिल वितरण योजना में 1500 श्रमिकों को, मृत्यु एवं अन्त्येष्टि सहायता योजना के तहत 6 लाभार्थियों को, किसान दुर्घटना बीमा योजना में 76 किसानों को, सोलर फोटोवोल्टेइक इरीगेशन पम्प योजना में 26 किसानों को, निराक्षित महिला भरण-पोषण योजना में 650 महिलाओं को, कामधेनु योजना में 16 लाभार्थिंयों, कुक्कुट विकास योजना में 2 लाभार्थियों तथा कौशल विकास मिशन योजना के अन्तर्गत 777 लाभार्थियों को नियुक्ति-पत्र वितरित कर लाभान्वित किया। कार्यक्रम में प्रदेश के श्रम मंत्री शाहिद मन्जूर, पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री साहब सिंह सैनी, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राम सकल गुर्जर सहित विधायकगण तथा जिला-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

संबंधित लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

श्रमिक को सैनिक बना रहे हैं अखिलेश यादव

Leave a Reply