मथुरा हिंसा का एक आरोपी बदायूं जिले का, प्रशासन एलर्ट

राकेश बाबू गुप्ता
राकेश बाबू गुप्ता

मथुरा हिंसा के तार बदायूं जिले से जुड़ गये हैं मुख्य आरोपियों में से एक बदायूं जिले का है जी हाँ, राकेश बाबू गुप्ता नाम का आरोपी बदायूं जिले का मूल निवासी है, जो कुछ ही समय में धनपति हो गया है और महंगी लग्जरी गाड़ियों में घूमता नजर आता है

राकेश बाबू गुप्ता बदायूं जिले के थाना हजरतपुर क्षेत्र में स्थित छोटे से गाँव गढ़िया शाहपुर का मूल निवासी है आरोपी राकेश कुमार गुप्ता गाँव प्रसिद्धिपुर स्थित साधन सहकारी समिति का सचिव है, इसका एक मकान दातागंज में कांसपुर मार्ग पर है, साथ ही थाना सिविल लाइंस क्षेत्र में इंद्रा चौक के पास गली में भी एक मकान है

बताते हैं कि पिछले कुछ समय में राकेश पर अचानक अकूत धन दिखने लगा है महंगी लग्जरी गाड़ियों में चलता है, साथ ही कई मकान व प्लॉट खरीदे हैं लोगों को लगता था कि सहकारी समिति में घोटाले कर रहा होगा, लेकिन मथुरा में हुई हिंसा के बाद खुलासा हुआ कि राकेश बाबू गुप्ता भी रामवृक्ष यादव गैंग का सरगना हैराकेश बाबू गुप्ता यहाँ सामान्य व्यक्तियों की तरह ही रहता रहा है, जिससे कम लोग ही जानते हैं, पर अब अधिकांश लोग स्तब्ध हैं पुलिस और खुफिया विभाग के अफसर राकेश को भूखे भेड़िये की तरह खोज रहे हैं, लेकिन वह फरार बताया जा रहा है

रामवृक्ष यादव के साथ लाल घेरे में रिवाल्वर डाले चल रहा राकेश बाबू गुप्ता।
रामवृक्ष यादव के साथ लाल घेरे में रिवाल्वर डाले चल रहा राकेश बाबू गुप्ता।

बता दें कि मथुरा स्थित जवाहर बाग पर जिन लोगों का कब्जा रहा है और हाईकोर्ट ने जमीन खाली करने का जिन लोगों को आदेश दिया है, उनमें से एक नाम राकेश बाबू गुप्ता का भी है गाजीपुर जिले के गाँव रामपुर बांगसुर निवासी रामवृक्ष यादव पुत्र भोला यादव के अलावा आरएन सिंह निवासी नेगुरा जिला सीधो, चन्दन बोस निवासी पश्चिम बंगाल, हरनाथ सिंह पुत्र गंगा सागर निवासी दुसावरी, पट्टी तिरवा कन्नौज, राकेश बाबू गुप्ता पुत्र हरीराम गुप्ता निवासी सिविल लाइन बदायूं, प्रेमचंद्र पुत्र गंगा सागर निवासी पट्टी पवौरा कन्नौज, प्रेमचंद सिंह पुत्र दयाशंकर सिंह निवासी दूहरा सीकरी गोरखपुर, राजावंत कौर पुत्र निरासमल सिंह निवासी रनगाना थाना झिंझाना मुजफ्फरनगर, महीपाल सिंह पुत्र रामप्रसाद निवासी रतन मऊरानीपुर झांसी और संजीव कुमार पुत्र हरनाथ सिंह निवासी दुसावरी पट्टी तिरवा कन्नौज के नाम प्रमुख हैं 

गुरुवार को हुई हिंसा में राकेश बाबू गुप्ता भी संलिप्त बताया जा रहा है घटना के बाद खुफिया विभाग के अफसरों ने बदायूं का दौरा कर राकेश की लोकेशन पता करने का प्रयास किया, पर वह यहाँ नहीं मिला राकेश को लेकर बदायूं जिले के पुलिस-प्रशासन को भी एलर्ट कर दिया गया है

संबंधित लेख पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

मथुरा के माथे पर कंस की तरह रामवृक्ष यादव ने लगाया कलंक

Leave a Reply