सेबी कर सकेगी सहारा की संपत्ति जब्त: सुप्रीम कोर्ट

सेबी कर सकेगी सहारा की संपत्ति ज़ब्त: सुप्रीम कोर्ट
सेबी कर सकेगी सहारा की संपत्ति ज़ब्त: सुप्रीम कोर्ट

सेबी की याचिका पर फैसला देते हुए उच्चतम न्यायालय ने कहा कि, सेबी सहारा समूह की संपत्ति जब्त कर सकती है और बैंक अकाउंट भी सील कर सकती है। इस फैसले के बाद सहारा समूह के मालिक सुब्रत रॉय बड़ी मुश्किल में पड़ सकते हैं।

कोर्ट ने सहारा समूह को नोटिस जारी किया है जिसका जवाब देने को उन्हें दो हफ्ते का समय दिया गया है। सेबी का आरोप था कि सहारा समूह ने लाखों निवेशकों से 24000 करोड़ रुपये लिए जिसे चुकाने में वह असफल रहे। कोर्ट ने सही कार्यवाही न करने के लिए सेबी की भी आलोचना की है। सेबी को सहारा समूह द्वारा फ़ाइल किये गए एक एफिडेविट का काउंटर एफिडेविट जमा कराने के लिए कोर्ट ने दो हफ्ते का समय दिया है।

जस्टिस केएस राधाकृष्णन और जेएस खेहर की बैंच ने कहा कि, “पता नहीं कौन कोर्ट की अवमानना कर रहा है, सहारा या आप (सेबी)? आपने नोटिस पर नोटिस जारी करने के अलावा कुछ नहीं किया।” सेबी के वकील वेणुगोपाल ने पैरवी करते हुए कहा कि, हम सेबी एक्ट के प्रावधानों के चलते बैंक अकाउंट सील नहीं कर पाए। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त में ही कह दिया था कि, सहारा ग्रुप पैसे न चुका पाए तो सेबी वसूली के लिए आवश्यक कदम उठा सकती है।

सहारा ग्रुप ने अभी तक केवल 5,120 करोड़ रुपये ही जमा किये हैं। उनका कहना है कि जिन दो कंपनियों ने डिबेंचर्स जारी किये थे उनकी देनदारी केवल 2,620 करोड़ रुपये की है। इस मामले में सेबी ने पहले सिविल केस दायर किया जिसे सहारा ग्रुप ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। इसके बाद सेबी ने अपना पक्ष रखा और सुप्रीम कोर्ट ने सेबी के पक्ष में फैसला सुनाया और सेबी को वसूली में ढिलाई के लिए आड़े हाथों भी लिया।

सहारा समूह की मुश्किलों की शुरुआत तब हुई जब उसकी दो कंपनियों, सहारा इंडिया रियल एस्टेट कोर्पोरेशन और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कारपोरेशन ने लाखों निवेशकों को डिबेंचर जारी करके लगभग 24 हज़ार करोड़ रुपये उठाये। 2011 के एक रेगुलेटर ने इन्हें गैरकानूनी करार दिया। कोर्ट ने सहारा समूह को यह सारा पैसा सेबी को देने का आदेश दिया जिससे सेबी यह पैसा निवेशकों को लौटा सके।

यह पैसा देने में सहारा समूह असमर्थ रहा और अब सुप्रीम कोर्ट ने सेबी को यह अधिकार दे दिया है कि वह सहारा समूह की संपत्तियां और बैंक अकाउंट  जब्त करके यह पैसा वसूल सकती है।

Leave a Reply