सपा मुख्यालय में वरिष्ठ समाजवादियों को किया गया सम्मानित

 

सम्मान समारोह में प्रतीक चिन्ह देते सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और साथ में खड़े मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह यादव

-सपा सुप्रीमो ने याद किये गुजरे दिन

स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी और समाजवादी आन्दोलन के नायक लोकबंधु राजनारायण के जन्मदिन पर वरिष्ठ समाजवादियों को सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के हाथों सम्मानित किया गया। सपा सुप्रीमो और मुख्यमंत्री के साथ अन्य कई विशिष्ट अतिथियों ने समारोह को सम्बोधित किया।
लखनऊ में समाजवादी पार्टी के विक्रमादित्य मार्ग पर स्थित मुख्यालय पर आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने शाल और प्रतीक चिन्ह देकर दर्शन सिंह यादव, रामनरेश कुशवाहा, सहदेव सिंह गौतम, राजनाथ शर्मा, धर्मराज सिंह, मो जुमई (प्रतापगढ़), दाऊजी गुप्ता, विजयनारायण, महबूब लारी, आदि को सम्मानित किया। व्हील चेयर पर आये पूर्व मंत्री धीरेन्द्र सहाय को श्री मुलायम सिंह ने स्वंय उनके पास जाकर सम्मानित किया। विशिष्ट अतिथि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शारदा प्रताप शुक्ला, गुलशन भसीन, प्रताप सिंह जंगलिया, इमरान सिद्दीकी, अजय शेखर (राबर्टगंज) उमाशंकर मिश्र, राजमणि पाण्डेय, राधेलाल राम अवतार पाल, सत्येन्द्र राय, सतीश अग्रवाल, डा सीपी गोयल, विक्रमा राय, सुभाष उपाध्याय आदि को सम्मानित किया।
मुख्य अतिथि मुलायम सिंह यादव ने कहा कि समाजवाद के रथ को आगे बढ़ाना है, उप्र में ही इसे नहीं रूक जाना है। कुछ शक्तियॉ विरोध करने में लगी हैं। मीडिया का भी एक वर्ग विरोध में दुष्प्रचार कर रहा है। इन पर विश्वास नहीं किया जाना चाहिए। राज्य सरकार के सामने भी समस्याएं खड़ी की जाएगीं। इसलिए उप्र की सरकार को देश के हर सूबे के लिए आदर्श बनना है। हमारा लक्ष्य प्रदेश की 20 करोड़ जनता को सुविधा देना है। यादव ने आगे कहा कि, प्रदेश में बहुमत की सरकार बनी है। अखिलेश यादव की सरकार ने कई ऐतिहासिक निर्णय लिए हैं। किसानों का 50 हजार रूपए तक का कर्ज माफ कर दिया गया है। किसी सूबे ने ऐसा कदम नहीं उठाया है। लोकतंत्र सेनानियों की पेंशन 03 हजार रूपए मासिक कर दी गई है। उन्होंने कहा कि, बिना किसान की खुशहाली के देश सम्पन्न नहीं हो सकता है। किसान का बेटा ही सीमा की रक्षा करता है। गरीब का बेटा ही सेना मे जाता है और शहीद होता है।

मुलायम सिंह यादव ने राजनारायण के साथ बिताए दिनों को याद करते हुए कहा कि, राजनारायण ने जहाँ अन्याय देखा, वे उसके खिलाफ खड़े हो जाते थे। इमरजेन्सी उनकी ही वजह से लगी। वे डा लोहिया के कर्मपक्ष के प्रतिनिधि थे। वे जब अकेले रह गए थे, तब भी उन्होंने किसी की परवाह नहीं की। जब कांग्रेस की तूती बोलती थी, उन्होंने दृढ़ता से उससे लोहा लिया।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि, देश के सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश में जो होता है, वह पूरे देश में दिखाई देता है। उप्र में समाजवादियों की भरपूर मदद से पहली बार पूर्ण बहुमत की समाजवादी पार्टी की सरकार बनी है। समाजवादी विचारधारा का सरकारी काम काज में प्रभाव दिखे, इसका प्रयास हो रहा है। उन्होंने लोकतंत्र सेनानियों की सुविधाएं बढ़ाने और समाजवादियों का बड़े पैमाने पर सम्मान किए जाने का भी विश्वास दिलाया।

विशिष्ट अतिथि सांसद कुंवर रेवती रमण सिंह, पूर्व मंत्री भगवती सिंह, पूर्व महापौर डा दाऊ जी गुप्ता ने भी सभा को सम्बोधित किया। अंत में कार्यक्रम संयोजक गिरीश पाण्डेय ने राजनरायण के नाम पर जीपीओ पार्क का नाम सत्याग्रही पार्क और उनके पूर्वनिवास 98-बी दारूलशफा लखनऊ को संग्रहालय बनाए जाने की मांग की। उन्होंने सर्वप्रथम मुलायम सिंह यादव को सम्मानित करते हुऐ समाजवादियों का आव्हान किया कि वे एकजुट होकर उनके हाथ मजबूत करें और उन्हें प्रधानमंत्री बनाएं, क्योंकि वही समाजवाद के परचम को देश में लहरा रहे हैं। समारोह का आयोजन लोहिया राजनारायण स्मृति समिति ने किया।

Leave a Reply