सपा की ही रैलियों में मरने वालों के साथ हो रहा अन्याय

मृतक के रोते-विलखते परिजनों का फाइल फोटो
मृतक के रोते-विलखते परिजनों का फाइल फोटो

समाजवादी पार्टी की बरेली में 21 नवंबर को आयोजित की गई रैली में आते समय हुए हादसे में अमरोहा के चार युवाओं की मौत हो गई थी। 22 नवंबर को वरिष्ट केबिनेट मंत्री आजम खां मृतकों के अमरोहा जिले के गाँव पौरारा पहुंचे थे और शोक ग्रस्त परिवार को ढांढस बंधाते हुए उन्होंने आश्रितों को मुआवजा और नौकरी दिलाने की घोषणा की थी। इसी तरह बदायूं जिले में 20 दिसंबर को रैली आयोजित की गई, जिसमें शामिल होकर लौटते समय हुए हादसे में ट्रैक्टर सवार वीरेश नाम के युवक की मौत हो गई थी। बिल्सी थाना क्षेत्र के गाँव खैरी निवासी इस युवक के शोक ग्रस्त परिवार से अभी कोई मिलने तक नहीं पहुंचा है और न ही किसी ने जवान युवक की मौत पर मुआवजा दिलाने की घोषणा की है। हालांकि घटना वाले दिन सांसद धर्मेन्द्र यादव पहुंचे थे और निजी अस्पताल में भर्ती करा कर आये थे, पर उसकी मौत के बाद परिवार की सुध किसी ने नहीं ली है। एसडीएम बिल्सी ने बताया कि हादसे में किसी तरह का मुआवजा देने का प्रावधान ही नहीं है। मुख्यमंत्री राहत कोष से ही प्रावधान है, लेकिन उसके लिए अभी तक किसी ने प्रस्ताव ही नहीं भेजा है, जबकि मृतक के परिवार की हालत दयनीय है।

संबंधित खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लिंक

मृतक सपा कार्यकर्ताओं के परिजनों को मिलेगी नौकरी

Leave a Reply