षड्यंत्र के खेल में बेवजह मारे गये बेक़सूर भाई-बहन

घटना का खुलासा करते एसएसपी दलवीर सिंह यादव व सीओ सिटी सत्यसेन यादव, पीछे खड़े हैं हत्यारोपी
घटना का खुलासा करते एसएसपी दलवीर सिंह यादव व सीओ सिटी सत्यसेन यादव, पीछे खड़े हैं हत्यारोपी

बदायूं शहर में हुए डबल मर्डर केस का खुलासा भी सनसनीखेज ही हुआ है। सच्चाई जान कर लोग स्तब्ध हैं। पुलिस ने छः हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

उल्लेखनीय है कि सदर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला खड़सारी में 2 नवंबर की रात 67 वर्षीय रामगोपाल व 65 वर्षीय शांति देवी की किसी ने गला काट कर हत्या कर दी थी। मृतक शांति देवी विधवा थीं और अपने अविवाहित भाई रामगोपाल के पास ही रहती थीं। दोनों बेहद गरीब थे और किसी तरह पेट भरते थे, साथ ही उनकी किसी से रंजिश भी नहीं थी, जिससे हत्या के कारण को लेकर पुलिस बेहद परेशान थी, लेकिन पुलिस जांच में ही चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।

घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी दलबीर सिंह यादव ने बताया कि मोहल्ला खड़सारी का ही नईम उर्फ़ राजा एक वर्ष पूर्व मंडी समिति के सामने हुई घटना में नामजद होने के कारण जेल में बंद है। मोहल्ले के ही अकरम को फंसाने के लिए नईम द्वारा घटना को अंजाम दिया गया। उन्होंने बताया कि डाक्टर से सेटिंग कर वह खुद की बीमारी के बहाने जिला अस्पताल में भर्ती हो गया और ड्यूटी पर तैनात सिपाहियों से सेटिंग कर बाहर चला गया। रामगोपाल और शांति देवी की हत्या कर मौके पर अकरम की वोटर आईडी सहित कुछ ऐसे चिन्ह बना आया, जिससे अकरम घटना में फंस जाये। उन्होंने बताया कि नईम उसी रात अस्पताल से जेल चला गया, साथ ही घटना में उसकी मदद करने वाले छः लोग गिरफ्तार कर लिए हैं और तीन अभी फरार हैं। पकड़े गये लोगों से चाकू, पिस्टल और तमंचा बरामद हुआ है।

एसएसपी ने बताया कि नईम का साथ देने वाले सिपाही निलंबित कर दिए हैं और उनकी जांच की जा रही है, साथ ही नईम का साथ देने वाले डाक्टर के विरुद्ध कार्रवाई के लिए लिख दिया गया है। उधर सूत्रों का कहना है कि शहर में जानवर काटने वालों से नईम सालों से रंगदारी के रूप में मीठ वसूलता रहा है, जो संभल वगैरह होते हुए विदेश तक जाता है। नईम के जेल में होने के कारण यह रंगदारी अब अकरम वसूल रहा है, जिससे नईम उसे फंसाना चाह रहा था, इसके अलावा मृतकों का कोई वारिश नहीं है, जिससे उनके घर की जमीन पर कब्जा करने का भी इरादा रहा होगा। षड्यंत्र के इस खेल में दोनों बेक़सूर बहन-भाई बेवजह ही मारे गये।

संबंधित खबर पढ़ने के लिए लिंक क्लिक करें

बुजुर्ग भाई-बहन की गला रेत कर सनसनीखेज हत्या

One Response to "षड्यंत्र के खेल में बेवजह मारे गये बेक़सूर भाई-बहन"

  1. Ratan singh   November 9, 2013 at 7:42 AM

    जागरण ने जो इस मामले में स्टोरी बनाई उस पर जागरण को ढेर सारी गालियाँ देने का मन कर रहा है !!

    Reply

Leave a Reply