शिक्षित व स्वस्थ नागरिकों वाला देश ही मजबूत होता है : मुलायम

  • उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान की स्थापना से रोगियों को बेहतर इलाज की सुविधा प्राप्त होगी : मुख्यमंत्री
 
  • मुख्यमंत्री ने लखनऊ में उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान तथा अवध शिल्प-ग्राम का शिलान्यास किया
पौधारोपण करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, शिवपाल यादव व अन्य मंत्रीगण
पौधारोपण करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, शिवपाल यादव व अन्य मंत्रीगण
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि लखनऊ में उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान की स्थापना से कैंसर के रोगियों को एक स्थान पर बेहतर इलाज की सुविधा प्राप्त होगी। इस सुविधा से गरीब वर्ग के लोगों को विशेष रूप से लाभ मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि अवध शिल्प-ग्राम के माध्यम से प्रदेश के तमाम हस्त शिल्प को संरक्षण प्राप्त होगा।
मुख्यमंत्री आज यहां चक गंजरिया में उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान तथा अवध शिल्प-ग्राम के शिलान्यास के अवसर पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। कैंसर संस्थान चक गंजरिया प्रक्षेत्र में तथा शिल्प-ग्राम उ0प्र0 आवास एवं विकास परिषद की अवध विहार योजना में स्थापित किया जाएगा। इस मौके पर पूर्व केन्द्रीय रक्षा मंत्री एवं सांसद मुलायम सिंह यादव सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री तथा मुलायम सिंह यादव ने चक गंजरिया प्रक्षेत्र में आयोजित वृक्षारोपण कार्यक्रम में पौधे भी रोपित किए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान की आधार शिला रखकर राज्य सरकार ने जनता से विधान सभा चुनाव में किए गए एक और वादे को पूरा कर दिया है। उन्होंने कहा कि कैंसर जैसे गम्भीर रोग के उपचार के लिए राज्य के लोगों को दूसरे प्रदेशों में जाना पड़ता है। इस संस्थान के शुरू हो जाने पर प्रदेश की जनता को कैंसर के इलाज के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा, बल्कि अन्य राज्यों के रोगी भी अपना उपचार यहां पर करा सकेंगे। उन्होंने अधिकारियों को कैंसर संस्थान को जल्द से जल्द तैयार कराने के निर्देश दिए।
श्री यादव ने कहा कि प्रदेश के हस्तशिल्प को प्रोत्साहित व संरक्षित करने के उददेश्य से राज्य सरकार द्वारा अवध शिल्प-ग्राम की स्थापना का निर्णय लिया गया। यहां पर हस्तशिल्प के प्रदर्शन व विक्रय की सुविधा उपलब्ध होगी। इससे शिल्पकार अपनी कला के सृजन से आर्थिक रूप से मजबूत होंगे तथा प्रदेश के विकास में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकेंगे। उन्होंने मुलायम सिंह यादव को उनके जन्मदिन पर अपनी ओर से तथा राज्य सरकार एवं पार्टी की ओर से बधार्इ भी दी।
पूर्व केन्द्रीय रक्षा मंत्री एवं सांसद मुलायम सिंह यादव ने कहा कि कैंसर की बीमारी तेजी से फैल रही है, इसलिए इसके समुचित उपचार की व्यवस्था किया जाना आवश्यक है। राज्य सरकार ने उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान की स्थापना करने का ऐतिहासिक फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि वे चाहते हैं कि इस संस्थान की स्थापना का कार्य प्राथमिकता पर किया जाए, ताकि रोगियों को इसका लाभ शीघ्र मिल सके।
श्री यादव ने कहा कि इतिहास गवाह है कि दुनिया के उन देशों ने ही विकास किया, जिन्होंने शिक्षा व स्वास्थ्य पर भरपूर ध्यान दिया। शिक्षित तथा स्वस्थ नागरिकों वाला देश ही मजबूत होता है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि प्रदेश सरकार शिक्षा तथा स्वास्थ्य के क्षेत्रों पर पूरा ध्यान दे रही है।
मुख्य सचिव जावेद उस्मानी ने अपने सम्बोधन में कहा कि उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान के शिलान्यास से राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी चक गंजरिया परियोजना (सी.जी. सिटी) का शुभारम्भ हो गया है। आने वाले समय में यहां पर अन्य परियोजनाओं की भी शुरूआत की जाएगी, जिनमें आर्इ.टी. सिटी, ट्रिपल आर्इ.टी., प्रशासनिक प्रशिक्षण संस्थान तथा पी.पी.पी. के आधार पर निर्मित होने वाला अस्पताल शामिल है। ये समस्त परियोजनाएं लखनऊ व राज्य के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी। उन्होंने बताया कि कैंसर संस्थान, रोग के उपचार के साथ ही शोध का केन्द्र भी होगा। यह संस्थान चिकित्सकों के लिए शिक्षण एवं प्रशिक्षण केन्द्र के तौर पर भी कार्य करेगा तथा इसे अखिल भारतीय रिफरल सेण्टर के रूप में विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 100 एकड़ भूमि में विकसित होने वाले कैंसर संस्थान के भवन को सिग्नेचर बिलिडंग के रूप में निर्मित किए जाने का निर्णय लिया गया है।
प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा जे.पी. शर्मा ने स्वागत सम्बोधन में बताया कि कैंसर संस्थान के पहले चरण में 500 शैय्या की व्यवस्था की जाएगी, जिसका भविष्य में विस्तार कर 1000 शैय्या का बनाया जाएगा। यह संस्थान मेडिसिन, सर्जरी तथा रेडिएशन के एकीकृत इलाज की सुविधा कैंसर रोगियों को उपलब्ध कराएगा। पहला चरण पूर्व रूप से संचालित होने पर संस्थान में प्रतिवर्ष लगभग दस हजार से अधिक कैंसर रोगियों का उपचार किया जाना संभव हो सकेगा। उन्होंने बताया कि पिछले 100 वर्षों में प्रदेश के विभिन्न राजकीय मेडिकल कालेजों एवं चिकित्सा संस्थानों में एम.बी.बी.एस. की कुल 1140 सीटे ही उपलब्ध हो सकी थी। वर्तमान सरकार के डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में एम.बी.बी.एस. की पढ़ार्इ के लिए 500 सीटों की वृद्धि हुर्इ, जो एक उल्लेखनीय उपलब्धि है।
प्रमुख सचिव आवास एवं सूचना सदाकान्त ने कार्यक्रम के समापन अवसर पर धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि चक गंजरिया परियोजना, गोमती नगर विस्तार तथा अवध विहार योजना के विकास से आगामी दस वर्षों में इस इलाके की विशिष्ट पहचान बनेगी। उन्होंने कहा कि अवध शिल्प-ग्राम परियोजना प्रदेश के शिल्पकारों के लिए अत्यन्त उपयोगी साबित होगी। उन्होंने कहा कि शिलान्यास की गर्इं दोनों परियोजनाओं का क्रियान्वयन राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप समयबद्ध ढंग से पूरी लगन व मेहनत से किया जाएगा। इस अवसर पर प्रदेश सरकार के मंत्री शिवपाल सिंह यादव, अहमद हसन, राम गोविन्द चौधरी, अमिबका चौधरी, अवधेश प्रसाद, राजेन्द्र चौधरी, ओमप्रकाश सिंह, दुर्गा प्रसाद यादव, सुरेन्द्र सिंह पटेल, राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष नवीन चन्द्र बाजपेयी, सांसद सुशीला सरोज, विधायक चन्द्रा रावत तथा शारदा प्रताप शुक्ला, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री राकेश गर्ग, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रवीर कुमार, मुख्यमंत्री के परामर्शी आमोद कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी जगदेव सिंह, सूचना निदेशक प्रभात मित्तल सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद रहे।

Leave a Reply