लंबित प्रकरणों पर मुख्यमंत्री गंभीर, शाहजहांपुर फिसड्डी

  • मुख्यमंत्री ने प्रतापगढ़, फैजाबाद, चित्रकूट, सम्भल तथा शाहजहांपुर में तहसील दिवस के सर्वाधिक लम्बित प्रकरणों को गम्भीरता से लिया
  •  
  • शिथिलता बरतने वाले उपजिलाधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई कर शासन को अवगत कराने के निर्देश
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जनपद प्रतापगढ़, फैजाबाद, चित्रकूट, सम्भल तथा शाहजहांपुर में तहसील दिवस के सर्वाधिक लम्बित प्रकरणों को गम्भीरता से लिया है। उन्होंने इन जनपदों के जिलाधिकारियों को शिथिलता बरतने वाले उपजिलाधिकारियों के विरूद्ध विभागीय कार्रवाई कर शासन को अवगत कराने के निर्देश दिए हैं।

यह जानकारी देते हुए शासन के प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि 22 अगस्त, 2013 तक तहसील दिवस की वेबसाइट पर प्रदर्शित स्थित की समीक्षा की गई। 17.07.2012 से 16.07.2013 के बीच निस्तारण हेतु लम्बित प्रकरणों का वर्गीकरण किया गया, जिसमें सर्वाधिक उपरोक्त 05 जनपदों में तहसील दिवस के प्रकरण निस्तारण हेतु लम्बित हैं। इनमें जनपद प्रतापगढ़ में 464, फैजाबाद में 380, चित्रकूट में 374, सम्भल में 294 तथा शाहजहांपुर में 218 प्रार्थना पत्र लम्बित हैं। इसी प्रकार जनपद फैजाबाद की तहसील मिल्कीपुर में 03, रूदौली में 01, सोहावल में 02, जनपद सम्भल की तहसील गुन्नौर में 22, सदर में 08 तथा चन्दौसी में 01, जनपद शाहजहांपुर की तहसील जलालाबाद तथा सदर में 01-01, तहसील पुवायां में 10 प्रार्थना पत्र कम्प्यूटर पर फीड हैं, जिनका निस्तारण 01 माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी सम्बन्धित उपजिलाधिकारियों द्वारा नहीं किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा है कि इन आकड़ों से स्पष्ट है कि उपजिलाधिकारियों द्वारा जनशिकायतों के निस्तारण में पर्याप्त रुचि नहीं ली जा रही है। उन्होंने सम्बन्धित जनपदों के जिलाधिकारियों को निर्देशित किया है कि लम्बित प्रकरणों को अपने स्तर से समीक्षा कर त्वरित निस्तारण कराएं तथा शिथिलता बरतने वाले अधिकारियों के विरूद्ध विभागीय कार्रवाई कर शासन को अवगत कराएं। उन्होंने आगाह किया कि जनशिकायतों के निस्तारण में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply