रूहेलखंड क्षेत्र में सपा पर भारी पड़ सकती है बिजली

  • बरेली, शाहजहांपुर, पीलीभीत और बदायूं में हालात दयनीय
शाहजहांपुर में तीन दिन पूर्व महिलाओं द्वारा बिजली को लेकर जमकर प्रदर्शन किया गया, लेकिन हालात आज भी वैसे ही हैं
शाहजहांपुर में तीन दिन पूर्व महिलाओं द्वारा बिजली को लेकर जमकर प्रदर्शन किया गया, लेकिन हालात आज भी वैसे ही हैं

समूचे रूहेलखंड में बिजली समस्या को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। भीषण गर्मी और मच्छरों ने जीना दुश्वार कर रखा है, वहीं रातें जाग कर गुजारने के चलते कामकाजी पुरुषों व महिलाओं के स्वास्थ्य पर भी दुष्प्रभाव पड़ रहा है। बिजली समस्या से आम और ख़ास सभी त्रस्त हैं, इसलिए तमाम बेहतरीन योजनाओं और सामाजिक कार्यक्रमों के बावजूद समाजवादी पार्टी की सरकार पर बिजली समस्या भारी पड़ने की संभावना है।

बरेली शहर के साथ बरेली जनपद, शाहजहांपुर, वीवीआईपी कहे जाने वाले जनपद बदायूं और पीलीभीत में बिजली समस्या को लेकर त्राहि-त्राहि मची हुई है। शहरों में फिर भी टुकड़ों में दस-बारह घंटे बिजली मिल रही है, लेकिन गाँवों में हालात बेहद दयनीय हैं। ग्रामीण क्षेत्र में मुश्किल से चार-पांच घंटे बिजली आ रही है और उसका भी कोई शेड्यूल नहीं है, जिससे सिंचाई व्यवस्था पूरी तरह चौपट है। उद्योग धंधे बंद होने के कगार पर हैं। आटा चक्की और मिनी राईस मिल स्वामियों का कहना है कि महीने का बिल भरने लायक भी आमदनी नहीं हो पा रही है, इसके अलावा रात की कटौती से समाज का हर वर्ग परेशान है। बिजली न आने के कारण अधिकाँश लोग जाग कर ही रातें गुजारते देखे जा सकते हैं। भीषण गर्मी और मच्छरों से परेशान लोगों की दिनचर्या प्रभावित हो रही है और स्वास्थ्य में भी गिरावट आ रही है। इसके अलावा बिजली समस्या को लेकर कोई आंदोलन करने लगे, तो समस्या समाधान करने की जगह पुलिस की लाठी और मुकदमा मिलता है, जिससे अधिकाँश लोग मन ही मन कुढ़ रहे हैं। माना जा रहा है कि बिजली समस्या समूचे रूहेलखण्ड में समाजवादी पार्टी पर भारी पड़ सकती है, लेकिन सत्ताधारियों को अभी लोगों की भावनाओं का अहसास तक नहीं है।

Leave a Reply