राहुल की मेहनत के बावजूद त्रिपुरा से कांग्रेस साफ़

राहुल की मेहनत के बावजूद त्रिपुरा से कांग्रेस साफ़
राहुल की मेहनत के बावजूद त्रिपुरा से कांग्रेस साफ़

तीन राज्यों में हुए चुनावों के परिणाम आ गये हैं। त्रिपुरा में लाल झंडे का असर बरकरार रहा है और नगालैंड में एनपीएफ की बादशाहत बनी रहेगी, वहीं मेघालय में सत्तारूढ़ कांग्रेस की सत्ता पर मतदाताओं ने पुनः मोहर लगा दी है।

त्रिपुरा में वाम मोर्चे ने 60 सदस्यीय विधान सभा की 50 सीटों पर कब्जा कर लिया है। पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी के प्रयासों के बावजूद कांग्रेस की करारी हार हुई है, लेकिन अपनी 10 सीटें बरकरार रखी हैं, लेकिन कांग्रेस की सहयोगी नेशनलिस्ट पार्टी ऑफ त्रिपुरा का खाता भी नहीं खुला। त्रिपुरा में वाम मोर्चा 1978 से कब्जा जमाये हुए है। नगालैंड में फिर एनपीएफ विजयी घोषित हुई है। 60 सदस्यीय राज्य विधान सभा के 59 सीटों के लिए हुए चुनाव में सत्तारूढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के 37 प्रत्याशी विजयी घोषित हुए हैं, साथ ही सहयोगी दलों में भाजपा और जदयू ने भी एक-एक सीट जीतकर अपना खाता खोल लिया है। कांग्रेस को मतदाताओं ने यहाँ भी नकार दिया। कांग्रेस को मात्र 8 सीटें ही मिली हैं, जबकि कांग्रेस की अभी 18 सीटें थीं।

मेघालय में कांग्रेस ने अपनी लाज बचाने में कामयाबी हासिल कर ली है। कुल 60 सीटों में से सत्तारूढ़ कांग्रेस ने 29 सीटों पर जीत दर्ज की है। कांग्रेस को चार सीटों का लाभ हुआ है, जो बहुमत से दो सीट कम है।

चुनाव परिणाम

त्रिपुरा

——

कुल सीट- 60

माकपा- 49

भाकपा- 01

कांग्रेस- 10

नगालैंड

——–

कुल सीट- 60

चुनाव हुए- 59

एनपीएफ- 37

कांग्रेस- 08

राकांपा- 04

भाजपा- 01

जदयू- 01

निर्दल- 08

मेघालय

———

कुल सीट- 60

कांग्रेस- 29

यूडीपी- 08

एचएसपीडीपी- 04

राकांपा- 02

एनपीपी- 02

निर्दल व अन्य- 15

Leave a Reply